Monday, Jun 27 2022 | Time 08:15 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • तंत्र सिद्धि के लिए विभत्स तरीके से की गई महिला की हत्या, पुलिस कर रही मामले की जांच
  • तंत्र सिद्धि के लिए विभत्स तरीके से की गई महिला की हत्या, पुलिस कर रही मामले की जांच
  • बारिश से बाधित मैच में भारत ने आयरलैंड को 7 विकेट से हराकर सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल किया
NEWS11 स्पेशल


WhatsApp के बिकने पर पूर्व बिज़नेस हेड ने जताया दुःख, जानिए ट्वीट में क्या कहा

WhatsApp के बिकने पर पूर्व बिज़नेस हेड ने जताया दुःख, जानिए ट्वीट में क्या कहा
न्यूज़11 भारत

 

रांची: आज के इस आधुनिक युग में शायद ही कोई ऐसा युवा होगा जो सोशल मीडिया प्लेटफार्म व्हाट्सएप को नहीं जानता होगा. आम जीवन का हिस्सा बनते जा रहा यह सोशल मीडिया प्लेटफार्म का इस्तेमाल अब ना केवल एक दुसरे से मेसेज पर बात करने के लिए होता है बल्कि कई नए फीचर आ जाने की वजह से इस एप के माध्यम से आप और हम वीडियो कॉल, ऑडियो कॉल को करते ही है पर अब किसी समूह को सुचना देने की बात हो या किसी सम्बन्धी के शादी का निमंत्रण अब व्हाट्सएप इन हर कार्यों के लिए इस्तेमाल होने लगा है. व्हाट्सएप अब इतना ज्यादा अपग्रेड हो चूका है कि इसके माध्यम से आम आदमी अब डिजिटल पेमेंट भी कर पा रहे है. लोगों के जीवन में इस तरह से घर कर जाने वाली इस एप के पूर्व बिजनेस हेड ने ट्वीट कर ऐसी बात कही जिससे हम और आप यह सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि किसी भी फैसले को लेने से पहले हमें अच्छे तरह से सोचना चाहिए या नहीं. 

 

आपने पढ़ा तो होगा ही कि 'अब पछताए होत क्या, जब चिड़िया चुग गई खेत'. इस कहावत का उदाहरण बीते कल यानी 5 मई को देखने को मिला जब व्हाट्सएप के पूर्व बिजनेसहेड ने ट्वीट कर यह बात स्वीकार की कि जब वर्ष 2014 में उन्होंने व्हाट्सएप को बेचने में सहायता की थी तब के फैसले पर अब उन्हें पछतावा हो रहा है. 

 


 

पिछले कई दिनों से माइक्रो ब्लॉगिंग साइट यानी Twitter  का बिकना लगातार चर्चा में है. इन चर्चाओं के बीच इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप के पूर्व चीफ और बिजनेस ऑफिसर Neeraj Arora ने वॉट्सऐप के बिकने पर दुख जताया है. साल 2014 में Facebook  (अब Meta ) ने 22 अरब डॉलर में वॉट्सऐप को खरीदा था. नीरज अरोरा ने उस वक्त व्हाट्सऐप को खरीदने में Mark Zuckerberg की मदद की थी. उन्होंने कहा है कि अब उन्हें इस बात का अफसोस है. Facebook  ने मल्टी डॉलर डील में व्हाट्सऐप को जब खरीदा था,  उस वक्त ऐप को लॉन्च हुए महज 5 साल हुए थे. जबकि अरोरा तीन साल से कंपनी से जुड़े हुए थे. 

 

क्या है पूर्व अधिकारी की परेशानी 

 

ट्विटर पर ट्वीट कर नीरज ने उस वक्त की स्थिति, डील और फेसबुक के साथ हुए वादों की जानकारी दी है. उन्होंने बताया है कि जिस वक्त वॉट्सऐप के को-फाउंडर Brain Acton  को ऐप बेचना पड़ा था,  उस वक्त कंपनी के क्या हालात थे. 

अरोरा ने ट्वीट में लिखा, 'साल 2014 में मैं वॉट्सऐप का चीफ बिजनेस ऑफिसर था और मैंने 22 अरब डॉलर में फेसबुक के साथ हुई डील में नेगोशिएशन में मदद की थी. आज मुझे उसके लिए पछतावा होता है.' 

अरोरा के मुताबिक, फेसबुक ने साल 2012/2013 में वॉट्सऐप को खरीदने की कोशिश की थी,  लेकिन ऐप ने उनके ऑफर को मना कर दिया था. हालांकि साल 2014 में फेसबुक ने फिर से वॉट्सऐप को खरीदने का प्रस्ताव भेजा. 

 

facebook ने क्या वादे किये थे?

 

अरोरा बताते हैं कि साल 2014 में हुई डील के वक्त फेसबुक का ऑफर पार्टनरशिप की तरह लगा था. Mark Zuckerberg  की कंपनी यानी फेसबुक ने WhatsApp  को खरीदने के लिए ये वादे किये थे. 

