Monday, May 23 2022 | Time 20:34 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
  • विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
NEWS11 स्पेशल


दुमका के 276 गांव के 22,283 हेक्टेयर खेतों में मसलिया-रानीश्वर मेगा लिफ्ट सिंचाई योजना से पहुंचेगा पानी

झारखंड में पहली बार खेतों में पाइपलाइन से सिंचाई के लिए प्रणाली होगी विकसित
दुमका के 276 गांव के 22,283 हेक्टेयर खेतों में मसलिया-रानीश्वर मेगा लिफ्ट सिंचाई योजना से पहुंचेगा पानी

न्यूज11 भारत


रांची: झारखंड राज्य में पहली बार खेतों में पाइपलाइन से सिंचाई के लिए प्रणाली विकसित होगी. इससे विशेषकर पहाड़ी एवं ऊंचाई वाले क्षेत्रों को सिंचाई आसान हो जाएगी. खेतों तक सिंचाई के लिए पाइप लाइन पहुंचेगा. लिफ्ट सिंचाई योजना को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन काफी गंभीर है. उन्होंने प्रदेश के पहाड़ी एवं ऊंचाई वाले क्षेत्रों में भूमिगत पाइपलाइन सिंचाई योजना पर काम करने का निर्देश दिया है. जिसके तहत जल संसाधन विभाग ने मसलिया-रानीश्वर मेगा लिफ्ट सिंचाई योजना को धरातल पर उतारने की पहल शुरू दिया है. इस सिंचाई योजना के पूर्ण होने से दुमका के 276 गांव के 22,283 हेक्टेयर खेतों तक सिंचाई के लिए पानी पहुंचेगा. 


दुमका जिला में मसलिया एवं रानीश्वर प्रखंड के आंशिक भू-भाग में भूमिगत पाईपलाईन के माध्यम से सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने वाली योजना के लिए प्रशासनिक राशि की स्वीकृति मिल गई है. मसलिया-रानीश्वर मेगा लिफ्ट सिंचाई योजना पर कुल 1204.37 करोड़ खर्च होंगे. यह सिंचाई योजना तीन वर्ष में पूरी होगी. सिंचाई योजना का डीपीआर मार्स कंपनी ने सर्वे कर तैयार किया था. डीपीआर पर जल संसाधन विभाग के इंजीनियरों ने अध्ययन पर योजना को धरातल पर उतारने का निर्णय लिया. जल संसाधन सचिव प्रशांत कुमार ने खुद गत वर्ष दुमका जाकर इस योजना के स्थल का निरीक्षण किया था. ग्रामीणों से बातचीत की थी. खेतों तक सिंचाई के लिए पानी कैसे पहुंचेगा, इस विषय पर जल संसाधन विभाग के इंजीनियरों से बातचीत भी की थी. इस योजना के तहत चार जगह छोटे पंप हाउस भी बनेंगे. पंप हाउस से पानी को लिफ्ट कर आसपास के खेतों तक सिंचाई के लिए पहुंचाया जाएगा. 


इसे भी पढ़े...मॉब लिंचिंग मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद बड़ा खुलासा


मसलिया-रानीश्वर मेगा लिफ्ट सिंचाई योजना के अंतर्गत मुनगुनी ग्राम के समीप नदी के दोनों तरफ बांध निर्मित किया जाएगा. साथ ही जलमग्न क्षेत्र को कम से कम रखते हुए एक बराज का निर्माण किया जाएगा. उसके बाद पंप मोटर से पानी लिफ्ट कर पाईपलाइन के माध्यम से सिंचित क्षेत्र में चक्रवार सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराया जाएगा. किसी कालखंड में अधिक वर्षापात के फलस्वरूप खेतों में जल की आवश्यकता सीमित होने की स्थिति में जल डायवर्ट कर नजदीक के तालाबों को भरने का प्रावधान है. ताकि मवेशियां एवं अन्य कार्यों के लिए ग्रामीणों को तालाब के माध्यम से जल हमेशा उपलब्ध हो सकते. इस योजना को तीन वर्षों में पूर्ण करने का लक्ष्य है. इस योजना से मसलिया प्रखंड के 204 गांव तथा रानीश्वर प्रखंड के 72 गांव के कुल 22,283 हेक्टेयर कृषि भूमि में खरीफ सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी.

