Tuesday, Dec 7 2021 | Time 17:52 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • रांची विवि में समस्याओं को लेकर छात्रों ने किया प्रदर्शन, कुलपति को सौंपा ज्ञापन
  • खेल यूनिवर्सिटी पर अबतक नहीं पहनाया जा सका अमलीजामा
  • देवघर डीसी को हटाए जाने के निर्देश पर झामुमो का इलेक्शन कमीशन पर बड़ा हमला
  • 5 दिन में 408 छात्रों को मिला जॉब ऑफर, 54 लाख तक का पैकेज
  • चहारदीवारी नहीं हटने पर हाई कोर्ट ने लगाई SSP को फटकार
  • चहारदीवारी नहीं हटने पर हाई कोर्ट ने लगाई SSP को फटकार
  • बढ़ सकती है बिजली दर, 25 प्रतिशत तक बढ़ोतरी का प्रस्ताव
  • बढ़ सकती है बिजली दर, 25 प्रतिशत तक बढ़ोतरी का प्रस्ताव
  • अब बड़े बकायेदारों पर बिजली बोर्ड करेगा सख़्ती, थोक के भाव से जारी हुआ नोटिस
  • अब बड़े बकायेदारों पर बिजली बोर्ड करेगा सख़्ती, थोक के भाव से जारी हुआ नोटिस
  • एकलव्य स्कूल मामले में विरोध कर रहे लोगों और पुलिस में झड़प, दो पुलिसकर्मी घायल
  • एकलव्य स्कूल मामले में विरोध कर रहे लोगों और पुलिस में झड़प, दो पुलिसकर्मी घायल
  • निदेशक सैनिक कल्याण निदेशालय ब्रिगेडियर ने सीएम हेमंत सोरेन से की मुलाकात
  • निदेशक सैनिक कल्याण निदेशालय ब्रिगेडियर ने सीएम हेमंत सोरेन से की मुलाकात
  • निदेशक सैनिक कल्याण निदेशालय ब्रिगेडियर ने सीएम हेमंत सोरेन से की मुलाकात
झारखंड


पारा शिक्षक कोटे को लेकर दायर LPA पर हुई सुनवाई

अगले सप्ताह इस मामले में हाइकोर्ट फैसला दे सकती है
पारा शिक्षक कोटे को लेकर दायर LPA पर हुई सुनवाई
न्यूज11 भारत 

 

रांची: माध्यमिक शिक्षक नियुक्ति में पारा कोटे को लेकर दायर एलपीए पर हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. मामले में वादी की ओर से वरीय अधिवक्ता आरएन सहाय ने अदालत को बताया कि 2015 में माध्यमिक शिक्षक नियुक्ति में 50 प्रतिशत पारा शिक्षकों के लिए आरक्षित था. लेकिन कई पारा शिक्षकों ने पारा शिक्षक कैटेगरी में अप्लाई नहीं करते हुए नॉन पारा शिक्षक कैटगरी अप्लाई कर दिया, लेकिन परीक्षा में सफल होने के बाद जिला शिक्षा पदाधिकार ने उनकी कॉउंसलिंग करने से मना कर दिया. 

 


 

जिला शिक्षा पदाधिकारी का तर्क था कि पारा शिक्षक होते हुए नॉन पारा शिक्षक कैटेगरी में क्यों आवेदन किया इसलिए आपको पारा शिक्षक कैटेगरी का लाभ नहीं मिलेगा. इसके विरोध में सफल पारा शिक्षकों ने हाईकोर्ट में रीट याचिका दायर कर दी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया. इसके बाद एलपीए दायर की गई. जिसपर कोर्ट ने कहा कि जब विज्ञापन में किसी तरह की मनाही नहीं थी तो पारा शिक्षक नॉन पारा शिक्षक कैटिगरी में अप्लाई कर सकते थे. इसपर राज्य सरकार ने कहा कि याचिका दायर करने वाले जो पारा शिक्षक नॉन पारा शिक्षक कैटेगरी में सफल हुए हैं, उनकी सबकी काउंसिलिंग होगी. इस पर वादी के अधिवक्ता ने कोर्ट से मांग करते हुए कहा कि नॉन पारा शिक्षक कैटेगिरी में सफल होने वाले सभी पारा शिक्षकों की काउंसिलिंग होनी चाहिए. चाहे उन्होंने याचिका दायर की हो या नहीं. मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है. अगले सप्ताह इस मामले में हाइकोर्ट फैसला दे सकता है.

 
अधिक खबरें
सीएम ने बरहेट में किया क्रीड़ा किसलय फुटबॉल केंद्र का शुभारंभ
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 5:41 PM

रांची: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मंगलवार को क्रीड़ा किसलय फुटबॉल बालक प्रशिक्षण केन्द्र, भोगनाडीह, बरहेट, साहेबगंज का शुभारंभ किया. इस दौरान सीएम ने कर सिदो कान्हु स्टेडियम, भोगनाडीह, बरहेट में खिलाड़ियों को खेल किट, खेल सामग्री प्रदान किया.

खेल यूनिवर्सिटी पर अबतक नहीं पहनाया जा सका अमलीजामा
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 5:37 PM

रांची: झारखंड में स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी को धरातल पर अबतक अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका है. सिर्फ कागजों में ही स्पोर्ट्स यूनिविर्सिटी बनी हुई है. खिलाड़ियों के चहुंमुखी विकास को लेकर झारखंड सरकार व सीसीएल ने 2015 में एमओयू किया था. सत्र 2016-17 से खेलगांव के मेगा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स

देवघर डीसी को हटाए जाने के निर्देश पर झामुमो का इलेक्शन कमीशन पर बड़ा हमला
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 5:14 PM

रांची: देवघर डीसी मंजूनाथ भजंत्री को हटाए जाने का इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया के निर्देश का झामुमो ने कड़ा विरोध किया है. पार्टी इलेक्शन कमीशन पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया पर पूरे देश के करोड़ों लोगों का विश्वास है. इसलिए वह निष्पक्ष होकर काम करें,

धर्म कोड नहीं मिला तो आदिवासी बहुल राज्यों में होगा आर्थिक नाकेबंदी
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 4:44 PM

राष्ट्रीय आदिवासी समाज सरना धर्म रक्षा अभियान और दिल्ली सरना समाज के संयुक्त तत्वाधान में संसद दिल्ली के समक्ष जंतर मंतर में समस्त देश के सरना धर्मावलंबी विभिन्न राज्यों से आए हुए लगभग एक हजार की भारी संख्या में सत्याग्रह धरना में शामिल हुए. कार्यक्रम में भारत के राष्ट्रपति ,प्रधानमंत्री,गृहमंत्री जनजातीय मामले की मंत्री, रजिस्टार जनरल ऑफ इंडिया,जनगणना को सरना धर्म कोड की स्वीकृति हेतु तथा जनगणना परिपत्र में पृथक कोड के रूप में अधिसूचित करने हेतु ज्ञापन दिया.

रांची के नामकुम में हुई जाली जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र निर्गत
दिसम्बर 07, 2021 | 07 Dec 2021 | 4:10 PM

रांची: राजधानी के सदर अस्पताल में फर्जी जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र निर्गत होने के मामले में जांच जारी है. 29 प्रमाण फर्जी प्रमाण पत्र जारी हुए थे. इधर, रांची के ही नामकुम में भी फर्जी जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र निर्गत किया गया है. नामकुम बीडीओ की ओर से नामकुम थाना को इसकी लिखित शिकायत की गई है.