Friday, Jan 21 2022 | Time 10:58 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
झारखंड


छठ पूजा में खरना है खास, प्रसाद ग्रहण भी करते हैं विशेष नियम के साथ

छठ पूजा में खरना है खास, प्रसाद ग्रहण भी करते हैं विशेष नियम के साथ

न्यूज11 भारत

Chhath Puja 2021: देशभर में, खासकर उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में दिवाली के बाद छठ का महापर्व मनाया जाता है. इस साल कल यानी 8 नवंबर को नहाय-खाय के साथ छठ का शुरुआत हो गई. इसके अगले दिन (9 नवंबर 2021) यानी आज खरना होगा. छठ पूजा में खरना का विशेष महत्व होता है. खरना में छठ व्रती दिन भर का व्रत रखकर रात में खरना का प्रसाद ग्रहण करती हैं, उसके बाद पूरे 36 घंटे का व्रत शुरू हो जाता है. खरना का प्रसाद का बहुत महत्व माना जाता है, जिसे बहुत ही नियम के साथ ग्रहण किया जाता है. 


छठ में तन-मन की शुद्धि 

छठ के दूसरे दिन कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि के खरना होता है. खरना के एक दिन पहले यानी नहाय-खाय के दिन जहां तन की स्वच्छा की जाती है, वहीं दूसरे दिन खरना में मन की स्वच्छता पर ध्यान दिया जाता है. इसके बाद षष्ठी पूजन होता है और भगवान सूर्य को संध्या अर्घ्य देकर उनका आहवाहन किया जाता है. उसके अगले दिन सप्तमी को उदीयमान सूरज को अर्घ्य देकर छठ महापर्व का समापन होता है.


खरना का प्रसाद

खरना के दिन भगवान सूर्य और छठी मैय्या का पूजन किया जाता है. खना में संध्या के समय पूजा के बाद गुड़ और चावल की खीर बनाई जाती है. इसके साथ आटे की रोटी भी बनाई जाती है. ये प्रसाद मिट्टी के चुल्हे में आम की लकड़ी जलाकर बनाई जाती है. हालांकि शहरों में मिट्टी के चूल्हे की उपलब्धता न होने की स्थिति में कुछ लोग नए गैस चूल्हे पर भी इसे बनाते हैं. पर इसका खास ध्यान रखा जाता है कि चूल्हा नया हो और अशुद्ध न हो. खरना के प्रसाद से भगवान को भोग  लगाते हैं. भगवान को भोग लगाने के बाद छठ व्रती सबसे पहले प्रसाद ग्रहण करती हैं, जिसके बाद अन्य लोगों में प्रसाद को बांटा जाता है.


इसे भी पढ़ें, छठ पूजा को लेकर शहर में वाहनों की रहेगी नो-इंट्री, इस प्रकार वाहनों का होगा परिचालन


खरना प्रसाद ग्रहण करने का विशेष नियम

खरना के प्रसाद विधि-विधान और पूरे नियम के साथ ग्रहण किया जाता है. इसके लिए एक विशेष नियम है. जैसा कि खरना में गुड़ और चावल की बनी खीर का भगवान को भोग लगाने के बाद सबसे पहले छठ व्रती दिन भर के व्रत के बाद इस प्रसाद का ग्रहण करती हैं. इस दौरान घर के सभी लोगों को बिल्कुल शांत रहना होता हैं. प्रसाद ग्रहण करते वक्त छठ व्रती के कान में जरा भी आवाज चली जाए तो वो खाना बंद कर देते हैं. छठ व्रती जब प्रसाद ग्रहण कर लेती हैं, उसके बाद ही प्रसाद का वितरण परिवार और अन्य लोगों में किया जाता है.


 
अधिक खबरें
धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 10:06 AM

बाघमारा थाना अंतर्गत केशरगढ़ पंचायत के केशरगढ़ रेल साइडिंग के आस-पास झाड़ियों में ग्रामीणों ने कोयला छुपा कर रखा है जिसके खिलाफ पुलिस सीआईएसएफ की संयुक्त टीम ने छापेमारी किया. जानकारी के अनुसार ग्रामीणों द्वारा भारी मात्रा में रेल साइडिंग से कोयला को उतारकर झाड़ियों में छुपाकर रखा गया था

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन जैसे दिग्गजों को पछाड़ा
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 8:42 AM

अमेरिका की डाटा इंटेलिजेंस फर्म मॉर्निंग कंसल्ट ने दुनियाभर के नेताओं की ग्लोबल अप्रूवल रेटिंग को लेकर एक ताजा सर्वे कर नेताओं की लोकप्रियता का पता लगाया है. इस लिस्ट में एक बार फिर पीएम मोदी टॉप पर है. इसमें मोदी की ग्लोबल अप्रूवल रेटिंग 71% है.

बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 7:39 AM

पांच साल तक के बच्चों के लिए मास्क पहनने की कोई जरूरत नहीं है. इसी तरह 18 साल से कम उम्र के बच्चों और किशोरों के लिए एंटीवायरल या मोनोक्लोनल एंटीबाडी का उपयोग करने की सिफारिश नहीं की जाती है, भले ही कोरोना संक्रमण की गंभीरता कुछ भी हो. यदि स्टेरायड का उपयोग किया भी जाता है, तो उन्हें 10 से 14 दिन तक डाइल्यूट (पतला) करके देना चाहिए. सरकार की ओर से गुरुवार को ये दिशा-निर्देश जारी किए गए.

इस शख्‍स ने 25 साल से नहीं झपकाई अपनी पलके
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 9:57 PM

रांची: आप आंख लड़ाते हैं क्या.. आंख लड़ाते हैं तो पलक झपक जाती होगी.. पर दुनिया में एक शख्स ऐसा है जो आंख लड़ाने के इस खेल में कभी हारेगा ही नहीं. इस शख्स ने आखिरी बार 1996 में पलक झपकाई थी. इस शख्स का नाम है अमर वर्मा. आपको अमर की आंखें डरा भी सकती हैं. .लेकिन जब आप अमर की मासूमियत और उनकी मजबूरी देखेंगे. तो आपको बस मन करेगा की कैसे अमर की मदद की जाये.

'पेट्रोल सब्सिडी योजना' के तहत राशनकार्ड धारियों के आने लगे आवेदन
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 9:35 PM

रांची: मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना अथवा झारखण्ड राज्य खाद्य सुरक्षा योजना से आच्छादित गरीब लोगों को उनके दो-पहिया वाहन के लिए 'पेट्रोल सब्सिडी योजना' के तहत लाभ देने हेतु CM-SUPPORTS एप लांच करने के साथ ही राशनकार्ड धारियों की सकारात्मक प्रतिक्रिया सामने आने लगी है.