Monday, May 23 2022 | Time 20:20 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
  • विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
NEWS11 स्पेशल


टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश

पूछताछ के क्रम में कई सनसनीखेज खुलासे आये सामने
टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश
न्यूज11 भारत




रांची: टेरर फंडिंग मामले में नेशनल इनवेस्टीगेशन एजेंसी (एनआइए) महेश अग्रवाल से लगातार पूछताछ कर रही है. पूछताछ के दौरान एनआईए के सामने कई सनसनिखेज और अहम खुलासे किए गये हैं. यहां बताते चलें कि झारखंड हाईकोर्ट से टेरर फंडिंग मामले में आधुनिक पावर कंपनी के एमडी महेश अग्रवाल और ट्रांसपोटर्स अमित अग्रवाल व विनीत अग्रवाल को हाईकोर्ट ने अस्थायी जमानत याचिका को वैकेट कर दिया था. हाईकोर्ट की खंडपीठ चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने इनकी ओर से दाखिल याचिकाओं को खारिज कर दिया था. पूर्व में बहस पूरी होने के बाद अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. जिसके बाद अगले दिन एनआईए ने महेश अग्रवाल को कोलकाता के सॉल्ट लेक स्थित आवास से गिरफ्तार कर लिया था. इस मामले में विनीत अग्रवाल और सोनू अग्रवाल फरार है.

चतरा जिला कांड संख्या 22 ऑफ 2018 में नेशनल इनवेस्टीगेटिंग एजेंसी ने टेकओवर करते हुए जांच शुरू की थी.

 


 

इस मामले में सीसीएल, उग्रवादी और शांति समिति के नाम पर लेवी वसूलने का मामला भी शामिल है. एनआइए ने इस संबंध में सीसीएल के कर्मियों के अलावा 14 आरोपियों के विरुद्ध चार्जशीट दायर करते हुए लिखा था कि टीएसपीसी को लेवी देने के लिए ऊंचे रेट पर मगध और आम्रपाली कोल परियोजना से कोयले की ढुलाई (ट्रांसपोर्टिंग) का काम लिया गया था. टीपीसी के लिए लेवी की वसूली करने वाले बिंदेश्वर गंझू उर्फ बिंदू गंझू को एनआइए ने रांची से गिरफ्तार किया था. उसने ही लेवी देनेवाले ट्रांसपोर्टरों और कंपनियों के नाम का खुलासा किया था. एनआइए को उसने यह भी बताया था कि लेवी के पैसे का हिस्सा पुलिस के आला अफसरों से लेकर नेताओं तक पहुंचाया जाता है. उधर एनआइए को यह भी पता चला कि टेरर फंडिंग का सबसे अहम किरदार यानी सोनू अग्रवाल, जिसके बारे में कहा जाता है कि चतरा के टंडवा में टेरर फंडिंग की पूरी व्यूह रचना उसने कोलकाता ,दुर्गापुर और दिल्ली जैसे शहरों से रहते हुए रची.  यह पता चला कि कैसे 10 रुपये के नोट से करोड़ों की लेवी उठवाने और उसे तय जगह पर पहुंचाने का हाईप्रोफाइल सिस्टम विकसित किया गया था कि जगह पर पैसे पहुंच जायें. सोनू अग्रवाल को एनआईए ने टेरर फंडिंग मामले का आरोपी बनाया है. सोनू अग्रवाल मगध आम्रपाली प्रोजेक्ट में श्री बालाजी ट्रांसपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के जरिये कोयला उठा रही है. NIA ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि सोनू अग्रवाल अपने व्यवसाय के सुचारू संचालन के लिए ग्राम समिति के सदस्यों और टीपीसी को लेवी का भुगतान करने के लिए स्थानीय व्यापारियों और अन्य व्यापारियों से नकद राशि की व्यवस्था करता था. इतना ही नहीं सोनू अग्रवाल के आवासीय परिसर से एनआइए ने 7.91 लाख नकद और 10,000 सिंगापुर डॉलर जब्त किए थे, जबकि उसके कार्यालय से 3,72,750 रुपये और 8760 हांगकांग डॉलर जब्त किया गया था.
अधिक खबरें
विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 8:01 PM

