Monday, Jun 27 2022 | Time 07:46 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • बारिश से बाधित मैच में भारत ने आयरलैंड को 7 विकेट से हराकर सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल किया
क्राइम


अवैध बालू उत्खनन और ढुलाई मामले पर सीओ की रिपोर्ट पर एनजीटी को आपत्ति

जिले के उपायुक्त ने भी अपने हलफनामे में कहा कि जिले में नहीं हो रहा है अवैध बालू का उत्खनन
अवैध बालू उत्खनन और ढुलाई मामले पर सीओ की रिपोर्ट पर एनजीटी को आपत्ति

न्यूज 11 भारत


रांची: दुमका जिले में अवैध बालू उत्खनन और ढुलाई मामले पर अंचल अधिकारी अतुल रंजन भगत की रिपोर्ट पर नेशनल ग्रीन ट्रीब्यूनल ने आपत्ति जतायी है. रानेश्वर अंचल के सीओ अतुल रंजन भगत ने 20 अगस्त 2021 और 21 अगस्त 2021 के आधार पर एनजीटी को अपनी जांच रिपोर्ट भेजी है. एनजीटी के न्यायिक सदस्य जस्टिस बी अमित स्थालेकर और विशेषज्ञ सदस्य शैबाल दासगुप्ता ने देवाशीष दास बनाम झारखंड सरकार की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया. 


पीठ का कहना था कि झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद को बिना किसी सूचना दिये कैसे अंचल अधिकारी ने अपनी रिपोर्ट दे दी. जबकि प्रदूषण नियंत्रण पर्षद के सदस्य सचिव यतींद्र कुमार दास ने अदालत को बताया था कि यह जांच 25 अगस्त 2021 को होनी थी. ऐसे में सीओ ने कैसे अपनी रिपोर्ट दे दी, क्योंकि वे जांच समिति का हिस्सा भी थे. एनजीटी ने गलत हलफनामा देने के मामले पर रानेश्वर के अंचल अधिकारी को शो काउज नोटिस भेजा है और विस्तृत जवाब देने को कहा है. प्रदूषण नियंत्रण पर्षद की तरफ से बताया गया कि तय तिथि को अवैध बालू खनन मामले में कोई जांच ही नहीं हुई. जिला दंडाधिकारी सह उपायुक्त को भी इसकी सूचना नहीं दी गयी थी. प्रदूषण नियंत्रण पर्षद की ओर से सात अगस्त 2021 को पत्र लिख कर 25 अगस्त को जांच करने की बातें कही गयी थी. 


ये भी पढ़े: सुप्रीम कोर्ट ने दिया कोविड टीकाकरण को लेकर अहम निर्देश


दुमका के रानेश्वर और अन्य जगहों पर जिले के उपायुक्त की तरफ से दिये गये एफीडेविट में कहा गया था कि बालू का अवैध उत्खनन दुमका में नहं हो रहा है. ऐसे में पर्यावरण को होनेवाली क्षति को लेकर राज्य सरकार किसी तरह का मुआवजा पर्यावरण विभाग को नहीं सौंपेगी. उपायुक्त के एफीडेविट में यह भी कहा गया कि दो लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है.


मालूम को कि दुमका जिले में अवैध बालू उत्खनन और ढुलाई को लेकर एनजीटी में मामला चल रहा है. इसमें रानेश्वर प्रखंड में अवैध बालू उत्खनन से हो रहे पर्यावरण के नुकसान और इकोलोजी सिस्टम बिगड़ने को लेकर शिकायत दर्ज करायी गयी है. यह कहा गया है कि रानेश्वर प्रखंड के जिस नदी से बालू का उठाव किया जा रहा है, उसके किनारे पर और आसपास के गांवों पर बुरा असर पड़ रहा है. पोकलेन और अन्य उपकरणों से बालू की निकासी की जा रही है.

अधिक खबरें
सावधान! रांची डीसी के नाम से वॉट्सऐप की फेक आईडी बनाकर ठगी का हो रहा प्रयास
जून 25, 2022 | 25 Jun 2022 | 1:45 AM

राजधानी सहित राज्यभर में साइबर अपराध की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं. आए दिन ठगी की खबरें सामने आती रहती हैं. मगर अब साइबर अपराधियों का मनोबल इतना बढ़ गया है कि वे प्रशासनिक पदाधिकारियों के साथ भी साइबर अपराध करने में नहीं झिझक रहे हैं.

BJP नेता सुरेंद्र राय हत्याकांड मामले में संदीप थापा और सुजीत सिन्हा दोषी करार, उम्रकैद की सजा
जून 25, 2022 | 25 Jun 2022 | 12:46 PM

सिविल कोर्ट के अपर न्यायायुक्त में सुरेंद्र राय हत्याकांड की सुनवाई हुई. कोर्ट ने सभी पक्षों को सुना, गवाहों के बयान दर्ज हुए, जिसके आधार पर कोर्ट ने संदीप थाना, चंद्रमौली सिंह और सुजीत सिन्हा को दोषी करार दिया. दोषियों को कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई. साथ ही जुर्माना भी लगाया है. बता दें, रांची में गोलीबारी के केस में संदीप थापा को गिरफ्तार किया गया था.

तुपुदाना क्षेत्र के गढ़शूला से PLFI के तीन उग्रवादी धराए, कंस्ट्रशन साइट पर हमले की थी योजना
जून 25, 2022 | 25 Jun 2022 | 11:33 AM

पुलिस और PLFI उग्रवादियों के बीच मुठभेड़ होते-होते रह गया. यह घटना तुपुदाना ओपी क्षेत्र के रांची और खूंटी बॉडर पर हुई है. जानकारी के मुताबिक, पुलिस को सूचना मिली थी कि तुपुदाना ओपी के गढ़शूल में PLFI के एक दस्ता देखा गया है.

सीआईडी को दो बड़े मामलों में जांच की जिम्मेवारी, सीएम से मिली हरी झंडी
जून 25, 2022 | 25 Jun 2022 | 7:34 AM

अपराध अनुसंधान विभाग, सीआईडी को दो बड़े मामलों के जांच की जिम्मेवारी मिली है. झारखंड सरकार ने निर्णय लिया है कि 100 करोड़ रुपए के मोमेंटम घोटाले की जांच सीआईडी करेगी. इसके लेकर सीएम हेमंत सोरेन ने अपनी सहमति दे दी है.

पत्नी की हत्या करने वाले हत्यारे पति को मिला आजीवन कारावास की सजा
जून 24, 2022 | 24 Jun 2022 | 2:04 PM

पत्नी की हत्या करने वाले आरोपी पति को कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. वहीं 10 हजार का जुर्माना भी लगाया है. जुर्माना नहीं देने पर आरोपी को अतिरिक्त 1 साल कठोर कारावास की सजा भुगतना होगा.