Friday, Jan 21 2022 | Time 09:47 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
NEWS11 स्पेशल


डीवीसी ने फिर जेबीवीएनएल के खिलाफ खोला मोर्चा

आम सूचना जारी करके जेबीवीएनएल के दावे को झूठा करार दिया, कहा- बकाया नहीं तो कटेगी बिजली
डीवीसी ने फिर जेबीवीएनएल के खिलाफ खोला मोर्चा
न्यूज 11 भारत, रांची

रांचीः डीवीसी ने एक बार फिर से जेबीवीएनएल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. डीवीसी ने अपना तेवर तल्ख कर दिया है. डीवीसी ने अखबारों में आम सूचना जारी करके बकाया के बारे में बताया है और जेबीवीएनएनल के दावे को झूठा करार दिया है. डीवीसी ने स्पष्ट कर दिया है कि अगर जेबीवीएनएल बकाया का भुगतान नहीं करता है तो बिजली कटौती जारी रहेगा. 

 

डीवीसी की नजर में बकाया का यह है स्टेटस

जेबीवीएनएल पर निर्विवाद बकाया कुल 2173 करोड़ है. जो आपूर्त बिलों के पूरी राशि का भुगतान नहीं होने  के कारण धीरे-धीरे एकत्रित हो गया है. अप्रैल 2021 से हमें 160 करोड़ रूपए के औसत मासिक बिलों के प्रति झारखंड सरकार से मात्र 100 करोड़ रूपए प्राप्त होते रहे हैं. जिसके परिणामस्वरूप  अप्रैल 2021 से नंवबर 2021 तक 549 करोड़ रूपए तक निर्विवाद राशि का संचयन हो चुका है. इसके अलावे मार्च 2021 तक के पहले की अवधि में जेबीवीएनएल पर 1624 करोड़ रूपए का निर्विवाद बकाया उधार भी है. जिसे  मिलाकर कुल 2173 करोड़ रूपए बनता है. इसके अतिरिक्त बकाए पर विलंब  भुगतान अभिभार अगर लागू किया जाए तो बकाया राशि और बढ़ जाएगी. चूंकि डीवीसी को बिजली उत्पाद मद में कोयले की राशि का भी भुगतान करना पड़ता है. इसलिए वह बकाया की स्थिति में निर्बाध आपूर्ति को सक्षम नहीं होगा. 

 

6 नवंबर से डीवीसी कर रहा है बिजली कटौती

मालूम हो कि छठ के समय से 6 नवंबर से ही डीवीसी बिजली कटौती कर रहा है. अब डीवीसी ने चेतावनी दी है कि अगर भुगतान नही हुआ तो पूरी तरह से बिजली आपूर्ति बंद कर सकता है. जिसकी जबादेही जेबीवीएनएल पर नहीं होगी. 

 


 

जेबीवीएनएल का तर्क

अब आऊटस्टैडिंग बकाया केवल 2000 करोड़ ही है. 100 करोड़ नियमित भुगतान डीवीसी को किया जा रहा है. पूर्ववर्ती सरकार में करीब 6 हजार करोड़ का बकाया था. मगर कभी भी केंद्र सरकार ने आरबीआई में राज्य के हिस्से जमा पैसे काट कर डीवीसी को नहीं दिया. जबकि राज्य में हेमंत सरकार बनने के बाद तीन बार केंद्र सरकार आरबीआई से पैसे काट कर डीवीसी को दिया है. 

 

आरबीआई के खाते से तीन बार काटा जा चुका है राशि

अक्टूबर 2020 से अब तक डीवीसी के बकाया भुगतान के लिए झारखंड सरकार के आरबीआइ खाते से तीन बार कटौती हो चुकी है. पहली किस्त अक्टूबर 2020 में 1417 करोड़ और बाकी की दो किस्त क्रमश: 714 और 714 करोड़ रुपये काटी जा चुकी है. अगली तिथि दिसंबर 21 में कटौती करने की है.

 

अधिक खबरें
बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 7:39 AM

पांच साल तक के बच्चों के लिए मास्क पहनने की कोई जरूरत नहीं है. इसी तरह 18 साल से कम उम्र के बच्चों और किशोरों के लिए एंटीवायरल या मोनोक्लोनल एंटीबाडी का उपयोग करने की सिफारिश नहीं की जाती है, भले ही कोरोना संक्रमण की गंभीरता कुछ भी हो. यदि स्टेरायड का उपयोग किया भी जाता है, तो उन्हें 10 से 14 दिन तक डाइल्यूट (पतला) करके देना चाहिए. सरकार की ओर से गुरुवार को ये दिशा-निर्देश जारी किए गए.

एशियाई फुटबॉल चैंपियनशिप के लिए CM बतौर चीफ गेस्ट आमंत्रित
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 7:35 PM

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को एएफसी महिला एशिया कप 2022 के मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया है. सोरेन को अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ के अध्यक्ष प्रफुल्ल पेटल ने मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया है. सीएम हेमंत सोरेन ने पत्र लिखकर पटेल के प्रति आभार प्रकट किया है.

झारखंड में RTPCR जांच हुआ सस्ता, जानें नयी RATE
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 6:39 PM

झारखंड सरकार ने कोविड-19 जांच के लिए ली जानेवाली शुल्क को कम कर दिया है. अब आरटीपीसीआर जांच के लिए निजी अस्पतालों, नर्सिंग होम, क्लिनिक, प्रयोगशालाओं में चार सौ रुपये की जगह तीन सौ रुपये लिये जायेंगे.

एचईसी के सेंट्रल ट्रांसपोर्ट से 70 बैट्री की चोरी, जांच में जुटी पुलिस
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 6:18 PM

हेवी इंजीनियरिंग कॉरपोरेशन लिमिटेड, एचईसी के सेंट्रल ट्रांसपोर्ट से 70 बैट्री की चोरी हो गई है. यह सभी बैट्री सेंट्रल ट्रांसपोर्ट परिसर में खड़ी गाड़ियों में लगे हुए थे. कुछ बैट्री स्टोर में भी थे. चोरों ने एक ही रात एक साथ 70 बैट्री अपने साथ चुरा कर ले गए, किसी को भनक तक नहीं लगी.

PVTG बच्चों को उड़ान परियोजना दे रहा उनके सपनों को पंख
जनवरी 20, 2022 | 20 Jan 2022 | 5:36 AM

राज्य में विशिष्टतः असुरक्षित जनजातीय समूह ( पीवीटीजी) के बच्चों को पढ़ाई से जोड़े रखने में उड़ान परियोजना के तहत 'पीवीटीजी पाठशाला' सकारात्मक बदलाव ला रहा है. परियोजना का उद्देश्य सुदूर गांवों, जंगलों एवं कठिन भौगोलिक परिस्थितयों में रहनेवाले विशिष्टतः असुरक्षित जनजातीय समूह के बच्चों को 'पीवीटीजी पाठशाला' के माध्यम से सकारात्मक बदलाव लाना है.