Monday, Jun 27 2022 | Time 08:00 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • तंत्र सिद्धि के लिए विभत्स तरीके से की गई महिला की हत्या, पुलिस कर रही मामले की जांच
  • तंत्र सिद्धि के लिए विभत्स तरीके से की गई महिला की हत्या, पुलिस कर रही मामले की जांच
  • बारिश से बाधित मैच में भारत ने आयरलैंड को 7 विकेट से हराकर सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल किया
झारखंड


NTPC के कोल परियोजना से 100 करोड़ से ज्यादा का कोयला गायब

30 किमी की दूरी तय करने के लिए 20 घंटे का चालान, एक चालान पर कई ट्रिप
NTPC के कोल परियोजना से 100 करोड़ से ज्यादा का कोयला गायब
अमित सिंह, न्यूज11 भारत

 

रांची: राष्ट्रीय तापविद्युत निगम, एनटीपीसी लिमिटेड की 21 परियोजनाएं देश में संचालित हो रही हैं. इसमें से 15 परियोजनाएं कोयला आधारित है. इन परियोजनाओं में उच्च स्तर के कोयले की आपूर्ति होती है. कोयले की आपूर्ति एनटीपीसी के कोल परियोजनाओं से की जाती है. हजारीबाग जिले के पंकरी बरवाडीह कोल परियोजना से एनटीपीसी के कई शाखाओं में कोयले की सप्लाई रेलवे रैक से होती है. एनटीपीसी के इस पंकरी बरवाडीह कोल परियोजना से 100 करोड़ से ज्यादा का कोयला गायब करा दिया गया है.

 

यानी एनटीपीसी के पंकरी बरवाडीह कोल परियोजना से तापविद्युत संयत्र के लिए निकाला गया 100 करोड़ से ज्यादा का कोयला चोरी कर खुले बाजार में बेच दिया गया है. कोयला चोरी के इस खेल को पूरे योजनावद्ध तरीके से एक सिंडिकेट हैंडल कर रहा है. इस सिंडिकेट में एनटीपीसी,  त्रिवेणी सैनिक प्राइवेट लिमिटेड,  माइनिंग, फॉरेस्ट, प्रदूषण और पुलिस विभाग के लोग शामिल है. करोड़ों के कोयला चोरी की जांच सीवीओ ने शुरू कर दी है. एनटीपीसी से कोयला उत्पादन, डिस्पैच और ट्रांसपोर्टिंग से संबंधित दस्तावेज मांगे हैं. यह जांच हजारीबाग के मंटू सोनी की शिकायत के बाद शुरू हुई है. 

 

2017 से ही जारी है परियोजना में कोयला चोरी का खेल

न्यूज 11 भारत ने पंकरी बरवाडीह कोल परियोजना में कोयला चोरी की पड़ताल की, तो पता चला कि 2017 से अबतक परियोजना से 100 करोड़ से ज्यादा का कोयला चुरा कर खुले बाजार में बेच दिया गया है. इसके लिए सिंडिकेट के मेंबर्स योजनावद्ध तरीके से काम करते थे. कोयला चोरी को सही ठहराने के लिए कागजी खानापूर्ति करते है. इसी खानापूर्ति में मोटरसाइकल और ऑटो के नंबर ट्रांसपोर्टिंग चालान में डाल दिया, जो माइनिंग डायरेक्टर की जांच में पकड़ा गया. अब पता चला है कि एक ही चलान पर एक डंपर परियोजना से एक बार नहीं, दो से तीन बार कोयला लेकर बाहर निकलता था. मिले साक्ष्य के अनुसार सिंडिकेट के मेंबर जिस डंफर से कोयला चोरी करवाते थे, उसके चालान पर इतना समय लिखा जाता है, जितना समय में एक डंफर खदान से एक ट्रीप वैद्य और कम से कम दो ट्रीप अवैध कोयले की ढुलाई कर सके. ऐसे में किसी को पता भी नहीं चलता है और सबकी आंखों के सामने एनटीपीसी का कोयला खुले बाजार में डंपर से निकाल कर बेच दिया जाता है. कोयला चोरी का यह खेल 2017 से अबतक जारी है. एक अनुमान के अनुसार पंकरी बरवाडीह कोल परियोजना से 100 करोड़ से ज्यादा कोयला चुरा कर खुले बाजार में बेचा जा चुका है.

