Sunday, Dec 5 2021 | Time 10:32 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • CCL रांची में अप्रेंटिस के 539 पदों पर नियुक्ति, आज अंतिम दिन
  • CCL रांची में अप्रेंटिस के 539 पदों पर नियुक्ति, आज अंतिम दिन
  • भारत में Omicron के चार मामले कंफर्म, झारखंड में भी नए वैरिएंट की सुगबुगाहट
  • भारत में Omicron के चार मामले कंफर्म, झारखंड में भी नए वैरिएंट की सुगबुगाहट
  • भारत में Omicron के चार मामले कंफर्म, झारखंड में भी नए वैरिएंट की सुगबुगाहट
झारखंड » रांची


RIMS: 180 रुपए का अल्ट्रासाउंड 4000 में, जाने क्यों..

करीब 25 दिनों से अल्ट्रासाउंड मशीन खराब
RIMS: 180 रुपए का अल्ट्रासाउंड 4000 में, जाने क्यों..
न्यूज11 भारत 

 

रांची: रिम्स में पिछले एक महीने से अल्ट्रासाउंड मशीन खराब पड़ी है. इस कारण मरीजों को परेशान होना पड़ रहा है. अस्पताल में रोजाना अल्ट्रासाउंड के लिए करीब 100 मरीज पहुंचते हैं. अल्ट्रासाउंड मशीन खराब होने की वजह से मरीजों को मजबूरन निजी केंद्रों पर अल्ट्रासाउंड कराना पड़ रहा है. लैब में मौजूद कर्मचारियों ने बताया कि अल्ट्रासाउंड मशीन को बनने में अभी समय लगेगा. इन मरीजों को प्राइवेट और रैन बसेरा स्थित लैब में जांच के लिए जाने की सलाह दी जाती है. हालांकि प्रबंधन को मशीन खराब होने की जानकारी दे दी गई है. अस्पताल में डॉक्टरों द्वारा अल्ट्रासाउंड लिख दिया जाता है, लेकिन जब रोगी रिम्स लैब में स्थित अल्ट्रासाउंड केंद्र पर पहुंचते हैं, तो मशीन खराब होने की जानकारी मिलती है. 




मूलभूत सुविधा देने में प्रबंधन फेल

स्वास्थ्य विभाग मरीजों को बेहतर सुविधा देने के मकसद से रिम्स में नए विभागों को शुरू करने की प्रक्रिया चल रही है. साथ ही नए मशीनों की खरीदारी भी हो रही है. वहीं, बीते कुछ समय में कई नई सुविधाओं की भी शुरुआत हुई है. लेकिन 25 दिनों से अल्ट्रासाउंड मशीन खराब पड़ी हुई है, इसके बाद भी कोई सुध लेने वाला नहीं है. ऐसे में सोचने वाली बात है जहां स्वास्थ्य विभाग मरीजों को सुपरस्पेशलिटी के तर्ज पर सुविधा देने की कोशिश कर रहा है, वहीं दूसरी तरफ अस्पताल में मौजूदा मूलभूत सुविधाओं का लाभ भी मरीजों को नहीं मिल रहा है.

 


 

कई मरीज घर लौटने को मजबूर

प्राइवेट संस्थानों में अल्ट्रासाउंड जांच कराने की मोटी रकम वसूली जाती है. जबकि रिम्स में अल्ट्रासाउंड मात्र ₹180 से लेकर 500 तक में पूरी जांच हो जाती है .वहीं प्राइवेट में करीब 800-4000 रुपए तक खर्च हो जाते हैं. यह रकम गरीब मरीजों के लिए काफी बड़ी है और कई मरीज कितने पैसे देने की स्थिति में नहीं होते हैं. वैसे मरीज बिना जांच करवाएं ही घर वापस लौटने को मजबूर हो रहे हैं. चतरा से आए गिरीशंकर ने बताया कि उन्हें थॉयराइड की समस्या है. डॉक्टर ने अल्ट्रासाउंड बताया था. एक हफ्ते पहले भी यहां जांच के लिए आया था लेकिन मशीन खराब होने की वजह से घर लौट गया. आज फिर आया हूं पर फिर से मशीन खराब होने की बात कर्मचारियों ने बताई. मेरे पास इतने पैसे नहीं है कि मैं अल्ट्रासाउंड प्राइवेट में जा सकू, मशीन ठीक होने के इंतजार करने के सिवा कोई उपाय नहीं है.

