Monday, May 23 2022 | Time 19:13 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
  • भारत में ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट BA 5 की भी पुष्टि, तेलंगाना में बुजुर्ग मिला संक्रमित
  • भारत में ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट BA 5 की भी पुष्टि, तेलंगाना में बुजुर्ग मिला संक्रमित
NEWS11 स्पेशल


टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश

पूछताछ के क्रम में कई सनसनीखेज खुलासे आये सामने
टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश
न्यूज11 भारत




रांची: टेरर फंडिंग मामले में नेशनल इनवेस्टीगेशन एजेंसी (एनआइए) महेश अग्रवाल से लगातार पूछताछ कर रही है. पूछताछ के दौरान एनआईए के सामने कई सनसनिखेज और अहम खुलासे किए गये हैं. यहां बताते चलें कि झारखंड हाईकोर्ट से टेरर फंडिंग मामले में आधुनिक पावर कंपनी के एमडी महेश अग्रवाल और ट्रांसपोटर्स अमित अग्रवाल व विनीत अग्रवाल को हाईकोर्ट ने अस्थायी जमानत याचिका को वैकेट कर दिया था. हाईकोर्ट की खंडपीठ चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने इनकी ओर से दाखिल याचिकाओं को खारिज कर दिया था. पूर्व में बहस पूरी होने के बाद अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. जिसके बाद अगले दिन एनआईए ने महेश अग्रवाल को कोलकाता के सॉल्ट लेक स्थित आवास से गिरफ्तार कर लिया था. इस मामले में विनीत अग्रवाल और सोनू अग्रवाल फरार है.

चतरा जिला कांड संख्या 22 ऑफ 2018 में नेशनल इनवेस्टीगेटिंग एजेंसी ने टेकओवर करते हुए जांच शुरू की थी.

 


 

इस मामले में सीसीएल, उग्रवादी और शांति समिति के नाम पर लेवी वसूलने का मामला भी शामिल है. एनआइए ने इस संबंध में सीसीएल के कर्मियों के अलावा 14 आरोपियों के विरुद्ध चार्जशीट दायर करते हुए लिखा था कि टीएसपीसी को लेवी देने के लिए ऊंचे रेट पर मगध और आम्रपाली कोल परियोजना से कोयले की ढुलाई (ट्रांसपोर्टिंग) का काम लिया गया था. टीपीसी के लिए लेवी की वसूली करने वाले बिंदेश्वर गंझू उर्फ बिंदू गंझू को एनआइए ने रांची से गिरफ्तार किया था. उसने ही लेवी देनेवाले ट्रांसपोर्टरों और कंपनियों के नाम का खुलासा किया था. एनआइए को उसने यह भी बताया था कि लेवी के पैसे का हिस्सा पुलिस के आला अफसरों से लेकर नेताओं तक पहुंचाया जाता है. उधर एनआइए को यह भी पता चला कि टेरर फंडिंग का सबसे अहम किरदार यानी सोनू अग्रवाल, जिसके बारे में कहा जाता है कि चतरा के टंडवा में टेरर फंडिंग की पूरी व्यूह रचना उसने कोलकाता ,दुर्गापुर और दिल्ली जैसे शहरों से रहते हुए रची.  यह पता चला कि कैसे 10 रुपये के नोट से करोड़ों की लेवी उठवाने और उसे तय जगह पर पहुंचाने का हाईप्रोफाइल सिस्टम विकसित किया गया था कि जगह पर पैसे पहुंच जायें. सोनू अग्रवाल को एनआईए ने टेरर फंडिंग मामले का आरोपी बनाया है. सोनू अग्रवाल मगध आम्रपाली प्रोजेक्ट में श्री बालाजी ट्रांसपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के जरिये कोयला उठा रही है. NIA ने अपनी चार्जशीट में कहा है कि सोनू अग्रवाल अपने व्यवसाय के सुचारू संचालन के लिए ग्राम समिति के सदस्यों और टीपीसी को लेवी का भुगतान करने के लिए स्थानीय व्यापारियों और अन्य व्यापारियों से नकद राशि की व्यवस्था करता था. इतना ही नहीं सोनू अग्रवाल के आवासीय परिसर से एनआइए ने 7.91 लाख नकद और 10,000 सिंगापुर डॉलर जब्त किए थे, जबकि उसके कार्यालय से 3,72,750 रुपये और 8760 हांगकांग डॉलर जब्त किया गया था.
अधिक खबरें
उपायुक्त छवि रंजन ने हाईकोर्ट में दायर किया शपथ पत्र
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:28 AM

