Wednesday, Aug 10 2022 | Time 05:05 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
टेक वर्ल्ड


नहीं रहे प्रसिद्ध ग़ज़ल गायक भूपेंद्र सिंह, बॉलीवुड को दिए 'मेरी आवाज़ ही पहचान है' जैसे कई हिट गाने

नहीं रहे प्रसिद्ध ग़ज़ल गायक भूपेंद्र सिंह, बॉलीवुड को दिए 'मेरी आवाज़ ही पहचान है' जैसे कई हिट गाने
न्यूज11 भारत




रांचीः देश के प्रसिद्ध ग़ज़ल गायक भूपेंद्र सिंह नहीं रहे. उन्होंने 82 की उम्र में मुंबई के एक अस्पताल में अपनी अंतिम सांसें लीं. वे पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे. भूपेंद्र सिंह ने अपनी रूहानी आवाज़ में बॉलीवुड को कई हिट सॉन्ग दिए है उनके हिट ग़ज़ल गानों में 'किसी नजर को तेरा इंतजार आज भी है', 'मेरी आवाज ही पहचान है गर याद रहे', 'एक अकेला इस शहर', 'दिल ढूंढ़ता है फिर वही' जैसे ग़ज़लों में अपनी आवाज से पिरोकर भूपेंद्र ने इन गानों को अमर कर दिया है. आज भी ये इन ग़ज़लों को लोगों के जुबां में सुनने को मिलता है. ये सभी ग़जले जब भी लोग गुनगुनाएंगे भूपेंद्र सिंह हमेशा याद किए जाएंगे. इनके गाए सभी गीतों ने दुनिया में एक अलग मुकाम हासिल की है. 

 


 

देश के प्रसिद्ध गायकों संग गाए कई हिट गाने

 

भूपेंद्र सिंह के निधन से फिल्मी इंडस्ट्री को बड़ा झटका लगा है. कई गायक और फिल्मी कलाकारों ने उनके निधन पर शोक जताया है. उनके निधन की खबर मिलते ही रिश्तेदारों और फिल्मों से जुड़े लोगों का उनके घर आना-जाना शुरु हो गया है. बता दें, भूपेंद्र देश के प्रसिद्ध गायकों में से एक है उन्होंने कई गीतों को अपनी आवाज से संवारा है. भूपेंद्र ने देश के प्रसिद्ध सिंगर्स मोहम्मद रफी, मन्ना डे, तलत महमूद, आरडी बर्मन, लता मंगेशकर, आशा भोंसले और बप्पी लाहिड़ी समेत कई अन्य गायकों के साथ यादगार गीत गाए हैं. फिल्म सत्ते पे सत्ता, दूरियां, हकीकत समेत कई बॉलीवुड फिल्मों के गीत को उन्होंने अपनी रूहानी आवाज दी थी.

 

अमृतसर में हुआ था जन्म

 

भूपेंद्र सिंह का जन्म 6 फरवरी 1940 को अमृतसर में हुआ था, उनके पिता का नाम नत्था सिंह था जो एक प्रोफेसर थे. इसके अलावे वे एक महान संगीतकार और बेहतरीन म्यूजिक डायरेक्टर भी थे. कहा जाता है कि भूपेंद्र के संगीत क्षेत्र के उनके पहले गुरू पिता नत्था सिंह ही थे, वे अपने बेटे भूपेंद्र को संगीत की बारीकियों को लेकर अक्सर झमझाइश देते रहते थे. हालांकि एक समय ऐसा भी आया था जब भूपेंद्र सिंह का ध्या संगीत से भटकने लगा था. लेकिन वे संगीत से दूर नहीं रह सकें और संगीत की दुनिया में वापस लौटकर उन्होंने इस फील्ड को ही अपना कैरियर बनाया. 

 


 

'वो जो शहर था' से मिली थी पहचान

 

कहा जाता है कि भूपेंद्र ने आकाशवाणी में गायन प्रस्तुति करके अपने कैरियर की शुरूआत की थी. ग़ज़ल गायिकी के साथ उन्होंने वायलिन और गिटार बजाने की भी महारत हासिल की थी. भूपेंद्र सिंह को संगीतकार मदन मोहन ने फिल्म 'हकीकत' में पहला मौका दिया था. इसमें उन्होंने मोहम्मद रफी के साथ जुगलबंदी में 'होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा' गाने में अपनी गायिकी का हुनर दिखाया था. उस दौर में यह गाना सुपरहिट साबित हुआ था, हालांकि भूपेंद्र को असल पहचान गलज़ारके लिखे गाने 'वो जो शहर था' से मिली थी. 
अधिक खबरें
ASIA CUP 2022: BCCI ने भारतीय टीम का किया ऐलान, जानें कब और कहां होगा टूर्नामेंट
अगस्त 09, 2022 | 09 Aug 2022 | 7:27 AM

एशिया कप 2022 के लिए BCCI भारतीय क्रिकेट टीम का ऐलान कर दिया है. बता दें, एशिया कप 2022 अगले 27 अगस्त से यूएई की मेजबानी में खेला जाएगा. फाइनल मुकाबला 11 सितंबर को होगा.

CWG 2022: 10वें  दिन भारत ने अपने झोली में डाले 5 गोल्ड समेत 15 मेडल, जानें मेडल टैली का ताजा हाल
अगस्त 08, 2022 | 08 Aug 2022 | 10:15 AM

बर्मिंघम में चल रहे अंतर्राष्ट्रीय खेलों के10वें दिन (7 अगस्त ) भारतीय दल के लिए शानदार रहा, गेम्स के 10वें दिन 7 अगस्त (रविवार) को भारत ने 5 गोल्ड मेडल समेत कुल 15 मेडल अपने नाम किए, इन मेडल में 5 गोल्ड के साथ 4 सिल्वर और 6 ब्रॉन्ज मेडल शामिल है.

CWG 2022: फाइनल मुकाबला में ऑस्ट्रेलिया से हारा भारत, नहीं जीत सका गोल्ड
अगस्त 08, 2022 | 08 Aug 2022 | 6:58 AM

भारतीय महिला क्रिकेट टीम का अंतर्राष्ट्रीय खेलों में गोल्ड मेडल जीनते का सपना चकनाचूर हो गया, आपको बता दें, फाइनल में पहुंचे भारतीय टीम का मुकाबला ऑस्ट्रेलिया के साथ था. जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 9 रनों से हराकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया.

ISRO के नए लांच वेहीकल SSLV-D1 का प्रक्षेपण रहा सफल, साथ गए 2 उपग्रहों से टूटा संपर्क
अगस्त 07, 2022 | 07 Aug 2022 | 12:43 PM

इसरो ( ISRO ) ने रविवार सुबह 9:18 बजे सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, श्रीहरिकोटा से अपने पहले लघु उपग्रह प्रक्षेपण यान SSLV-D1 को पृथ्वी अवलोकन उपग्रह (EOS-02) और छात्र-निर्मित एक उपग्रह, ‘AzadiSAT’ के साथ लांच किया.

'फ्रेंडशिप डे' आज, जानें अगस्त महीने के रविवार को ही क्यों मनाया जाता है यह दिवस
अगस्त 07, 2022 | 07 Aug 2022 | 10:17 AM

आज 'फ्रेंडशिप डे' यानी 'मित्रता दिवस' है, यह दिवस अगस्त महीने के पहले रविवार को हर साल भारत के अलावे कई देशों में अपने अपने तरीके से मनाया जाता है. और इस बार दोस्ती का ये खास दिन 7 अगस्त यानी आज मनाया जा रहा है.