Thursday, Jan 20 2022 | Time 17:17 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • उत्तराखंड के 70 विधानसभा सीटों के लिए भाजपा की पहली सूची जारी
  • उत्तराखंड के 70 विधानसभा सीटों के लिए भाजपा की पहली सूची जारी
  • उत्तराखंड के 70 विधानसभा सीटों के लिए भाजपा की पहली सूची जारी
  • 24 जनवरी से खुलेंगे इस राज्य के प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक के स्कूल
  • 24 जनवरी से खुलेंगे इस राज्य के प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक के स्कूल
  • 24 जनवरी से खुलेंगे इस राज्य के प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक के स्कूल
  • टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश
  • टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश
  • मॉब लिंचिंग मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद बड़ा खुलासा
  • मॉब लिंचिंग मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद बड़ा खुलासा
  • मॉब लिंचिंग मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद बड़ा खुलासा
  • एक बार फिर गोड्डा कॉलेज की प्रोफेसर रजनी मुर्मू ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा, कुछ लोग मेरे पीछे पड़े
  • एक बार फिर गोड्डा कॉलेज की प्रोफेसर रजनी मुर्मू ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा, कुछ लोग मेरे पीछे पड़े
  • गुजरात से भारी मात्रा में पकड़ा गया विदेशी गांजा, कार के कबाड़ में था छुपाया
  • गुजरात से भारी मात्रा में पकड़ा गया विदेशी गांजा, कार के कबाड़ में था छुपाया
NEWS11 स्पेशल


नेहरू जी की विंटेज कार एचईसी में बन गई कबाड़, देखें Video

15 नवंबर 1962 को उपहार में मिली थी ब्यूक ऑटोमेटिक कार
नेहरू जी की विंटेज कार एचईसी में बन गई कबाड़, देखें Video
अमित सिंह, न्यूज 11 भारत

रांची: रूस की सहायता से हेवी इंजीनियरिंग कॉरपोरेशन लिमिटेड, यानी एचईसी का निर्माण हुआ था. 15 नवंबर 1962 को रांची में देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने एचईसी का उद्धाटन किया था. कंपनी देश को समर्पित करते हुए नेहरू जी ने कहा था यह कारखानों का मंदिर है. रांची में नेहरू जी के आने से पहले उनकी विंटेज कार पहुंची थी. उसी ब्यूक स्टेट वैगन कार से नेहरू जी ने एचईसी कारखाना का दौरा किया था. जिसके बाद नेहरू जी ने उपहार के तौर पर कार को एचईसी प्रबंधन को सौंप दिया जिनका नंबर- डीईएल 2113 है. 

 


 

धरोहर को भी नहीं बचा पाया प्रबंधन

एचईसी की वर्तमान स्थिति बेहतर नहीं है, कंपनी आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहा है. इस आर्थिक तंगी का खामियांजा कंपनी और कर्मियों के साथ नेहरू जी विंटेज कार को भी भुगतना पड़ा. नेहरू जी की विंटेज कार एचईसी में कबाड़ बनकर रह गई है. जो एक शानदार धरोहर थी. उस धरोहर को भी एचईसी सुरक्षित नहीं रख पाया. वर्तमान में विंटेज कार एचईसी के सेंट्रल ट्रांसपोर्ट के एक गराज में धूल फांक रहा है. जिसे कोई देखने वाला नहीं है. एक समय यह कार एचईसी की शान हुआ करती थी. प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी आई, तो इसी विंटेज कार की सवारी की. एचईसी के स्थापना दिवस पर आयोजित होनेवाले कार्यक्रम में कार आकर्षण का केंद्र हुआ करता था.


 


 

एचईसी में आज ब्यूक स्टेट वैगन विंटेज कार अन्य गाड़ियों की तरह लावारिश हालत में पड़ी हुई है. देखरेख करने वाला कोई नहीं है. टायर तक सुरक्षित नहीं है. यानी विंटेज कार अब चलने की स्थिति में नहीं है. विंटेज कार पर न्यूज 11 भारत की विशेष खबर.


 

नेहरू कार : जाने क्या है इसकी विशेषता

 

लेफ्ट हैंड ड्राइव ऑटोमेटिक कार

ब्यूक कंपनी ने 1955 से लेकर 1958 के बीच कार के कई मॉडल उतारे. तब ब्यूक कार अमेरिका की सबसे अधिक बिकने वाली कार थी. इसी के तहत 1958 में ब्यूक स्टेट वैगन कार आई. जो आज एचईसी के सेंट्रल स्टोर में पड़ी हुई है. गराज के एक कमरे में धूल फांक रही है. यह कार ऑटोमेटिक श्रृंखला की सबसे बेहतरीन कार है. इस कार में क्लच नहीं है. लेफ्ट हैंड ड्राइव कार में स्टीयरिंग के साथ एक लीवर है. जिसमें एक रियर और दूसर बैक गेयर है. 

