Friday, Dec 9 2022 | Time 17:37 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • शादी समारोह में गैस सिलेंडर फटने से 5 की मौत, 63 से अधिक लोग झुलसे 11 की हालत गंभीर
  • बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे मुकाबले के लिए भारतीय टीम में 3 बड़े बदलाव
  • बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे मुकाबले के लिए भारतीय टीम में 3 बड़े बदलाव
  • साहिबगंज डीएसपी राजेंद्र दुबे पहुंचे ईडी दफ्तर, पूछताछ शुरू
  • साहिबगंज डीएसपी राजेंद्र दुबे पहुंचे ईडी दफ्तर, पूछताछ शुरू
  • रेलवे अधिकारी के शरीर से अचानक निकलने लगी आग की चिंगारी, देखें Video
  • एक जनवरी 2023 से सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की प्रैक्टिकल परीक्षाएं
  • एक जनवरी 2023 से सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की प्रैक्टिकल परीक्षाएं
  • बारातियों के पटाखें से कई दुकानों में लगी आग, लाखों का सामान जलकर राख
  • बारातियों के पटाखें से कई दुकानों में लगी आग, लाखों का सामान जलकर राख
  • पलामू में जिला स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन
  • पलामू में जिला स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन
  • पलामू में जिला स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन
  • 24 घंटे में ही बदला गया जला हुआ ट्रांसफार्मर
  • रांची समेत पूरे राज्य में शीतलहरी से और बढ़ेगी ठंड
झारखंड


राज्यपाल के उत्पाद संशोधन बिल को लौटाए जाने का शराब व्यापारी संघ ने किया स्वागत

राज्यपाल के उत्पाद संशोधन बिल को लौटाए जाने का शराब व्यापारी संघ ने किया स्वागत
न्यूज11 भारत 




रांचीः राज्यपाल के निर्णय का झारखंड शराब व्यापारी संघ ने स्वागत किया है. संघ के सचिव सुबोध कुमार जयसवाल ने कहा है कि आज जो स्थिति उत्पन्न हुई है यह सोची-समझी तहत के उत्पाद राजस्व में कमी हुई है. राज्यपाल रमेश बैस ने अपना सही निर्णय लेकर उत्पाद संशोधन बिल प्रस्ताव की गड़बड़ी का पर्दाफाश किया है. उन्होंने कहा है कि यह संशोधन बिल लाया गया सिर्फ छत्तीसगढ़ के मेहमानों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए लाया गया. नीचे के कर्मचारी जो गरीब कर्मचारी है दुकान में उसके ऊपर दंडित करना यह प्रावधान कहां से सही है यह बिल्कुल गलत है.

 


 

झारखंड शराब व्यापारी संघ की ओर से कहा गया है कि 20 लीटर तक का शराब अपने पास रखने का प्रस्ताव लाया गया था तब तो कोई भी आदमी कहीं अवैध रख सकता है यह भी नियम गलत है सरकार ने संशोधन बिल लाया जिसका राजभवन ने विरोध किया है. दंड का तो प्रावधान होना चाहिए. छत्तीसगढ़ के एजेंसी प्लेसमेंट मेहमानों पर जो एजेंसी लेकर के दुकान संचालित कर रहे हैं उत्पाद नीति 2022 सिर्फ और सिर्फ एजेंसी और सरकार के अपना फायदा के लिए लाया गया. स्थानीय कर्मचारी ही दोषी पाए जाएं और जो बाहर के जो छत्तीसगढ़ के मेहमान हैं वह संवैधानिक कृपया संरक्षण देने का प्रयास नीति लाया गया था!! जबकि 5% हम लोग को टाइम में पहले प्रतिदिन प्लेंटी लगाया जाता रहा है अभी उत्पाद राजस्व गिर गया है फिर भी प्लेसमेंट एजेंसियों पर प्रतिदिन क्यों नहीं प्लांटी लगाया जाता है अभी तक कोई प्लांटी का प्रावधान उन लोगों पर नहीं किया गया है? राज्य सरकार का प्लेसमेंट एजेंसी को संरक्षण प्राप्त है.

 

अधिक खबरें
पलामू में जिला स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 12:44 PM

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन खतियानी जोहार यात्रा के क्रम में पलामू में हैं. पलामू के पुलिस स्टेडियम परिसर में मुख्यमंत्री जिले के उपायुक्त और अन्य प्रशासनिक अधिकारियों के साथ प्रमंडलीय समीक्षा बैठक कर रहे हैं.

बारातियों के पटाखें से कई दुकानों में लगी आग, लाखों का सामान जलकर राख
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 1:22 PM

बोकारो में बीती रात बारातियों की तरफ से फोड़े जा रहे पटाखे से कई दुकानों में भीषण आग लगी. जिससे दुकान में रखे लाखों के सामान की जलकर खाक होने की बात कही जा रही है.

24 घंटे में ही बदला गया जला हुआ ट्रांसफार्मर
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 12:21 PM

झारखंड राज्य विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (जेयूभीएनएल) की तरफ से राजधानी में लोगों की शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई होने लगी है. कहने को राज्य के विद्युत कर्मी हड़ताल पर हैं. ऐसे में सबसे बड़ी चुनौती निगम के पास बिजली के तारों में डीफाल्ट और जले हुए ट्रांसफार्मर को बदलने की थी.

रांची समेत पूरे राज्य में शीतलहरी से और बढ़ेगी ठंड
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 10:48 AM

बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दबाव का असर राजधानी रांची समेत पूरे राज्य में पड़ने लगा है. इस कारण राज्य के मौसम का पारा लगातार नीचे गिरता जा रहा है. जिसके कारण ठंड बढ़ने लगी है. मौसम विभाग केंद्र के मुताबिक, राज्य के तापमान में आगे और भी गिरावट होने की संभावना जताई जा रही है.

तीन बच्चों के अभ्यर्थी को निकाय चुनाव का उम्मीदवार नहीं बनाये जाने का मामला हाईकोर्ट पहुंचा
दिसम्बर 08, 2022 | 08 Dec 2022 | 6:10 PM

स्थानीय निकायों के चुनाव मामले पर झारखंड हाईकोर्ट में उस नियम को चुनौती दी गयी है, जिसमें यह कहा गया है कि तीन बच्चों के माता-पिता वाले उम्मीदवार चुनाव नहीं लड़ पायेंगे. झारखंड हाईकोर्ट में कृष्ण कुमार नामक व्यक्ति ने अपने अधिवक्ता आकाशदीप के जरिये याचिका दायर की है