विधायक सरयू राय ने राज्य सरकार से आइएएस पूजा सिंघल पर विभागीय कार्रवाई समाप्त करने की संचिका की छाया प्रति उपलब्ध कराने की मांग की है. उन्होंने मुख्य सचिव सुखदेव सिंह को पत्र लिख कर कहा है कि पूर्ववर्ती सरकार के द्वारा आइएएस पूजा सिंघल पर विभागीय कार्रवाई का अभियोग चलाया गया था और बाद में सरकार ने सात फरवरी 2017 को आरोप मुक्त कर दिया था. इसके आधार पर उन पर विभागीय कार्रवाई बंद कर दी गयी और क्लीन चिट दे दी गयी.

मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 7:38 AM

झारखंड बने 22 साल हो गए. हर सरकार में बिजली मंत्री और बिजली अफसर कम से कम राजधानी में जीरो कट का सपना दिखाते रहे, मगर अब तक यह बयान मुंगेरी लाल के हसीन सपने ही साबित हुए. झारखंड गठन के 22 साल में राजधानी में बिजली सुधार को लेकर दो महत्वपूर्ण परियोजना पर काम हुआ जिसमें आरपीडीआरपी और झारखंड संपूर्ण बिजली अच्छादन योजना (जसवे). इसके तहत करीब-करीब 1 हजार करोड़ से अधिक बिजली वितरण सुधार पर खर्च हुए मगर नतीजा सिफर ही साबित हुआ.

जस्टिस DY चंद्रचूड़ और जस्टिस बेला एम त्रिवेदी की पीठ करेगी खान आवंटन और शेल कंपनी पर सुनवाई
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 7:41 AM

सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार 24 मई को न्यायमूर्ति जस्टिस डीवाइ चंद्रचूड़ और जस्टिस बेला एम त्रिवेदी की खंडपीठ खान आवंटन और शेल कंपनी मामले पर सुनवाई करेगी. झारखंड सरकार बनाम शिवशंकर शर्मा की एसएलपी 009729 और 009730 ऑफ 2022 पर सुबह 10 बज कर 30 मिनट पर सुनवाई होगी. इससे पहले 20 मई को सुप्रीम कोर्ट की ट्रिपल बेंच में सुनवाई हुई थी, जिसमें वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने 24 मई तक का समय मांगा था.

प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:57 AM

झारखंड में तेजी से अस्पताल और नर्सिंग होम खुल रहे हैं. जिसमें से ज्यादातर अस्पताल व नर्सिंग होम स्वास्थ्य विभाग के गाइडलाइन की अनदेखी कर संचालित हो रहे है. ऐसे कई प्राइवेट हॉस्पिटल, नर्सिग होम और क्लिनिक हैं, जहां मरीजों की जिंदगी से बदस्तूर खिलवाड़ हो रहा है. ऐसे अस्पताल पर गाज गिर सकती है. राजधानी रांची में लगभग 712 हॉस्पिटल्स में से 50 प्रतिशत से ज्यादा अस्पताल ऐसे हैं, जिनका रजिस्ट्रेशन या तो फेल हो चुका है अथवा बिना लाइसेंस के ही इनका अवैध तरीके से संचालन किया जा रहा है.

उपायुक्त छवि रंजन ने हाईकोर्ट में दायर किया शपथ पत्र
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:28 AM

उपायुक्त छवि रंजन ने हाईकोर्ट में शपथ पत्र दायर किया है. अदालत के आदेश के अनुसार शपथ पत्र दायर किया है. अधिवक्ता इंद्रजीत सिन्हा के माध्यम व्यक्तिगत रूप से शपथ पत्र दायर किया. दर्ज शपथ पत्र में अपने ऊपर दर्ज मुक़दमों का डीसी छवि रंजन ने ब्योरा दिया है. शपथ पत्र में एक मुक़दमे का ब्योरा दिया है. साथ ही अपने ऊपर चल रहे विजिलेंस केस की जानकारी भी दी है.