Monday, May 23 2022 | Time 19:54 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
स्वास्थ्य


सुप्रीम कोर्ट ने दिया कोविड टीकाकरण को लेकर अहम निर्देश

कुछ राज्य सरकारों और संगठनों ने वैक्सीन नहीं लगवानावे लोगों को सार्वजनिक स्थानों से जाने से रोका था
सुप्रीम कोर्ट ने दिया कोविड टीकाकरण को लेकर अहम निर्देश

न्यूज 11, भारत


रांची:  सुप्रीम कोर्ट ने कोविड टीकाकरण को लेकर सोमवार को अहम निर्देश दिया. कोर्ट ने कहा कि किसी को टीकाकरण के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता. इसके साथ ही शीर्ष कोर्ट ने टीकाकरण के दुष्प्रभाव का ब्योरा सार्वजनिक करने का भी निर्देश दिया. कुछ राज्य सरकारों व संगठनों द्वारा वैक्सीन नहीं लगवाने वाले लोगों पर सार्वजनिक स्थानों पर प्रवेश को लेकर लगाई गई शर्तें आनुपातिक नहीं हैं.  मौजूदा परिस्थितियों में इन्हें वापस लिया जाना चाहिए. शीर्ष कोर्ट ने कहा कि किसी व्यक्ति को टीकाकरण के लिए विवश नहीं किया जा सकता. वह इस बात से भी संतुष्ट है कि मौजूदा टीकाकरण नीति को अनुचित व मनमानी भी नहीं कहा जा सकता है.


ये भी पढ़े: रमज़ान महीने के बाद मनाई जाती है ईद, जानें इतिहास और महत्व


सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि सरकार व्यापक जन हित में नीति बना सकती है और कुछ शर्तें थोप सकती है. केंद्र को कोविड-19 टीकाकरण के प्रतिकूल प्रभावों संबंधी डाटा को सार्वजनिक करने का भी निर्देश दिया. जस्टिस एल. नागेश्वर राव व जस्टिस बीआर गवई की पीठ ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत शारीरिक स्वतंत्रता और अखंडता की रक्षा की गई है. जब तक कोविड केसों की संख्या कम है, हम सुझाव देते हैं कि टीके नहीं लगवाने वाले लोगों के सार्वजनिक स्थानों पर प्रवेश पर पाबंदियां नहीं लगाई जाना चाहिए और यदि लगाई गई हों तो उन्हें वापस लिया जाना चाहिए. शीर्ष अदालत ने केंद्र सरकार से कहा कि वह निजी डाटा की गोपनीयता से समझौता किए बगैर टीकों के दुष्प्रभाव की घटनाओं को लेकर जनता और डॉक्टरों से प्राप्त रिपोर्ट सार्वजनिक रूप से उपलब्ध प्रणाली पर प्रकाशित करे. अदालत ने जैकब पुलियेल द्वारा दायर एक याचिका पर फैसला सुनाया. इसमें कोविड-19 टीकों और टीकाकरण के बाद के मामलों के नैदानिक परीक्षणों संबंधी डाटा को सार्वजनिक करने का निर्देश देने की मांग की गई थी. शीर्ष कोर्ट ने कहा कि हमारे ये ताजा आदेश कोविड की मौजूदा परिस्थितियों के मद्देनजर है. महामारी तेजी से बदलने वाली स्थिति होती है. इसलिए हमारी टिप्पणी व सुझाव वर्तमान स्थिति के मद्देनजर हैं.

अधिक खबरें
PM मोदी: चौथे लहर से बचाव के लिए टीकाकरण ही कवच, पढ़िए और क्या कहा
अप्रैल 27, 2022 | 27 Apr 2022 | 1:43 PM

कोरोना के चौथी लहर की आशंका को देखते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी राज्य के मुख्यमंत्रियों के साथ मंथन कर रहे है. इस संवाद में पीएम नरेंद्र मोदी के द्वारा विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री को कहा कि कोरोना को अभी भी गंभीरता से लेना होगा. कोरोना से बचाव के लिए मास्क का इस्तेमाल जरूरी है. हालांकि कोरोना की स्थिति अभी कण्ट्रोल में है. परंतु बीते 2 हफ़्तों में कोरोना के मरीज़ की संख्या में वृद्धि हुई है, जो कि चिंताजनक है.

14 अप्रैल से बैंड-बाजा और बाराती की धूम शुरू, पीएम नरेंद्र मोदी के नारे का नहीं हो रहा अनुपालन
अप्रैल 24, 2022 | 24 Apr 2022 | 2:52 PM

राजधानी रांची समेत देश भर में 14 अप्रैल से बैंड बाजा और बाराती की धूम फिर से मचनी शुरू हो गयी है. कोरोना गाइडलाइंस के तहत राजधानी रांची में 500 से अधिक लोग विवाह और इससे जुड़ी पार्टियों में शामिल हो रहे हैं. साथ ही मांगलिक कार्य जैसे शादी, विवाह, यज्ञोपवीत संस्कार आदि कार्य भी होने शुरू हो गये हैं. बैंक्वेट हॉल, होटलों और अन्य सामुदायिक भवनों में विवाहोत्सव का तामझाम कम नहीं है. वर और वधु पक्ष के यहां भी शहनाईयों से लेकर मांदर की ताल पर लोग नृत्य कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन की माता रूपी सोरेन का तबीयत खराब
अप्रैल 20, 2022 | 20 Apr 2022 | 4:09 AM

मुख्य मंत्री हेमन्त सोरेन की माता रूपी सोरेन को रांची के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गय़ा है. हिल व्यू अस्पताल में चिकित्सकों का दल रूपी सोरेन का इलाज कर रहा है. उनहें ब्लड प्रेशर की हुई थी समस्या. ब्लड प्रेशर के कारण उल्टी और क्मजोरी हो गयी थी. आज अस्पताल में ही डॉक्टरों की निगरानी में रहेंगे रूपी सोरेन.

सरकार ने स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया स्थगित
अप्रैल 20, 2022 | 20 Apr 2022 | 2:01 PM

झारखंड सरकार ने प्रखंडो में आयोजिय होने वाले एक दिवसीय स्वास्थ्य मेले को रद्द कर दिया है. स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा इस संबंध में पत्र जारी कर सभी ज़िलों के उपयुक्तों को आवश्यक कारवाई करने को कहा गय़ा है. पत्र के जरिये अवगत कराया गया है कि राज्य निर्वाचन आयोग के द्वारा सम्यक विचारोपरांत प्रखंड स्वास्थ्य मेला के आयोजन को स्थगित कर दिया गया है.

18 से 59 साल तक के लोगों को मुफ्त में लगाई जाएगी बूस्टर डोज, सरकार ने लिया फैसला
अप्रैल 19, 2022 | 19 Apr 2022 | 11:00 AM

कोविड वैक्सिनेशन को लेकर बिहार सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है. राज्य सरकार ने 18 साल से लेकर 59 के लोगों को बूस्टर डोज मुफ्त में मुहय्या कराने का फैसला लिया है. कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि सरकार के इस फैसले से तकरीबन 5.25 करोड़ लोगों को फायदा पहुंचेगा. राज्य कैबिनेट ने सोमवार को 1314.15 करोड़ की स्वीकृति दे दी है.