अधिक खबरें
पंचायत चुनाव में महेंद्र सिंह धौनी कर रहे ड्यूटी! देखें क्या है पूरा माजरा
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 8:13 AM

रांची के राजकुमार महेंद्र सिंह धौनी पंचायत चुनाव में ड्यूटी कर रहे हैं… चौंक गए. चौंकना जरूरी भी है. क्योंकि, वे आईपीएल खेल रहे हैं. ऐसे में वे रांची में कैसे? वह भी पंचायत चुनाव में ड्यूटी? दरअसल रांची में तीसरे चरण के पंचायत चुनाव के दौरान अचानक से महेंद्र सिंह धोनी का नाम जुड़ गया है. माही नहीं, मगर उनके जैसे दिखने वाले एक युवक की चुनाव में ड्यूटी लगने से ही अचानक से धोनी का नाम पंचायत चुनाव से जुड़ गया है.

विधायक सरयू राय ने IAS पूजा सिंघल को क्लीन चिट दिये जाने की फाइल सरकार से मांगी
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 8:01 PM

विधायक सरयू राय ने राज्य सरकार से आइएएस पूजा सिंघल पर विभागीय कार्रवाई समाप्त करने की संचिका की छाया प्रति उपलब्ध कराने की मांग की है. उन्होंने मुख्य सचिव सुखदेव सिंह को पत्र लिख कर कहा है कि पूर्ववर्ती सरकार के द्वारा आइएएस पूजा सिंघल पर विभागीय कार्रवाई का अभियोग चलाया गया था और बाद में सरकार ने सात फरवरी 2017 को आरोप मुक्त कर दिया था. इसके आधार पर उन पर विभागीय कार्रवाई बंद कर दी गयी और क्लीन चिट दे दी गयी.

मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है ध्वस्त
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 7:38 AM

झारखंड बने 22 साल हो गए. हर सरकार में बिजली मंत्री और बिजली अफसर कम से कम राजधानी में जीरो कट का सपना दिखाते रहे, मगर अब तक यह बयान मुंगेरी लाल के हसीन सपने ही साबित हुए. झारखंड गठन के 22 साल में राजधानी में बिजली सुधार को लेकर दो महत्वपूर्ण परियोजना पर काम हुआ जिसमें आरपीडीआरपी और झारखंड संपूर्ण बिजली अच्छादन योजना (जसवे). इसके तहत करीब-करीब 1 हजार करोड़ से अधिक बिजली वितरण सुधार पर खर्च हुए मगर नतीजा सिफर ही साबित हुआ.

जस्टिस DY चंद्रचूड़ और जस्टिस बेला एम त्रिवेदी की पीठ करेगी खान आवंटन और शेल कंपनी पर सुनवाई
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 7:41 AM

सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार 24 मई को न्यायमूर्ति जस्टिस डीवाइ चंद्रचूड़ और जस्टिस बेला एम त्रिवेदी की खंडपीठ खान आवंटन और शेल कंपनी मामले पर सुनवाई करेगी. झारखंड सरकार बनाम शिवशंकर शर्मा की एसएलपी 009729 और 009730 ऑफ 2022 पर सुबह 10 बज कर 30 मिनट पर सुनवाई होगी. इससे पहले 20 मई को सुप्रीम कोर्ट की ट्रिपल बेंच में सुनवाई हुई थी, जिसमें वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने 24 मई तक का समय मांगा था.

प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:57 AM

झारखंड में तेजी से अस्पताल और नर्सिंग होम खुल रहे हैं. जिसमें से ज्यादातर अस्पताल व नर्सिंग होम स्वास्थ्य विभाग के गाइडलाइन की अनदेखी कर संचालित हो रहे है. ऐसे कई प्राइवेट हॉस्पिटल, नर्सिग होम और क्लिनिक हैं, जहां मरीजों की जिंदगी से बदस्तूर खिलवाड़ हो रहा है. ऐसे अस्पताल पर गाज गिर सकती है. राजधानी रांची में लगभग 712 हॉस्पिटल्स में से 50 प्रतिशत से ज्यादा अस्पताल ऐसे हैं, जिनका रजिस्ट्रेशन या तो फेल हो चुका है अथवा बिना लाइसेंस के ही इनका अवैध तरीके से संचालन किया जा रहा है.