Saturday, Oct 23 2021 | Time 11:31 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • RIMS में बिजली पर टिकी है कुछ सांसे! बिजली गुल होते ही
  • RIMS में बिजली पर टिकी है कुछ सांसे! बिजली गुल होते ही
  • RIMS में बिजली पर टिकी है कुछ सांसे! बिजली गुल होते ही
  • RIMS में बिजली पर टिकी है कुछ सांसे! बिजली गुल होते ही
  • गिरिडीह : अनियंत्रित होकर पुल से टकराया स्कॉर्पियो, एक की मौत दो गंभीर
  • गिरिडीह : अनियंत्रित होकर पुल से टकराया स्कॉर्पियो, एक की मौत दो गंभीर
  • NEET PG Counselling 2021: NEET PG काउंसलिंग का शेड्यूल जारी, ऐसे करें रजिस्ट्रेशन
  • NEET PG Counselling 2021: NEET PG काउंसलिंग का शेड्यूल जारी, ऐसे करें रजिस्ट्रेशन
  • Corona Update in Jharkhand: कोरोना के बढ़ते आंकड़े फिर कर रहे ‘इशारे’, पढ़ें पूरी खबर
  • Corona Update in Jharkhand: कोरोना के बढ़ते आंकड़े फिर कर रहे ‘इशारे’, पढ़ें पूरी खबर
  • Corona Update in Jharkhand: कोरोना के बढ़ते आंकड़े फिर कर रहे ‘इशारे’, पढ़ें पूरी खबर
  • Corona Update in Jharkhand: कोरोना के बढ़ते आंकड़े फिर कर रहे ‘इशारे’, पढ़ें पूरी खबर
NEWS11 स्पेशल


7th JPSC Exam Update: प्रीलिम्स परीक्षा से पूर्व ही संशय की स्थिती

7th JPSC Exam Update: प्रीलिम्स परीक्षा से पूर्व ही संशय की स्थिती
रांचीः कहने का तो जेपीएससी एक स्वतंत्र संवैधानिक निकाय है, लेकिन इसके हरेक परीक्षा के पारदर्शिता और निष्पक्षता पर सवाल उठते रहा है. पीसीएस परीक्षा किसी भी राज्य का यह सर्वाधिक लोकप्रिय परीक्षा होता है. उल्लेखनीय है कि झारखंड सेवा आयोग का गठन वर्ष 2002 मे भारतीय संविधान के अनुच्छेद 315(1) के अनुसार किया गया है, इसी उद्देश्य को लेकर कि यहां के योग्य और प्रतिभावान अधिकारियों का चयन किया जा सके, लेकिन आरंभ से ही यहां के नेताओं एवं जेपीएससी के पूर्व अध्यक्ष सहित अन्य अधिकारियों पर काले कारनामे का पर्दाफाश हो चुका है.. और हर बार की तरह अब 7वीं-10वीं सिविल सेवा परीक्षा मे उम्र सीमा निर्धारण को लेकर एक बार फिर देश के शीर्ष न्यायालय मे मामला जा चुका है.

 

प्रीलिम्स के कुछ दिन पूर्व में ही जिसकी 22 सितम्बर को सुनवाई होनी है. वहीं जेपीएससी 19 सितम्बर को प्रीलिम्स परीक्षा आयोजित की जानी है. अब ऐसे मे आयोग परीक्षा लेती है तो माननीय सर्वोच्च न्यायालय से बड़ा झटका मिल सकता है, चुंकि परीक्षा का प्रत्येक वर्ष आयोजन ना कराना छात्रों का कसूर नहीं है, बल्कि पीछे छूट गये वर्षों का भरपाई स्वत: सरकार को देनी चाहिए आखिरकार यह सब विवाद बना तो सरकार की नीति या नियमावली मे कहीं ना कहीं छात्रों के साथ अन्याय किया गया. 

 

सुप्रीम कोर्ट ने भी छात्रों को मांगों को जायज ठहराते हुए सरकार और आयोग को नोटिस किया है इसका जवाब दिये बिना परीक्षा आयोजन कराना न्यायसंगत नहीं है, बल्कि मामला और फंस जाएगा इसलिए लाखो छात्रों का मांग है परीक्षा तत्काल सरकार को स्थगित किया जाना चाहिए कि जब तक फैसला ना आ जाए. जेपीएससी अभ्यर्थी उमेश प्रसाद का कहना है कि नियमत: जेपीएससी को प्रत्येक वर्ष परीक्षा आयोजित करनी थी. जिसके फलस्वरूप जेपीएससी गठन से लेकर अभी तक लगभग 20 परीक्षा हो जानी चाहिए थी, लेकिन सरकार व अधिकारियों इस लेकर कभी भी पारदर्शी व निष्पक्ष परीक्षा कराने को लेकर गंभीर ना दिखाई दिया ये राज्य के हरेक सरकार की नकामी है. 

 


 

जब 2020 मे जेपीएससी की ओर से निकाले गए विज्ञापन में उम्र का निर्धारण वर्ष 2011 रखा गया था लेकिन इसे वापस लेते हुए दोबारा संशोधित विज्ञापन-2021 मे जारी किया गया. जिसमें उम्र के निर्धारण वर्ष 2016 कर दिया गया जो न्यायोचित नही है चुंकि 2011 से लेकर 2015 तक का उम्र कट अप डेट छिना गया उसका भरपाई कौन करेगा. परीक्षा नहीं ली गई तो छात्रों का क्या दोषी 5 वर्ष उम्र अधिक होने की वजह से हजारों अभ्यर्थी इस परीक्षा में शामिल नहीं हो पा रहे हैं.. जो उनके साथ अन्याय हुआ है अवसर से वंचित रखा गया है.