 

80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार 

ब्यूक 1958 में सबसे लंबी और चौड़ी कार थी. यह 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलती थी. यह कार 13.5 लीटर पेट्रोल में 100 किलोमीटर का माइलेज देती थी. कार का ग्राउंड क्लीयरेंस 175 मिमी है. इस कार का व्हील बेस 3225.8 मिमी है. ये एक फ्रंट इंजन वाली रियर व्हील ड्राइव कार है, जो कि उस दौर में सबसे ज्यादा महंगी माने जाने वाली कार हुआ करती थी.

 


 

ट्विन हेडलाइट विशेष आकर्षण

ब्यूक अन्य कार की तुलना में अधिक क्रोम और स्टेनलेस-स्टील ट्रिम से सजा हुआ है. अधिक क्रोम और ट्विन हेडलाइट्स विशेष आकर्षण का केंद्र है. कार के ग्रिल में 160 क्रोम स्क्वेयर से लेकर रियर बंपर में नकली जेट एग्जॉस्ट आउटलेट तक, जेट एज का प्रभाव देखा जा सकता है. इसमें स्टाइलिश 4-डोर हार्डटॉप बॉडी स्टाइल के अलावा, यह 364 क्यूबिक-इंच 'फायरबॉल' V8 इंजन द्वारा संचालित था और इसमें एक अच्छी तरह से नियुक्त शानदार इंटीरियर है.
अधिक खबरें
दुमका के 276 गांव के 22,283 हेक्टेयर खेतों में मसलिया-रानीश्वर मेगा लिफ्ट सिंचाई योजना से पहुंचेगा पानी
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 4:47 PM

झारखंड राज्य में पहली बार खेतों मं पाइपलाइन से सिंचाई के लिए प्रणाली विकसित होगी. इससे विशेषकर पहाड़ी एवं ऊंचाई वाले क्षेत्रों को सिंचाई आसान हो जाएगी. खेतों तक सिंचाई के लिए पाइप लाइन पहुंचेगा. लिफ्ट सिंचाई योजना को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन काफी गंभीर है.

उत्तराखंड के 70 विधानसभा सीटों के लिए भाजपा की पहली सूची जारी
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 4:18 PM

भाजपा ने आगामी उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए 70 में से 59 उम्मीदवारों की सूची जारी की. उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी खटीमा से चुनाव लड़ेंगे. भाजपा के पूर्व सीएम रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत ने चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की है.

24 जनवरी से खुलेंगे इस राज्य के प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक के स्कूल
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 3:58 AM

कोरोना के तीसरे लहर के कहर से पूरा देश त्रस्त है. कोरोना के मामले आये दिन बढ़ते ही जा रहे है. बीते कल पुरे देशभर में कोरोना के कुल 2 लाख 82 हज़ार 970 नए मामले रिकॉर्ड हुए है. कोरोना की हालात बेकाबू होने के कारण लोग बहुत ही चिंतित है. असम, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश समेत कई राज्यों में कोरोना के मामलों में भारी वृद्धि हो रही है.

JPSC: मुख्य परीक्षा में सफल होने के 5 प्रमुख टिप्स
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 1:51 PM

झारखंड पब्लिक सर्विस कमिशन, जेपीएससी की 7वीं से 10वीं संयुक्त सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा 28 से 30 जनवरी तक होगी. रांची में ही कुल 14 परीक्षा केंद्रों पर 4293 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे. विभिन्न सेवाओं के लिए कुल 252 पदों पर नियुक्ति के लिए चार वर्षों 2017, 2018, 2019 और 2020 के लिए प्रारंभिक परीक्षा एक साथ हुई थी.

मनरेगा से किए बागवानी से आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहे है झारखंड के किसान
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 1:17 PM

मनरेगा के तहत किए गए बागवानी योजना से झारखंड के किसान विशेषकर महिला किसान आत्मनिर्भरता की ओर बढ़े हैं. इस योजना से अकुशल श्रमिकों के जीवन, आजीविका के लिए दीर्घकालीन टिकाऊ परिसंपत्ति का निर्माण हुआ हैं. इसको लेकर उषा मार्टिन यूनिवर्सिटी के प्रबंध निकाय प्रोफेसर डॉ अरविंद हंस और उनके नेतृत्व में अध्ययन कर रहे प्रेमशंकर सहित अन्य ने राज्य के गुमला व खूंटी जिला के पांच प्रखंडों में 130 लाभुकों के उपर सर्वे किया.