Tuesday, Dec 7 2021 | Time 16:55 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • 5 दिन में 408 छात्रों को मिला जॉब ऑफर, 54 लाख तक का पैकेज
  • चहारदीवारी नहीं हटने पर हाई कोर्ट ने लगाई SSP को फटकार
  • चहारदीवारी नहीं हटने पर हाई कोर्ट ने लगाई SSP को फटकार
  • बढ़ सकती है बिजली दर, 25 प्रतिशत तक बढ़ोतरी का प्रस्ताव
  • बढ़ सकती है बिजली दर, 25 प्रतिशत तक बढ़ोतरी का प्रस्ताव
  • अब बड़े बकायेदारों पर बिजली बोर्ड करेगा सख़्ती, थोक के भाव से जारी हुआ नोटिस
  • अब बड़े बकायेदारों पर बिजली बोर्ड करेगा सख़्ती, थोक के भाव से जारी हुआ नोटिस
  • एकलव्य स्कूल मामले में विरोध कर रहे लोगों और पुलिस में झड़प, दो पुलिसकर्मी घायल
  • एकलव्य स्कूल मामले में विरोध कर रहे लोगों और पुलिस में झड़प, दो पुलिसकर्मी घायल
  • निदेशक सैनिक कल्याण निदेशालय ब्रिगेडियर ने सीएम हेमंत सोरेन से की मुलाकात
  • निदेशक सैनिक कल्याण निदेशालय ब्रिगेडियर ने सीएम हेमंत सोरेन से की मुलाकात
  • निदेशक सैनिक कल्याण निदेशालय ब्रिगेडियर ने सीएम हेमंत सोरेन से की मुलाकात
  • पति की मौत के बाद बच्चों का पेट पालने के लिए मां बन गई लुटेरन
  • पति की मौत के बाद बच्चों का पेट पालने के लिए मां बन गई लुटेरन
  • झारखंड में Lockdown की अफवाह फैलाने के मामले में WhatsApp Group Admin से होगी पूछताछ
झारखंड


सौर ऊर्जा से शुरू हुई सिंचाई, किसान करने लगे कई गुना कमाई

कृषि को बढ़ावा देकर पलायन रोकने हेतु सरकार कर रही प्रयास
सौर ऊर्जा से शुरू हुई सिंचाई, किसान करने लगे कई गुना कमाई

रांचीः राज्य सरकार कृषि आधारित  ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास का लक्ष्य लेकर कार्य कर रही है जिसका प्रतिफल है कि राज्य के किसान बहुफसलीय खेती की ओर अग्रसर हो रहे हैं. मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के बजट में कृषि को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाओं का समावेश किया था. योजनाओं के क्रियान्वयन के बाद उसका फलाफल भी सामने आने लगा है. इसमें सबसे अधिक योगदान अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं का है. यह झारखण्ड के किसानों के लिए लाभदायक साबित हो रहा है. राज्य के किसानों को सिंचाई के क्षेत्र में सहयोग देने के लिए लिफ्ट सिंचाई प्रणाली उन किसानों को मदद कर रही है, जो डीजल पंप समेत अन्य पारंपरिक संसाधन तथा बोरिंग सिस्टम का खर्च नहीं उठा सकते. 


सौर आधारित लिफ्ट सिंचाई की प्रणाली लागू 


झारखण्ड के सिर्फ अति पिछड़ा सिमडेगा जिला को लें, तो यहां के गरीब किसानों के हित में जिले के कई हिस्सों में सौर आधारित लिफ्ट सिंचाई प्रणाली लागू की गई है. सौर आधारित लिफ्ट सिंचाई प्रणाली जिले के हजारों किसानों को सिंचाई सुविधा प्रदान कर रही है और इससे गरीब किसानों का जीवन बदल रहा है. पहले सिंचाई की सुविधा कम होने के कारण राज्य के किसान वर्ष में सिर्फ एक फसल ही पैदा करते थे. अब सौर-आधारित सिंचाई सुविधा की मदद से किसान एक वर्ष में कई फसलों का विकल्प चुन रहे हैं. पहले झारखण्ड के अधिकतर किसान मानसून के दौरान ही खेती करते थे और इसके बाद आजीविका की तलाश में राज्य या देश के अन्य हिस्सों में रोजगार की तलाश में पलायन कर जाते थे. लेकिन, ऊर्जा आधारित सिंचाई प्रणाली की स्थापना के साथ पलायन दर भी कम हो गई है और किसान साल में कई फसलों का उत्पादन कर रहे हैं. 


