Friday, Dec 9 2022 | Time 18:30 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म और ट्रेन के बीच फंसी छात्रा, Video देखें
  • रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म और ट्रेन के बीच फंसी छात्रा, Video देखें
  • शादी समारोह में गैस सिलेंडर फटने से 5 की मौत, 63 से अधिक लोग झुलसे 11 की हालत गंभीर
  • बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे मुकाबले के लिए भारतीय टीम में 3 बड़े बदलाव
  • बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे मुकाबले के लिए भारतीय टीम में 3 बड़े बदलाव
  • साहिबगंज डीएसपी राजेंद्र दुबे पहुंचे ईडी दफ्तर, पूछताछ शुरू
  • साहिबगंज डीएसपी राजेंद्र दुबे पहुंचे ईडी दफ्तर, पूछताछ शुरू
  • रेलवे अधिकारी के शरीर से अचानक निकलने लगी आग की चिंगारी, देखें Video
  • एक जनवरी 2023 से सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की प्रैक्टिकल परीक्षाएं
  • एक जनवरी 2023 से सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की प्रैक्टिकल परीक्षाएं
  • बारातियों के पटाखें से कई दुकानों में लगी आग, लाखों का सामान जलकर राख
  • बारातियों के पटाखें से कई दुकानों में लगी आग, लाखों का सामान जलकर राख
  • पलामू में जिला स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन
  • पलामू में जिला स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन
  • पलामू में जिला स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन
झारखंड


फसल क्षति की क्षतिपूर्ति करने के लिए किसानों के लिए झारखंड राज्य फसल राहत योजना

फसल क्षति की क्षतिपूर्ति करने के लिए किसानों के लिए झारखंड राज्य फसल राहत योजना
न्यूज11 भारत




रांचीः किसानों को फसल की क्षति होने पर उसकी क्षतिपूर्ति करने के लिए कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग (सहकारिता प्रभाग) ने झारखंड राज्य फसल राहत योजना शुरू की है. किसी भी प्राकृतिक आपदा और प्राकृतिक दुर्घटनाओं के कारण फसल की क्षति होने पर कृषकों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से यह योजना शुरू की गई है. योजना में लघु एवं सीमांत रैयत तथा गैर रैयत कृषकों को शामिल किया गया है. कृषक न्यूनतम 10 डिसमल और अधिकतम 5 एकड़ तक की भूमि के लिए निबंधन करा सकते हैं. योजना सभी किसानों के लिए स्वैच्छिक होगी. किसानों का झारखंड राज्य का निवासी होना जरूरी है, जिनकी उम्र न्यूनतम 18 वर्ष होनी चाहिए. खरीफ फसल मौसम 2022 के लिए निबंधन की प्रक्रिया शुरू है. इसके लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 15 सितंबर 2022 है.

 

यह योजना फसल बीमा योजना न होकर फसल की क्षति होने पर किसानों को प्रदान की जाने वाली एक क्षतिपूर्ति योजना है. किसानों को प्राकृतिक आपदा के कारण फसल क्षति के मामले में सुरक्षा कवच प्रदान करने तथा एक निश्चित आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी. योजना से भूस्वामी तथा भूमिहीन किसान, दोनों ही लाभान्वित होंगे. प्रीमियम का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं होगी. योजना के लिए जिला स्तर पर उपयुक्त, प्रखंड स्तर पर अंचलाधिकारी तथा पंचायत स्तर पर मुखिया को अध्यक्ष बनाया गया है. जिला स्तर पर जिला सहकारिता पदाधिकारी, प्रखंड स्तर पर प्रखंड सहकारिता प्रसार पदाधिकारी तथा पंचायत स्तर पर पंचायत सचिव इसके नोडल पदाधिकारी रहेंगे.

 

ये भी पढ़ें- 2014-15 से प्रकाशित नहीं हुआ है जेएसएमडीसी का बैलेंस शीट, पीएल एकाउंट

 

योजना के लिए www.jrfry.jharkhand.gov.in पोर्टल विकसित किया गया है. इससे किसान, राज्य तथा बैंक के बीच बेहतर प्रशासन एवं समन्वय के साथ-साथ सूचनाओं का प्रसार किया जायेगा. क्षति पूर्ति की गणना इत्यादि के उद्देश्य से फसल वार, क्षेत्रवार, विगत वर्षा के उपज आंकड़े, मौसम के आंकड़े, बुवाई क्षेत्र, क्षतिपूर्ति के आंकड़े, आपदा वर्षों तथा वास्तविक उपज संबंधी सभी आंकड़े उपलब्ध कराए जाएंगे. योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को www.jrfry.jharkhand.gov.in पोर्टल पर जानकारियां अपलोड करनी है. क्षतिपूर्ति प्राप्त करने के लिए आधार कार्ड अनिवार्य है. पात्र किसान स्व घोषणा पत्र के माध्यम से अपने आधार का उपयोग करने की सहमति देंगे. आधार कार्ड नहीं रखने वाले किसान भी नामांकन कर सकते हैं. उनको आधार नंबर के लिए नामांकन का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा. योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए राज्य स्तरीय, जिला स्तरीय, प्रखंड स्तरीय तथा पंचायत स्तरीय समन्वय समिति का गठन किया गया है. इसके अलावा विभागीय कार्यकारी समिति, शिकायतों का निवारण करने के लिए पंचायत स्तरीय, प्रखंड स्तरीय व जिला स्तरीय शिकायत निवारण कोषांग का गठन किया गया है. किसानों को क्षतिपूर्ति प्रदान करने के लिए पीएफएमएस पोर्टल के द्वारा डीबीटी के माध्यम से मुआवजा राशि जारी की जाएगी. कम से कम 20% फसल की क्षति का नुकसान होने पर फसल सहायता किसान को दी जाएगी. 20% से अधिक क्षति होने पर प्रो राटा के आधार पर सहायता का लाभ दिया जाएगा. 