 

ऐसे मे सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को नोटिस करते हुये ये अवगत करा दिया कि आपने छात्रों के साथ अवसर का समानता से वंचित किया लिहाजा शीर्ष न्यायालय ने संविधान का अनुच्छेद 309 के तहत राज्य सरकार और जेपीएससी को नोटिस जारी किया है.

 

वहीं, अभ्यर्थी बतातें है कि अनुच्छेद 309 मे  विधानमंडल को उनकी सेवा में नियुक्त लोक सेवकों की भर्ती और सेवा की शर्तों के विनियमन की शक्ति प्रदान करता है उक्त अनुच्छेद  के अंतर्गत लोक सेवकों की भर्ती तथा उनकी सेवा की शर्तों के लिए बनाया गया. कोई अधिनियम किसी भी मूल अधिकार का अतिक्रमण नहीं कर सकता. जबकि सातवीं जेपीएससी का नियमावली मे अवसर की समानता का उल्लंघन किया गया है जो छात्रों का मांग जायज है परिणामस्वरूप शीर्ष न्यायालय  का रूख सकरात्मक रहा, निश्चित है आगे की सुनवाई मे छात्रों के हित और अधिकार को देखते हुए माननीय न्यायालय द्वारा फैसला लिया जाएगा.
अधिक खबरें
नक्सल मामले में फरार आरोपी पकड़ाया, की जा रही पूछताछ
अक्तूबर 23, 2021 | 23 Oct 2021 | 10:23 AM

गिरिडीह झारखंड बिहार के सीमांत क्षेत्र से सीआरपीएफ के द्वारा नक्सल मामले में फरार चल रहे एक आरोपित को हिरासत में लिया गया.

डायरिया से दो की मौत, लोगों में दहशत का माहौल
अक्तूबर 23, 2021 | 23 Oct 2021 | 9:36 AM

निरसा प्रखंड अंतर्गत पांडरा पंचायत के पांडरा बस्ती के बागती टोला में डायरिया फैल जाने से टोला और आसपास के क्षेत्र के ग्रामीण काफी दहशत का माहौल है.

Corona Update in Jharkhand: कोरोना के बढ़ते आंकड़े फिर कर रहे ‘इशारे’, पढ़ें पूरी खबर
अक्तूबर 23, 2021 | 23 Oct 2021 | 7:58 AM

झारखंड में कोरोना के मामलों में एक बार फिर तेजी से बढ़ोतरी देखी जा रही है. राज्य में बढ़ते कोरोना के मामले फिर सताने लगे है. इससे जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग हरकत में आई है.

जब भी बच्चा हंसता था तो बजती थी सीटी
अक्तूबर 22, 2021 | 22 Oct 2021 | 10:30 AM

अपने बच्चों के हर जिद को पूरा करने वाले अभिभवकों के लिए रिम्स से जनहित में खबर सामने आई है. रिम्स के बड़े चिकित्सको ने अभिभावकों से एक आग्रह किया है कि बच्चों को लालच देकर कंपनियों के द्वारा बेचे जाने वाले चिप्स पैकेट से बचें. क्योंकि रिम्स शिशु शल्य विभाग एक ऐसा ही मामला सामने आया है. चाईबासा के रहने वाले 13 वर्षीय बच्चे के स्वास नली में सीटी फंस गया था. बच्चे ने अपने अभिभावकों से जिद कर खिलौने वाला चिप्स का पैकेट खरीदा था. खेल खेल के दौरान सीटी बजने वाला छोटा खिलौना बच्चे के मुंह के रास्ते सांस नली में जा फंसा था. बच्चे को प्राथमिक इलाज के लिए चाईबासा सदर अस्पताल भेजा गया था, जहां एक्स-रे जांच के बाद किसी भी तरह की कोई वस्तु जांच में नहीं पाई गई थी. बच्चा जब भी हंसता था उसके मुंह से सीटी बजने की आवाज आती थी. चाईबासा से उसे बेहतर इलाज के लिए रिम्स रेफर कर दिया गया.

ईसाई समाज को एकजुट होकर नीति निर्माण में भागीदारी देनी होगी- मंत्री जॉन बारला
अक्तूबर 22, 2021 | 22 Oct 2021 | 10:16 PM

शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्य करना ईसाई समुदाय की ताकत है किन्तु इनसे सम्बंधित नीतियों के निर्माण में इस समुदाय की अनुपस्तिथि चिंतनीय है. आज समुदाय को एकजुटता के साथ खड़े होना होगा और इन सम्बंधित नीतियों के निर्माण में अपनी भागीदारी देनी होंगी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस कार्य हेतु सम्पूर्ण देश भ्रमण के पश्चात ऐसी टीम बनाने का आदेश दिया है जिसका प्रतिनिधित्व बिशप, पादरी और ईसाई समाज के अन्य गणमान्य व्यक्ति करेंगे,” ये बातें अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री जॉन बारला ने शुक्रवार को रांची के आर्चडायसीस और जेवियर समाज सेवा संस्थान(एक्सआईएसएस), रांची द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित एक संवाद सत्र में भाग लेते हुए कहीं