Saturday, Oct 1 2022 | Time 01:49 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
देश-विदेश


'फ्रेंडशिप डे' आज, जानें अगस्त महीने के रविवार को ही क्यों मनाया जाता है यह दिवस

'फ्रेंडशिप डे' आज, जानें अगस्त महीने के रविवार को ही क्यों मनाया जाता है यह दिवस

न्यूज11 भारत


रांचीः आज 'फ्रेंडशिप डे' यानी 'मित्रता दिवस' है, यह दिवस अगस्त महीने के पहले रविवार को हर साल भारत के अलावे कई देशों में अपने अपने तरीके से मनाया जाता है. और इस बार दोस्ती का ये खास दिन 7 अगस्त यानी आज मनाया जा रहा है. यह पूरा दिन दोस्तों के लिए समर्पित होता है. इस दिन लोग अपने खास दोस्तों के साथ मिलते-जुलते, पार्टी करते और अपनी दोस्ती को सेलिब्रेट करते हैं, मदर्स डे या फादर्स डे की तरह ही फ्रेंडशिप डे को मनाने की परंपरा है. लेकिन आपके और हर किसी के मन में यह सवाल जरूर उठता होगा कि इस खास दिन को दोस्तों के लिए समर्पित करने के पीछे क्या वजह थी, सबसे पहले फ्रेंडशिप डे को किसने, कब, कहां और क्यों मनाया था या मनाया गया था, इसका इतिहास क्या है..तो आइए जानते है फ्रेंडशिप डे के इतिहास और इससे जुड़ी कुछ रोचक बाते..


30 जुलाई और अगस्त के 'दोस्ती दिवस' में कन्फ्यूजन


आपने कुछ दिन पहले यानी 30 जुलाई को भी फ्रेंडशिप डे मनाई होगी, आप में से कुछ लोग जुलाई और अगस्त महीने के फ्रेंडशिप डे को लेकर काफी कन्फ्यूज होंगे कि 30 जुलाई और अगस्त के पहले रविवार में से कौन सा फ्रेंडशिप डे सही होता है. जानकारी के लिए आपको बता दें, साल 1930 में हॉलमार्क कार्ड्स के संस्थापक जॉयस हॉल ने पहला फ्रेंडशिप डे आयोजित किया था. जॉयस हॉल ने लोगों को एक साथ आने और 2 अगस्त को फ्रेंडशिप डे मनाने की इच्छा जताई, बाद में संयुक्त राज्य अमेरिका में भी फ्रेंडशिप डे का जश्न धूमिल हो गया और लोगों को लगा कि ग्रीटिंग कार्ड खरीदने के लिए ग्राहकों को आकर्षित करना सिर्फ एक विचार है. वर्ष 1958 में, विश्व मैत्री धर्मयुद्ध, एक अंतर्राष्ट्रीय नागरिक संगठन ने 30 जुलाई को पहला अंतर्राष्ट्रीय मित्रता दिवस मनाने का सुझाव दिया. 


ये भी पढ़ें- आरसीपी सिंह ने जदयू की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया


दुनियाभर में मनाया जाता है 'फ्रेंडशिप डे'


विश्व मैत्री धर्मयुद्ध, एक अंतर्राष्ट्रीय नागरिक संगठन सुझाव के बाद 30 जुलाई 1958 को आधिकारिक तौर पर अंतर्राष्ट्रीय मित्रता दिवस मनाने की घोषणा की गई. लेकिन भारत समेत बांग्लादेश, मलेशिया, संयुक्त अरब अमीरात और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देश अगस्त के पहले रविवार को ही फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है बता दें, सबसे पहले मित्रता दिवस साल 1935 में अमेरिका में मनाया गया था. इस दिन अगस्त का महीना था. इसी दिन दोस्ती के प्रतीक के तौर पर फ्रेंडशिप डे मनाने की शुरुआत हुई. जिसके बाद हर साल दुनियाभर में इस दिन को मित्रता दिवस के रुप में मनाया जाने लगा. 


'फ्रेंडशिप डे' मनाने के पीछे का रहस्य


फ्रेंडशिप डे को मनाने को लेकर एक दिलचस्प कहानी है. 1935 में अगस्त के पहले रविवार के दिन अमेरिकी सरकार ने एक व्यक्ति की हत्या करा दी थी. बताया जाता है कि जिस व्यक्ति की हत्या की गई थी उसका एक प्रिय मित्र था. वहीं जब उसे यह जानकारी मिली कि उसके दोस्त की हत्या कर दी गई है तो उसे दोस्त के मौत पर भारी सदमा पहुंचा. जिसके बाद उस शख्स ने भी आत्महत्या कर ली. दोनों दोस्तों के दोस्ती और लगाव के इस रूप को देखकर अमेरिकी सरकार ने अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे के तौर पर मनाने का फैसला लिया. धीरे-धीरे यह दिन प्रचलन में आ गया और भारत समेत अन्य कई देशों में अगस्त के पहले रविवार को मित्रता दिवस के तौर पर मनाया जाने लगा.


 

अधिक खबरें
आरबीआई ने किया एलान : रेपो रेट बढ़ेगा, अब नहीं है महंगाई का खतरा
सितम्बर 30, 2022 | 30 Sep 2022 | 12:06 PM

रांची : RBI Governor ने तीन दिनों (28 सितंबर से 30 सितंबर) तक चली एमपीसी की बैठक के बाद रेपो रेट को बढ़ाने का एलान किया है.

अधिवक्ता राजीव कुमार की जमानत याचिका पर पीएमएलए कोर्ट में सुनवाई
सितम्बर 29, 2022 | 29 Sep 2022 | 1:29 PM

झारखंड हाईकोर्ट के अधिवक्ता राजीव कुमार की जमानत याचिका पर पीएमएलए कोर्ट रांची में सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने जवाब दाखिल किया.

सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में कॉल गर्ल के साथ रंग-रंलिया मनाते पकड़े गए कैदी
सितम्बर 29, 2022 | 29 Sep 2022 | 1:23 PM

पैसे के बल पर कुछ भी संभव है. पैसे और पैरवी बदौलत पावरफुल कैदी जेल में रहते हुए भी ऐश काटते है. ऐसा ही ताजा उदाहरण बिहार के वैशाली जिले में देखने को मिला.

अगले माह यानी अक्तूबर में 21 दिनों तक बैंकों में रहेगी छुट्‌टी
सितम्बर 29, 2022 | 29 Sep 2022 | 12:16 PM

सितंबर 2022 के बाद आ रहा है छुटिटयों का महीना यानी अक्तूबर. अक्तूबर माह में दशहरा, दीपावली, छठ, करवा चौथ, भाई दूज, चित्रगुप्त पूजा समेत सभी त्योहार पड़ रहे हैं.

झारखंड के 3000 से अधिक श्रमिकों की रोजी रोटी पर आफत, कंपनी का कामकाज ठप
सितम्बर 29, 2022 | 29 Sep 2022 | 10:38 AM

टॉपवर्थ ऊर्जा एंड मेटल्स लिमिटेड में काम कर रहे 3000 से अधिक झारखंड के श्रमिकों की नौकरी पर आफत आ गई है. बैंक लोन डिफॉल्ट के केस में इस कंपनी का कामकाज ठप हो गया है और एनपीए की वजह से यह केस अब एनटीएसएल में ट्रांसफर कर दिया गया है.