Thursday, Jan 20 2022 | Time 16:25 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • उत्तराखंड के 70 विधानसभा सीटों के लिए भाजपा की पहली सूची जारी
  • उत्तराखंड के 70 विधानसभा सीटों के लिए भाजपा की पहली सूची जारी
  • उत्तराखंड के 70 विधानसभा सीटों के लिए भाजपा की पहली सूची जारी
  • 24 जनवरी से खुलेंगे इस राज्य के प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक के स्कूल
  • 24 जनवरी से खुलेंगे इस राज्य के प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक के स्कूल
  • 24 जनवरी से खुलेंगे इस राज्य के प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक के स्कूल
  • टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश
  • टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश
  • मॉब लिंचिंग मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद बड़ा खुलासा
  • मॉब लिंचिंग मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद बड़ा खुलासा
  • मॉब लिंचिंग मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद बड़ा खुलासा
  • एक बार फिर गोड्डा कॉलेज की प्रोफेसर रजनी मुर्मू ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा, कुछ लोग मेरे पीछे पड़े
  • एक बार फिर गोड्डा कॉलेज की प्रोफेसर रजनी मुर्मू ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा, कुछ लोग मेरे पीछे पड़े
  • गुजरात से भारी मात्रा में पकड़ा गया विदेशी गांजा, कार के कबाड़ में था छुपाया
  • गुजरात से भारी मात्रा में पकड़ा गया विदेशी गांजा, कार के कबाड़ में था छुपाया
NEWS11 स्पेशल


रांची सिविल कोर्ट में केस फाइल करना हुआ महंगा

अब 1 रुपए के वकालतनामा पर नहीं 75 रुपये के वकालतनामा पर होगा केस फाइल
रांची सिविल कोर्ट में केस फाइल करना हुआ महंगा
न्यूज़11 भारत




रांची: रांची सिविल कोर्ट में अब केस फाइल करना महंगा हो गया है. पहले 1 रुपये के वकालतनामा पर भी मुवक्किल केस फाइल करते थे, लेकिन अब सिर्फ बार एसोसिएशन के द्वारा निर्गत 75 रुपये के वकालतनामा पर ही केस फाइल करना होगा. अब अधिवक्ताओं को प्रत्येक केस फाइल करने में अपने बार के वकालतनामा का इस्तेमाल करना होगा. प्रत्येक वकालतनामा पर 15 रुपए का वेलफेयर स्टांप एवं 5 रुपए का कोट फीस चिपकाया जाता है. पिछले महीने रांची जिला बार एसोसिएशन की जनरल बॉडी मीटिंग में यह निर्णय पारित हुआ था. 

 


 

आरडीबीए के महासचिव संजय कुमार विद्रोही ने बताया कि जो वकील केस फाइल करने में अपने बार एसोसिएशन के वकालतनामा का इस्तेमाल नहीं करते हैं, ऐसे लोगों पर जांच के बाद कार्रवाई होगी. इसकी निगरानी के लिए टीम भी बनायी गयी है. बार एसोसिएशन के द्वारा निर्गत वकालतनामा, हाजिरी फार्म, शपथ पत्र एवं नेल वॉट का ही उपयोग वकिलों को करना है. इस संबंध में एक दो दिन में पत्र जारी कर दिया जाएगा.
अधिक खबरें
24 जनवरी से खुलेंगे इस राज्य के प्री-प्राइमरी से लेकर 12वीं तक के स्कूल
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 3:58 AM

कोरोना के तीसरे लहर के कहर से पूरा देश त्रस्त है. कोरोना के मामले आये दिन बढ़ते ही जा रहे है. बीते कल पुरे देशभर में कोरोना के कुल 2 लाख 82 हज़ार 970 नए मामले रिकॉर्ड हुए है. कोरोना की हालात बेकाबू होने के कारण लोग बहुत ही चिंतित है. असम, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्रप्रदेश समेत कई राज्यों में कोरोना के मामलों में भारी वृद्धि हो रही है.

JPSC: मुख्य परीक्षा में सफल होने के 5 प्रमुख टिप्स
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 1:51 PM

झारखंड पब्लिक सर्विस कमिशन, जेपीएससी की 7वीं से 10वीं संयुक्त सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा 28 से 30 जनवरी तक होगी. रांची में ही कुल 14 परीक्षा केंद्रों पर 4293 अभ्यर्थी परीक्षा देंगे. विभिन्न सेवाओं के लिए कुल 252 पदों पर नियुक्ति के लिए चार वर्षों 2017, 2018, 2019 और 2020 के लिए प्रारंभिक परीक्षा एक साथ हुई थी.

मनरेगा से किए बागवानी से आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहे है झारखंड के किसान
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 1:17 PM

मनरेगा के तहत किए गए बागवानी योजना से झारखंड के किसान विशेषकर महिला किसान आत्मनिर्भरता की ओर बढ़े हैं. इस योजना से अकुशल श्रमिकों के जीवन, आजीविका के लिए दीर्घकालीन टिकाऊ परिसंपत्ति का निर्माण हुआ हैं. इसको लेकर उषा मार्टिन यूनिवर्सिटी के प्रबंध निकाय प्रोफेसर डॉ अरविंद हंस और उनके नेतृत्व में अध्ययन कर रहे प्रेमशंकर सहित अन्य ने राज्य के गुमला व खूंटी जिला के पांच प्रखंडों में 130 लाभुकों के उपर सर्वे किया.

टेरर फंडिंग मामले में NIA लगातार बढ़ा रहा महेश अग्रवाल पर दबिश
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 12:46 PM

टेरर फंडिंग मामले में नेशनल इनवेस्टीगेशन एजेंसी (एनआइए) महेश अग्रवाल से लगातार पूछताछ कर रही है. पूछताछ के दौरान एनआईए के सामने कई सनसनिखेज और अहम खुलासे किए गये हैं. यहां बताते चलें कि झारखंड हाईकोर्ट से टेरर फंडिंग मामले में आधुनिक पावर कंपनी के एमडी महेश अग्रवाल और ट्रांसपोटर्स अमित अग्रवाल व विनीत अग्रवाल को हाईकोर्ट ने अस्थायी जमानत याचिका को वैकेट कर दिया था.

टेंडर मैनेज का खेल: डमी फर्म खड़ा कर चहेतों को दिए जा रहे लाखों के काम
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 12:25 PM

पेयजल एवं स्वच्छता विभाग में टेंडर मैनेज का खेल जारी है. सरकार की लाख कोशिशों के बाद भी पेयजल विभाग के इंजीनियर अपने फायदे के लिए सरकारी कोष को नुकसान पहुंचा रहे है. टेंडर मैनेज कर लाखों वारे न्यारे कर रहे हैं. पेयजल मंत्री मिथलेश ठाकुर तक शिकायत पहुंची, तो मंत्री ने मामले की जांच कराने की बात कही.