 

चालान में समय डाल कर ऐसे होता है कोयला चोरी का खेल

पंकरी बरवाडीह कोल परियोजना से रेलवे साइडिंग की दूरी 30 किलोमीटर की है. इस दूरी को एक डंपर, हाईवा या ट्रक फुल लोड कोयला लेकर अधिकतम एक घंटे में तय कर सकता है. मगर माइनिंग डिपार्टमेंट द्वारा जारी चालान पर 5 से 20 घंटे का समय कोयला ढुलाई के लिए दिया जाता है. कई चालान में ऐसा पाया गया है. एक घंटे के बजाए 5 से 20 घंटे का समय इसलिए दिया जाता है, ताकि उसी चालान पर परियोजना से कोयला लेकर खुले बाजार में (डंपर, हाईवा या ट्रक) बेचकर वापस आ सके. इतना ही नहीं, एक ही चालान पर चोरी का कोयला लेकर एक से ज्यादा ट्रिप करें. तभी तो एक घंटे में तय होने वाली दूरी को परियोजना में त्रिवेणी सैनिक प्राइवेट लिमिटेड के तहत चलने वाले कई डंपर, हाईवा या ट्रक 20 घंटे से ज्यादा समय में तय करते हैं. इस संबंध में सीवीओ को कई साक्ष्य मिले है. 

 

परियोजना से निकलता है चोरी का कोयला, एनटीपीसी ने शिकायत में खुद बताया

कोल परियोजना से खुले बाजार में कोयला लेकर जाते हुए कई गाड़ियों को अबतक पकड़ा जा चुका है. खुद एनटीपीसी के अफसरों ने चोरी का कोयला लेकर जा रहे गाड़ियों के खिलाफ दाड़ी ओपी में मामला दर्ज कराया है. मामला दर्ज होने के बाद यह तो तय हो गया है कि परियोजना के लोडिंग प्वाइंट पर गाड़ियों में कोयला चोरी के लिए सबकी आंखों के सामने लोड किया जाता है. मजेदार बात यह है कि कोल परियोजना की सुरक्षा पर करोड़ों रुपए खर्च हो रहे है, ऐसे में सिंडिकेट अपनी पहुंच की बदौलत परियोजना के लोडिंग प्वाइंट पर फर्जी चलान के सहारे चोरी का कोयला लोड करवाता है. चोरी का कोयला हजारीबाग के आसपास डिपो आदि में खपाया जाता है. यह भी कह सकते है कि एक सही चलान पर कई ट्रिप चोरी का कोयला ढोया जाता है.  




जांच में सामने आ चुका है कोयला चोरी

जेआइएमएस प्रणाली के तहत कोयला के ई-परिवहन चालान में अनियमितता पाये जाने की बात सामने आई है. इसमें कई ऐसे वाहनों का नंबर भी मिला है, जो टू-थ्री व्हीलर व कार का था. इसके जरिये एनटीपीसी परियोजना से कोयला प्राप्त कर डीओ होल्डर, ट्रांसपोर्टर व लिफ्टर द्वारा ढुलाई का काम किया जाता था, जो खनन निदेशक के अनुसार स्पष्ट तौर पर अवैध था. दूसरी तरफ पुलिस ने भी अपनी रिपोर्ट में बताया है कि कोयला चोरी से संबंधित एफआईआर के लिए माइनिंग अफसर ने लिखा था. मगर पुलिस ने एफआईआर करने के बजाए, कोयला चोरी में संलिप्त लोगों से ही पूछताछ कर रिपोर्ट बना दी. जिसमें पुलिस ने खुद बताया है कि चालान पर टैंपररी नंबर थे. पुलिस ने कोयला चोरों के इशारे पर अपनी रिपोर्ट बनाई. तभी तो पुलिस को यह नहीं दिखा कि जिस नंबर को टैंपररी बताया जा रहा है, वह मोटरसाइकल और ऑटो के रेगुलर नंबर थे. टैंपरोरी और रेगुलर नंबर अलग-अलग होते हैं.

