Monday, Dec 6 2021 | Time 02:12 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
स्वास्थ्य


RIMS: Medical Waste हार्ट के मरीजों के लिए बन रहा परेशानी का सबब

ग्लव्स, कॉटन समेत कई चीजें खुले में फेंका जा रहा
RIMS: Medical Waste हार्ट के मरीजों के लिए बन रहा परेशानी का सबब
न्यूज11 भारत  

 

रांची: राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट में लापरवाही बरती जा रही है. मेडिकल वेस्ट को परिसर में ही फेंका जा रहा है. रिम्स के कुछ सफाईकर्मी इसे खुले में छोड़ कर जा रहे हैं. इससे संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है, जबकि प्रबंधन द्वारा सफाई के नाम पर हर महीने लाखों रुपए फूंके जा रहे हैं.

 

हार्ट मरीजों को हो सकता है संक्रमण

हार्ट के मरीजों को सर्जरी के बाद इंफेक्शन से बचने की सलाह दी जाती है. लेकिन रिम्स के कार्डियोलॉजी विभाग में गंभीर हार्ट के मरीजों को संक्रमण हो सकता है, क्योंकि अस्पताल का मेडिकल वेस्ट कार्डियोलॉजी विभाग के पीछे ही खुले फेंका गया है.

 

ग्लव्स, कॉटन समेत कई चीजें खुले में 

रिम्स परिसर में यूज किए हुए कॉटन, ग्लव्स, मास्क सहित कई अन्य मेडिकल वेस्ट खुले में पड़े हैं. इन मेडिकल वेस्ट से लोगों को संक्रमित होने का खतरा बना है. अस्पताल में लगभग 1500 मरीजों का इलाज होता है. ऐसे में कई गंभीर बीमारी से ग्रसित मरीजों को संक्रमण का खतरा होता है. ऐसी हालात में मेडिकल वेस्ट को अस्पताल परिसर में खुले में फेंकना इन मरीजों के लिए खतरनाक हो सकता है. साथ ही मेडिकल वेस्ट के पास से गुजरने वाले स्वस्थ लोगों को भी संक्रमण का खतरा बना रहता है.

 


 

तय सिस्टम से नष्ट करना अनिवार्य

अस्पताल से निकला हुआ मेडिकल वेस्ट यानी कचरा, मरहम-पट्टी, डिस्पोजल, ग्लव्स, कॉटन, सिरिंज सहित अन्य सामान को तय सिस्टम से नष्ट करना है. शासन ने इसके लिए स्पष्ट गाइडलाइन जारी किया है. अस्पतालों में विभिन्न वेस्ट मटेरियल के लिए अलग-अलग रंग के डस्टबिन रखने हैं, इतना ही नहीं, इन कचरों को सिस्टमेटिक ढंग से नष्ट भी करना है. सिरिंज को प्रापरली यंत्र में जलाकर नष्ट करना है.

 

अस्पताल में मेडिकल वेस्ट इंसीनरेटर की है सुविधा

रिम्स में हर दिन 600 किलो से ज़्यादा मेडिकल वेस्ट निकलता है. ऐसे में प्रबंधन के पास मेडिकल वेस्ट को डैमेज करने के लिए मेडिकल वेस्ट इंसीनरेटर की सुविधा भी है. लेकिन डिस्पोजल को लेकर सफाई कर्मचारी गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं. मेडिकल वेस्ट इंसीनरेटर तक लेकर जाने के बजाय कैंपस में ही इधर उधर फेंक रहे हैं.

 


 

वहीं, रिम्स प्रबंधन ने मामले को लेकर कहा कि बायो मेडिकल वेस्ट को नियमानुसार ही डिस्पोज किया जा रहा है. इसके बाद भी यदि लापरवाही बरती जा रही है, तो इसे चेक किया जाएगा और सफाई कर्ममचारियों से इस विषय में बात की जाएगी.
अधिक खबरें
भारत में Omicron के चार मामले कंफर्म, झारखंड में भी नए वैरिएंट की सुगबुगाहट
दिसम्बर 05, 2021 | 05 Dec 2021 | 7:55 AM

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से दुनिया एक बार फिर दहशत में है. ओमिक्रॉन इतना तेजी से फाल रहा है कि 10 दिन में ही दुनिया के 38 देशों में अपना पैर पसार चुका है. इन 38 देशों में भारत भी शामिल है.

स्वास्थ्य संबंधित जानकारी के लिए कॉल करें 104
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 8:17 PM

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन झारखण्ड के माध्यम से जनता को उचित चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध करवाने के लिए टोल फ्री नंबर “104 – हेल्थ हेल्पलाइन” सेवा प्रारंभ की गई है. आम नागरिक 24 घण्टे कहीं से भी इस नंबर पर फोन करके डॉक्टर की सलाह, काउंसलिंग, स्वास्थ्य केंद्रों की जानकारी और आयुष्मान भारत योजना से होने वाली परेशानियों से संबंधित शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

'मानसिक स्वास्थ्य की पहचान पर जोर देने की है आवश्यकता'
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 7:42 PM

मनश्चिकित्सीय सामाजिक कार्य विभाग, सीआईपी, रांची के माध्यम से जेएपी सभागार (अनीश गुप्ता, कमांडेंट) में झारखंड सशस्त्र पुलिस, बटालियन 1 के लिए मानसिक स्वास्थ्य साक्षरता पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला के आरंभ में स्वागत भाषण और मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों, शारीरिक स्वास्थ्य, जेएपी के परिवारों की भलाई के महत्व के बारे में बताया गया. उन्होंने जेएपी में आने और कार्यशाला आयोजित करने में सीआईपी निदेशक और उनकी टीम द्वारा लिए गए समय की बहुत सराहना की.

पीडीएस डीलर की नहीं चलेगी मनमानी, कम राशन देने पर करें इस नंबर पर शिकायत
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 10:56 AM

जन वितरण प्रणाली के दुकानदार राशन देने में आनाकानी कर रहा हो या अहर्ता से कम राशन दे रहा हो, आंगनबाड़ी केंद्रों से संबंधित पोषाहार नहीं मिल रहा हो तो अपनी बात को सीधे व्हाट्सएप पर इसकी शिकायत कर सकते हैं. इस संबंध में झारखंड राज्य खाद्य आयोग द्वारा Whatsapp नंबर जारी किया गया है.

जवाद का असर शुरूः सतही हवा 40 किलोमीटर तक प्रति घंटा चलने की संभावना, येलो Alert जारी
दिसम्बर 04, 2021 | 04 Dec 2021 | 10:38 AM

झारखंड के ज्यादातर जिलों में चक्रवात जवाद का असर दिखने लगा है. राजधानी रांची में सुबह से ही बादल छाए हुए हैं. रांची मौसम केंद्र के अनुसार 24 घंटे के अंदर तापमान में भी गिरावट होगी.