Monday, May 23 2022 | Time 21:20 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • महंगा पड़ा अभिषेक झा को हैप्पी बर्थडे कहना
  • महंगा पड़ा अभिषेक झा को हैप्पी बर्थडे कहना
  • खान विभाग के सचिव बने अबुबक्कर सिद्दीक, मिला अतिरिक्त प्रभार
  • खान विभाग के सचिव बने अबुबक्कर सिद्दीक, मिला अतिरिक्त प्रभार
  • विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
  • विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
NEWS11 स्पेशल


विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन जैसे दिग्गजों को पछाड़ा

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन जैसे दिग्गजों को पछाड़ा
न्यूज11 भारत

अमेरिका की डाटा इंटेलिजेंस फर्म मॉर्निंग कंसल्ट ने दुनियाभर के नेताओं की ग्लोबल अप्रूवल रेटिंग को लेकर एक ताजा सर्वे कर नेताओं की लोकप्रियता का पता लगाया है. इस लिस्ट में एक बार फिर पीएम मोदी टॉप पर है. इसमें मोदी की ग्लोबल अप्रूवल रेटिंग 71% है. बता दें कि देश में जानलेवा कोरोना वायरस की तीसरी लहर के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता चुने गए हैं. 

पीएम मोदी के आसपास भी कोई नहीं

 

इसके बाद नंबर आता है मैक्सिको के राष्ट्रपति एंड्रेस मैनुअल लोपेज ओब्रेडोर (66%), इटली के प्रधानमंत्री मारियो द्रघि की नंबर है. इसके बाद इस लिस्ट में जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा (48%), जर्मनी के चासंलर ओलाफ स्कोल्ज़ो (44%), अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन (43%), कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (43%), ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन (41%), स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज़ (40%), दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन (38%), ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो (37%), फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन (34%) और ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन (26 प्रतिशत) का नंबर आता है.

 



 

बता दें कि अमेरिकी डेटा इंटेलिजेंस फर्म द मॉर्निंग कंसल्ट हर देश के वयस्कों के बीच सर्वे कर ये रैकिंग तैयार करती है. नवंबर में कराए गए पिछले सर्वे में भी पीएम मोदी की लोकप्रियता सबसे ज्यादा थी.

 

अधिक खबरें
खान विभाग के सचिव बने अबुबक्कर सिद्दीक, मिला अतिरिक्त प्रभार
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 8:45 AM

रांची: कार्मिक, प्रशासनिक और सुधार विभाग के द्वारा अधिसूचना जारी कर दो अधिकारियों को अतिरिक्त प्रभार दिया गया है.

कुलाधिपति रमेश बैस ने कहा विश्वविद्यालयों में खाली पड़े पदों को जल्द भरें
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 8:27 AM

कुलाधिपति रमेश बैस ने कहा कि छात्रहित में उच्च शिक्षा विभाग को सदा सक्रिय रहना चाहिये. उन्हें कहा कि शिक्षा विभाग को अपनी कार्यप्रणाली में गति लानी होगी. उन्हें संचिकाओं के आदान-प्रदान करने मात्र तक सीमित नहीं रहना चाहिये, बल्कि परिणाम व कार्यान्वयन के लिए निरंतर प्रयत्नशील रहना चाहिए.

पंचायत चुनाव में महेंद्र सिंह धौनी कर रहे ड्यूटी! देखें क्या है पूरा माजरा
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 8:13 AM

रांची के राजकुमार महेंद्र सिंह धौनी पंचायत चुनाव में ड्यूटी कर रहे हैं… चौंक गए. चौंकना जरूरी भी है. क्योंकि, वे आईपीएल खेल रहे हैं. ऐसे में वे रांची में कैसे? वह भी पंचायत चुनाव में ड्यूटी? दरअसल रांची में तीसरे चरण के पंचायत चुनाव के दौरान अचानक से महेंद्र सिंह धोनी का नाम जुड़ गया है. माही नहीं, मगर उनके जैसे दिखने वाले एक युवक की चुनाव में ड्यूटी लगने से ही अचानक से धोनी का नाम पंचायत चुनाव से जुड़ गया है.

विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 8:01 PM

विधायक सरयू राय ने राज्य सरकार से आइएएस पूजा सिंघल पर विभागीय कार्रवाई समाप्त करने की संचिका की छाया प्रति उपलब्ध कराने की मांग की है. उन्होंने मुख्य सचिव सुखदेव सिंह को पत्र लिख कर कहा है कि पूर्ववर्ती सरकार के द्वारा आइएएस पूजा सिंघल पर विभागीय कार्रवाई का अभियोग चलाया गया था और बाद में सरकार ने सात फरवरी 2017 को आरोप मुक्त कर दिया था. इसके आधार पर उन पर विभागीय कार्रवाई बंद कर दी गयी और क्लीन चिट दे दी गयी.

मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 7:38 AM

झारखंड बने 22 साल हो गए. हर सरकार में बिजली मंत्री और बिजली अफसर कम से कम राजधानी में जीरो कट का सपना दिखाते रहे, मगर अब तक यह बयान मुंगेरी लाल के हसीन सपने ही साबित हुए. झारखंड गठन के 22 साल में राजधानी में बिजली सुधार को लेकर दो महत्वपूर्ण परियोजना पर काम हुआ जिसमें आरपीडीआरपी और झारखंड संपूर्ण बिजली अच्छादन योजना (जसवे). इसके तहत करीब-करीब 1 हजार करोड़ से अधिक बिजली वितरण सुधार पर खर्च हुए मगर नतीजा सिफर ही साबित हुआ.