 

अल्ट्रासाउंड मशीन खराब होने की वजह से जांच का लोड रिम्स स्थित हेल्थ मैप पर पड़ा है. क्योंकि मरीज जांच के लिए बड़ी संख्या में यहां पहुंच रहे हैं. इससे हेल्थ मैप में जांच के लिए काफी लोड पड़ा है. लोड अधिक पड़ने की वजह से यहां नए मरीजों के लिए रजिस्ट्रेशन की सुविधा को कुछ दिनों के लिए बंद कर दी गई है. हेल्थ मैप में रजिस्ट्रेशन बंद होने से मरीजों के पास सिवाय निजी केंद्रों में जाने के अलावा कोई ऑप्शन नहीं बचा है.
अधिक खबरें
झारखंड में लॉकडाउन से सम्बंधित फेक ट्वीट पर सीएमओ ने लिया संज्ञान
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 10:59 PM

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के ट्विटर के फेक अकाउंट से झारखंड में लॉकडाउन से सम्बंधित फेक खबर वायरल किया जा रहा था. जिसे सीएमओ ने फर्जी बताया है तथा मामले पर संज्ञान लेकर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है.

कांके  MLA की विधायकी पर संकट
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 9:34 PM

कांके MLA समरी लाल की विधायकी पर संकट छाया हुआ है. बताते चले कि समरी लाल वर्तमान में कांके विधानसभा के क्षेत्र के अनुसूचित जाति कोटे से विधायक हैं. लेकिन, वे जिस वाल्मीकि/भंगी जाति से सम्बंधित हैं, वो जाति झारखंड की अनुसूचित जातियों की सूची में दर्ज नहीं है. रांची शहर और बड़गाई अंचल के अंचलाधिकारी की रिपोर्ट और जाति छानबीन समिति के अनुसार समरी लाल राजस्थान से आकर यहां बसने वाले अनुसूचित जाति से हैं.

स्वास्थ्य संबंधित जानकारी के लिए कॉल करें 104
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 8:17 PM

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन झारखण्ड के माध्यम से जनता को उचित चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध करवाने के लिए टोल फ्री नंबर “104 – हेल्थ हेल्पलाइन” सेवा प्रारंभ की गई है. आम नागरिक 24 घण्टे कहीं से भी इस नंबर पर फोन करके डॉक्टर की सलाह, काउंसलिंग, स्वास्थ्य केंद्रों की जानकारी और आयुष्मान भारत योजना से होने वाली परेशानियों से संबंधित शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

'मानसिक स्वास्थ्य की पहचान पर जोर देने की है आवश्यकता'
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 7:42 PM

मनश्चिकित्सीय सामाजिक कार्य विभाग, सीआईपी, रांची के माध्यम से जेएपी सभागार (अनीश गुप्ता, कमांडेंट) में झारखंड सशस्त्र पुलिस, बटालियन 1 के लिए मानसिक स्वास्थ्य साक्षरता पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला के आरंभ में स्वागत भाषण और मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों, शारीरिक स्वास्थ्य, जेएपी के परिवारों की भलाई के महत्व के बारे में बताया गया. उन्होंने जेएपी में आने और कार्यशाला आयोजित करने में सीआईपी निदेशक और उनकी टीम द्वारा लिए गए समय की बहुत सराहना की.

कोल ब्लॉकों में 75% मानव बल राज्य के हों करें सुनिश्चित: हेमंत सोरेन
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 6:15 PM

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से आज कांके रोड रांची स्थित मुख्यमंत्री आवासीय कार्यालय में केंद्रीय खान मंत्रालय के अपर सचिव एम. नागराजू ने मिलाकर झारखंड राज्य में अवस्थित 29 कोल ब्लॉकों को चालू करने के संबंध में बैठक की. बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि राज्य के 29 कोल ब्लॉकों में से 3 कोल ब्लॉक में पहले से ही उत्खनन कार्य प्रारंभ है तथा आने वाले कुछ महीनों में केंद्र एवं राज्य सरकार के संयुक्त प्रयास से केरेडारी, चट्टी बरियातू, बदाम, तुबेद, टोकीसूद एवं लोहारी कोल ब्लॉक में उत्खनन कार्य शीघ्र ही चालू हो सकेगा.