 

प्रोडक्ट पर स्वतंत्र फैसले लेना

 

कोई ऐड नहीं 

 

एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन का फुल सपोर्ट 

 

JJan Koum (वॉट्सऐप को-फाउंडर और फॉर्मर सीईओ) के लिए बोर्ड सीट 

 

माउंटेन व्यू ऑफिस 

 

अरोरा ने कहा कि फेसबुक ने दावा किया था कि वह वॉट्सऐप के बिना गेम, ऐड्स और गिमिक के सर्विस प्रोवाइड करने के मिशन को सपोर्ट करेगा. उन्होंने बताया कि फेसबुक ने यूजर्स डेटा की माइनिंग ना करने,  कोई ऐड नहीं जोड़ने और क्रॉस प्लेटफॉर्म ट्रैकिंग नहीं करने की बात कही थी. पर ऐसा कुछ नही हुआ. What’ss App के पूर्व चीफ बिजनेस ऑफिसर ने बताया, 'आज वॉट्सऐप फेसबुक का दूसरा सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म है,  लेकिन यह उस प्रोडक्ट की छाया है जो हम दुनिया को देना चाहते थें. फेसबुक पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, 'शुरुआत में कोई नहीं जानता था कि फेसबुक Frankenstein Monster बन जाएगा,  जो यूजर्स का डेटा निगलेगा.
अधिक खबरें
शिल्पी नेहा तिर्की ने मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से की मुलाक़ात
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 9:25 PM

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से आज कांके रोड रांची स्थित मुख्यमंत्री आवासीय कार्यालय में मांडर विधानसभा उपचुनाव की विजयी प्रत्याशी शिल्पी नेहा तिर्की ने मुलाकात की. मुख्यमंत्री से यह उनकी शिष्टाचार भेंट थी. इस अवसर पर मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने शिल्पी नेहा तिर्की को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं एवं बधाई दी. मुख्यमंत्री ने शिल्पी नेहा तिर्की से कहा कि जिस आशा और विश्वास के साथ मांडर विधानसभा की जनता ने आपको विधायक के रूप में चुना है, उनके आशा और विश्वास पर खरा उतरकर एक आदर्श विधायक का उदाहरण पेश करें.

कांग्रेस प्रभारी समेत कई नेताओं ने शिल्पी को जीत पर दी बधाई
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 7:20 PM

मांडर विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी शिल्पी नेहा तिर्की के निर्वाचित होने पर उन्हें बधाईयां मिलनी शुरू हो गयी हैं. कांग्रेस के झारखंड प्रभारी अविनाश पांडेय समेत कई नेताओं ने शिल्पी को उनकी जीत के लिए बधाई दी है. कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडेय ने ट्वीट कर कहा है कि मांडर विधानसभा उप चुनाव में पार्टी उम्मीदवार को भारी मतों से विजयी बनाने के लिए क्षेत्र की जनता बधाई के पात्र हैं. उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार को प्रचंड बहुमत से जीत दिलाने के लिए मांडर की जनता के प्रति आभार प्रकट किया है और उन्हें ढेरों शुभकामनाएं दी हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा, 'मतों का ध्रुवीकरण करनेवाली ताकतें हारीं'
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 6:29 PM

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने शिल्पी नेहा तिर्की की जीत पर कहा है कि यह जीत भाजपा के लिए करारी हार है. कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय में मिठाईयां बांटी गयीं. मांडर की जनता का धन्यवाद, शुक्रिया. मतों का ध्रुवीकरण करनेवाली ताकतों को मांडर की जनता ने हराया. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, कांग्रेस के महासचिव केसी वेणुगोपाल ने इस चुनाव में लगातार मानिटरिंग की. मांडर की जनता ने यह जता दिया कि हम हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई के मतभेद से दूर हैं. हमने मांडर की जनता से कहा था कि 2024 की चुनाव को देखते हुए राहुल गांधी के हाथों को मजबूत करें.

मांडर उपचुनाव में 23 हजार से ज्यादा वोट से शिल्पी नेहा तिर्की की जीत!
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 4:29 AM

मांडर उपचुनाव का फाइनल रिजल्ट आ चूका है. कांग्रेस की प्रत्याशी शिल्पी नेहा तिर्की ने यह चुनाव लगभग 23 हजार वोट से जीत हासिल की है. हालांकि इस खबर की आधिकारिक घोषणा बाकी है लेकिन सूत्रों के हवाले से जो बड़ी खबर आ रही है उसके अनुसार शिल्पी नेहा तिर्की ने मांडर उपचुनाव में लगभग गंगोत्री कुजूर को 23 हजार वोट से मात दे दिया है. बता दें कि इस वोट में पोस्टल नहीं जुड़ा है.

33 लाख की ठगी करनेवाला साइबर अपराधी आलोक कुमार गिरफ्तार
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 4:50 PM

33 लाख रुपये की ठगी करनेवाला साईबर अपराधी आलोक कुमार को अपराध अनुसंधान विभाग ने बिहार के वैशाली से गिरफ्तार किया है. इस साइबर अपराधी के खिलाफ 11 ऑफ 2016 कांड संख्या आइटी एक्ट के तहत दर्ज की गयी है. गिरफ्तार आलोक कुमार लोगों को पांच साल में पैसे को दोगुना करने का वायदा कर ठगी करता था. उसने अलग-अलग खाते में कुल 33 लाख कई लोगों से मंगवाये. आरोपी के पास से एक मोबाइल, दो सिम कार्ड जब्त किया गया है.