हजारों परिवार योजना से हो रहे हैं लाभान्वित 


इस परियोजना की निगरानी और क्रियान्वयन राज्य सरकार की देखरेख में एटीएमए, कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन एजेंसी द्वारा की गई, जो नवीनतम तकनीक को अपनाने के साथ कृषि को बढ़ावा देती है. परियोजना अक्टूबर 2020 में शुरू की गई थी. सिर्फ सिमडेगा में 105 से अधिक सौर-आधारित लिफ्ट सिंचाई प्रणाली स्थापित की गई है, जिससे सिमडेगा के पांच हजार परिवार लाभान्वित हो रहे हैं.


ग्राम सभा से सिंचाई सुविधा का जाना हाल


राज्य के किसान ज्यादातर मानसून के दौरान ही प्रमुख रूप से सक्रिय रहते थे. सरकार ने समस्या का पता लगाने के लिए गहनता से काम किया. राज्यभर में हुई ग्राम सभा के बाद यह स्पष्ट हो गया कि किसान सिंचाई सुविधा की कमी के कारण धान के अलावा किसी अन्य फसल का उत्पादन करने में असमर्थ हैं. इसके बाद परियोजना को धरातल पर उतारा गया. जिला आत्मा प्रोजेक्ट डायरेक्टर कृष्ण बिहारी का कहना है कि अब किसानों ने सौर आधारित लिफ्ट सिंचाई प्रणाली की मदद से साल में दो से तीन फसलों की खेती शुरू कर दी है. इससे किसानों की आय में कई गुना वृद्धि हुई है और यह पलायन को रोकने में भी मदद कर रहा है. 


अधिक खबरें
रांची के नामकुम में हुई जाली जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र निर्गत
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 4:10 PM

रांची: राजधानी के सदर अस्पताल में फर्जी जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र निर्गत होने के मामले में जांच जारी है. 29 प्रमाण फर्जी प्रमाण पत्र जारी हुए थे. इधर, रांची के ही नामकुम में भी फर्जी जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र निर्गत किया गया है. नामकुम बीडीओ की ओर से नामकुम थाना को इसकी लिखित शिकायत की गई है.

5 दिन में 408 छात्रों को मिला जॉब ऑफर, 54 लाख तक का पैकेज
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 3:46 PM

रांची : इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, आईआईटी व इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ माइंस, आईआईएम के 557 छात्रों को जॉब ऑफर मिला है. वहीं संस्थान के छात्रों को न्यूनतम पैकेज 10 लाख और अधिकतम 54 लाख रुपये से अधिक का पैकेज मिला है. वर्ष 2021—22 का शैक्षणिक सत्र छात्रों के लिए शानदार रहा.

पीएम की दो-टूक: सांसद अनुशासन में रहें, खुद को बदलें, नहीं तो हम बदलाव करेंगे
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 3:45 PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांसदों को नसीहत दी है. दो-टूक में कहा है सांसद खुद को बदले, नहीं तो हम बदलाव करेंगे. सदन से गायब रहने वाले सांसदों को पीएम ने कहा अनुशासन में रहें, समय से आएं और समय पर ही सदन में बोलें. जीवन में सांसद गंभीरता लाएं, बच्चों की तरह बर्ताव न करें. उक्त बातें पीएम ने भारतीय जनता पाटी की पार्लियांमेंटरी पार्टी मीटिंग में कही.

फर्जी नंबर प्लेट और दस्तावेज के सहारे कोयला चोरी के मामले में सीआईडी ने बंद किया केस
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 3:35 PM

रामगढ़ जिला के मांडू इलाके में वर्ष 2011 में ट्रक में फर्जी नंबर और दस्तावेज का इस्तेमाल कर कोयला चोरी होने की मामले की जांच सीआईडी के द्वारा की जा रही थी. सीआईडी को इस मामले में कोई साक्ष्य नहीं मिल पाया. इस वजह से सीआईडी ने केस को बंद कर दिया है. सीआईडी के द्वारा पिछले कई सालों से इस मामले की जांच की जा रही थी.

चहारदीवारी नहीं हटने पर हाई कोर्ट ने लगाई SSP को फटकार
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 3:20 PM

हाईकोर्ट ने डोरंडा के गौरीशंकर नगर में रहने वाले वकील अमरेंद्र प्रधान की याचिका पर सुनवाई करते अदालत ने मंगलवार को रांची एसएसपी को फटकार लगाई. जस्टिस एसे के द्विवेदी की अदालत ने कहा कि शिकायत के बाद भी पुलिस ने वकील के घर के पास हो रही चहारदीवारी का निर्माण कार्य बंद नहीं करवाया.