 
अधिक खबरें
मांडर उपचुनाव : नोटा ने शिवसेना सहित 10 निर्दलीय प्रत्याशियों को हराया, सिर्फ 3 वोट से यह प्रत्याशी पिछड़ गया
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 10:22 PM

मांडर उपचुनाव में कांग्रेस की शिल्पी नेहा तिर्की ने भाजपा की गंगोत्री कुजूर को 23517 वोटों से मात दी. इस जीत के साथ ही वो झारखंड विधानसभा में सबसे कम उम्र की विधायक बन गई. इतना ही नहीं शिल्पी की जीत के साथ विधानसभा में कांग्रेस की महिला विधायकों की संख्या 5 हो गई है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'मांडर की जनता ने भाजपा को नकार दिया'
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 9:58 PM

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने मांडर विधानसभा उपचुनाव के नतीजों पर कहा है कि झारखंड में लगातार हुए विधानसभा के चौथे उपचुनाव में जनता ने भाजपा को नकार दिया है. यह सांप्रदायिक शक्तियों की शिकस्त और झारखंडी संस्कृति व जनता की जीत है.

'वर्दी वाले शिक्षक' को शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने किया सम्मानित
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 9:17 AM

DSP विकास चंद्र श्रीवास्तव को राज्य के अधिकतर युवा वर्ग पुलिस वाले गुरुजी के नाम से जानते है. अपनी दोहरी जिम्मेदारी को बेहद सफलतापूर्वक निभा रहे है. बता दें कि DSP विकास चंद्र श्रीवास्तव इससे पहले रांची सदर और देवघर में एसडीपीओ के पद पर अपनी सेवा दे चुके हैं. DSP विकास चंद्र श्रीवास्तव की क्लास जुलाई माह से शुरू हुई. कोरोना की वजह से जब सभी लोग अपने घर पर थे तब पुलिस और डॉक्टर वर्ग जनता की रक्षा के लिए घर से बाहर था.

शिल्पी नेहा तिर्की ने मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से की मुलाक़ात
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 9:25 PM

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से आज कांके रोड रांची स्थित मुख्यमंत्री आवासीय कार्यालय में मांडर विधानसभा उपचुनाव की विजयी प्रत्याशी शिल्पी नेहा तिर्की ने मुलाकात की. मुख्यमंत्री से यह उनकी शिष्टाचार भेंट थी. इस अवसर पर मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने शिल्पी नेहा तिर्की को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं एवं बधाई दी. मुख्यमंत्री ने शिल्पी नेहा तिर्की से कहा कि जिस आशा और विश्वास के साथ मांडर विधानसभा की जनता ने आपको विधायक के रूप में चुना है, उनके आशा और विश्वास पर खरा उतरकर एक आदर्श विधायक का उदाहरण पेश करें.

मुख्यमंत्री ने की घोषणा, 15 अगस्त से लागू होगी पुरानी पेंशन योजना
जून 26, 2022 | 26 Jun 2022 | 8:18 AM

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने घोषणा की है कि 15 अगस्त को पुरानी पेंशन स्कीम राज्य भर में लागू हो जायेगी. मुख्यमंत्री रविवार को के मोहराबादी मैदान में आयोजित पेंशन महासम्मेलन के मंच से संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि पेंशन योजना की मांग कर रहे कर्मचारी संगठनों के लिए यह अच्छा रहेगा.