 

ऑनलाइन पंजीकरण के लिए यह अनिवार्य

 

ऑनलाइन निबंधन के लिए आधार नंबर, मोबाइल नंबर, आधार से लिंक बैंक खाता, अद्यतन भू-स्वामीत्व प्रमाण पत्र अथवा 31 मार्च 2022 तक की राजस्व रसीद देना जरूरी है. इसमें मुखिया, ग्राम प्रधान, राजस्व कर्मचारी, अंचल अधिकारी द्वारा निर्गत वंशावली, सरकारी भूमि पर खेती करने के लिए राजस्व विभाग से निर्गत बंदोबस्ती पट्टा, रैयत और बटाईदार द्वारा घोषणा पत्र, पंजीकृत किसानों के चयनित फसल एवं बुवाई के रकवा का पूरा विवरण, योजना के प्रमुख प्रावधान, केवल प्राकृतिक आपदा से होने वाले फसल क्षति का लाभ प्रदान किया जाएगा, फसल मौसम (खरीफ एवं रबी) में अलग-अलग निबंध एवं आवेदन करना होगा, योजना के लिए कोई प्रीमियम नहीं देना होगा, प्राकृतिक आपदा से फसल क्षति का आकलन एवं निर्धारण क्रॉप कटिंग एक्सपेरिमेंट (सीसीई) के द्वारा किया जाएगा, 30% से 50% तक क्षति होने पर आवेदक को प्रति एकड़ 3000 रुपए, 50% से अधिक क्षति होने पर प्रति एकड़ 4000 रुपए एवं अधिकतम 5 एकड़ तक फसल क्षति का लाभ प्रदान किया जाएगा.

 


 

आवेदन करने की पात्रता

 

सभी रैयत एवं बटाईदार किसान, किसान झारखंड राज्य का निवासी होना चाहिए, किसान की उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए, वैध आधार संख्या, कृषि कार्य करने से संबंधित वैध दस्तावेज, न्यूनतम 10 डेसिमल और अधिकतम 5 एकड़ तक की भूमि के लिए निबंध कर सकते हैं, योजना सभी कृषकों के लिए स्वैच्छिक है, आवेदक किसानों को अपना संख्या बायोमैट्रिक प्रणाली से प्रमाणित करना होगा.
अधिक खबरें
पलामू में जिला स्तरीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 12:44 PM

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन खतियानी जोहार यात्रा के क्रम में पलामू में हैं. पलामू के पुलिस स्टेडियम परिसर में मुख्यमंत्री जिले के उपायुक्त और अन्य प्रशासनिक अधिकारियों के साथ प्रमंडलीय समीक्षा बैठक कर रहे हैं.

बारातियों के पटाखें से कई दुकानों में लगी आग, लाखों का सामान जलकर राख
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 1:22 PM

बोकारो में बीती रात बारातियों की तरफ से फोड़े जा रहे पटाखे से कई दुकानों में भीषण आग लगी. जिससे दुकान में रखे लाखों के सामान की जलकर खाक होने की बात कही जा रही है.

24 घंटे में ही बदला गया जला हुआ ट्रांसफार्मर
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 12:21 PM

झारखंड राज्य विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (जेयूभीएनएल) की तरफ से राजधानी में लोगों की शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई होने लगी है. कहने को राज्य के विद्युत कर्मी हड़ताल पर हैं. ऐसे में सबसे बड़ी चुनौती निगम के पास बिजली के तारों में डीफाल्ट और जले हुए ट्रांसफार्मर को बदलने की थी.

रांची समेत पूरे राज्य में शीतलहरी से और बढ़ेगी ठंड
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 10:48 AM

बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दबाव का असर राजधानी रांची समेत पूरे राज्य में पड़ने लगा है. इस कारण राज्य के मौसम का पारा लगातार नीचे गिरता जा रहा है. जिसके कारण ठंड बढ़ने लगी है. मौसम विभाग केंद्र के मुताबिक, राज्य के तापमान में आगे और भी गिरावट होने की संभावना जताई जा रही है.

तीन बच्चों के अभ्यर्थी को निकाय चुनाव का उम्मीदवार नहीं बनाये जाने का मामला हाईकोर्ट पहुंचा
दिसम्बर 08, 2022 | 08 Dec 2022 | 6:10 PM

स्थानीय निकायों के चुनाव मामले पर झारखंड हाईकोर्ट में उस नियम को चुनौती दी गयी है, जिसमें यह कहा गया है कि तीन बच्चों के माता-पिता वाले उम्मीदवार चुनाव नहीं लड़ पायेंगे. झारखंड हाईकोर्ट में कृष्ण कुमार नामक व्यक्ति ने अपने अधिवक्ता आकाशदीप के जरिये याचिका दायर की है