उपायुक्त छवि रंजन ने हाईकोर्ट में शपथ पत्र दायर किया है. अदालत के आदेश के अनुसार शपथ पत्र दायर किया है. अधिवक्ता इंद्रजीत सिन्हा के माध्यम व्यक्तिगत रूप से शपथ पत्र दायर किया. दर्ज शपथ पत्र में अपने ऊपर दर्ज मुक़दमों का डीसी छवि रंजन ने ब्योरा दिया है. शपथ पत्र में एक मुक़दमे का ब्योरा दिया है. साथ ही अपने ऊपर चल रहे विजिलेंस केस की जानकारी भी दी है.

आदिवासी धर्म कोड नहीं तो वोट नहीं का आह्वान, कल राष्ट्रपति से मिलेंगे देश भर के आदिवासी शिष्टमंडल
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:27 AM

आदिवासी धर्म कोड नहीं तो वोट नहीं के आह्वान के साथ आज अखिल भारतीय आदिवासी धर्म परिषद की बैठक आज गांधी पीस फाउंडेशन नई दिल्ली में काशी नाथ गौड़ की अध्यक्षता में बैठक संपन्न हुई. बैठक में आदिवासी धर्म कोड लागू पर चर्चा की गयी. कल इस मसले पर राष्ट्रपति से परिषद के लोग मिलेंगे.

झामुमो ने एक साथ केंद्र सरकार, इलेक्शन कमीशन और निशिकांत पर किया हमला
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:07 PM

झामुमो आज एक साथ केंद्र सरकार, इलेक्शन कमीशन और गोड्‌डा सांसद निशिकांत दूबे पर बड़ा हमला किया है. पार्टी वरिष्ठ नेता सुप्रियो भट्‌टाचार्य ने आज पार्टी कार्यालय में आयोजित एक प्रेस वार्ता में कहा कि जब भाजपा राजनैतिक तौर कहीं पराजित होती है तो वहां पर किसी न किसी तरह से सरकार को परेशान और अस्थिर करने का प्रयास करती है. पहले बंगाल में एक महिला को परेशान किया गया, जब वहां नहीं सके तो केंद्रीय एजेंसी के माध्यम से एक महिला सीएम को परेशान करने का प्रयास किया जाता रहा है.

जांच में खुलासा: कोल कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए गायब कर दिए वित्तीय दस्तावेज
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 5:34 PM

झारखंड की पहचान जल, जंगल और जमीन थी. मगर कुछ लालची अफसरों की वजह से अब इस राज्य की पहचान धूमिल हो रही है. भ्रष्टाचार, कमिशनखोरी और अवैध कारोबार से प्रदेश का नाम जुड़ रहा है. ऐसे में वन विभाग का एक बड़ा मामला सामने आया है. वन विभाग के अफसरों ने कोल कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए वित्तीय दस्तावेज गायब कर दिया.

झारखंड के सबसे चर्चित जिला खनन पदाधिकारी विभूति कुमार थे खनन निरीक्षक
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 5:08 PM

झारखंड के सबसे चर्चित जिला खनन पदाधिकारी विभूति कुमार से प्रवर्तन निदेशालय की टीम पूछताछ कर रही है. सोमवार की सुबह से ही वे ईडी के क्षेत्रीय कार्यालय में हैं. उन्हें समन कर बुलाया गया है. आइएएस पूजा सिंघल के सामने डीएमओ विभूति कुमार को बैठा कर पूछताछ की जा रही है. जिला खनन पदाधिकारी विभूति कुमार पहले खनन निरीक्षक (माइंस इंस्पेक्टर) के पद पर थे. अलग झारखंड राज्य बनने के बाद ये खनन निरीक्षक थे और इनकी पोस्टिंग रांची में थी.