Friday, Jan 21 2022 | Time 11:55 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
NEWS11 स्पेशल


रिम्स: ट्रॉली मैन होने के बावजूद परिजनों को खुद चलानी पड़ती है ट्रॉली

यहां खुद ट्रॉली का इंतजाम भी कर रहे परिजन
रिम्स:  ट्रॉली मैन होने के बावजूद परिजनों को खुद चलानी पड़ती है ट्रॉली
रांची: राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने रिम्स को सुपरस्पेशलिटी में तब्दील करने और यहां की व्यवस्था को सुधारने का बीड़ा भी उठाया है. इसी क्रम में अस्पताल में अत्याधुनिक मशीन और विभागों को शुरू कर अपग्रेड करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है. मगर यहां इलाज के लिए आने वाले मरीजों को प्रबंधन ना तो ट्रॉलीमैन दिला पा रहा है और ना ही ट्रॉली. जबकि ट्रॉली एवं ट्रॉली मैन की सुविधा अस्पताल में मिलने वाली मूलभूत सुविधाओं में से एक है. लेकिन रिम्स की स्थिति ऐसी हो गई है कि यहां मरीजों को मूलभूत सुविधाएं तक नहीं मिल रही है. 

 

मूलभूत सुविधा नहीं मिल पाने से रिम्स में इलाज के लिए पहुंचे विकास के परिजनों को भी परेशान होना पड़ा. विकास के पिताजी ने बताया कि वह बिहार से अपने बेटे को इलाज के लिए लाया था. विकास के पैरों में तकलीफ है और वह चलने में असमर्थ है. जांच के लिए ऑर्थो ओपीडी में डॉ विजय कुमार को दिखाया. जांच के बाद डॉक्टरों ने उसे ऑर्थो वार्ड में ले जाने की सलाह दी . ऑर्थो वार्ड जाने के लिए ट्रॉली की जरूरत पड़ी, इसलिए  इमरजेंसी गेट के पास खड़े ट्रॉली मैन को मदद के लिए कहा मगर उन्होंने यह कहकर मना कर दिया कि  यह ट्रॉली एंबुलेंस से आने वाले गंभीर मरीजों के लिए है आप अंदर जाकर बात कर ले. कर्मचारियों की बात सुनकर मैं अंदर गया लेकिन वहां भी किसी ने ट्रॉली के लिए मदद नहीं की.

 

कई घंटों बाद खुद किया ट्रॉली का इंतजाम :

 

विकास के पिता ने बताया कि इमरजेंसी के पास कई घंटे खड़े रहकर ट्रॉली खाली होने का इंतजार किया. लेकिन कोई भी ट्रॉली खाली नहीं मिलने लगी. अस्पताल परिसर के चक्कर लगाए, ट्राली में वार्ड से बाहर निकलने वाले कई मरीज के परिजनों से बात की. तब जाकर एक ट्रॉली खाली हुई उसे लेकर मैं अपने बेटे के पास ले आया. 

 

रिम्स के पास 60 से अधिक है ट्रॉली मैन :

 

हर तरफ से हताश और परेशान मरीजों को इलाज से पहले रिम्स की सबसे बड़ी बीमारी से सामना करना पड़ता है वो है कामचोरी रिम्स में अक्सर परिजन मरीजों को खुद ही ट्रॉली या स्ट्रेचर पर इधर से उधर ले जाते नजर आते हैं.जबकि हकीकत ये है की RIMS में 60 से अधिक ट्रॉली मैन नियुक्त हैं.

 


 

परिजन इंतजार करना नहीं चाहते : डॉ डीके सिन्हा, जनसंपर्क अधिकारी सह सर्जन

 

वही रिम्स के जनसंपर्क अधिकारी सह सर्जन डॉ डी के सिन्हा ने बताया कि  ट्रॉली मैम की संख्या पर्याप्त है, लेकिन कई बार परिजन इतनी हड़बड़ी में होते हैं कि इंतजार तक करना नहीं चाहते. और खुद ही ट्रॉली लेकर चले जाते हैं.

 
अधिक खबरें
घर में घुसकर महिला से सामूहिक दुष्कर्म कर बनाया अश्लील Video, थाना पहुंची महिला
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 11:16 AM

मधुपुर के सिंघो गांव में एक 30 वर्षीय विवाहित महिला के साथ गांव के ही दो युवको ने घर में घुसकर पिस्टल और चाकू का भय दिखा कर बारी-बारी से बलात्कार किया वीडियो भी बनाने का मामला सामने आया.

आधी रात तक मर्दों के साथ महिला पी थी शराब, सुबह मिली लाश
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 10:35 AM

सिमडेगा सदर थाना क्षेत्र के सायपुर बस्ती में उस वक्त हडकंप मच गया जब एक घर में खून से लथ-पथ महिला सालो देवी का शव मिला. पुलिस को घटना की सूचना मिलते हीं पुलिस घटनास्थल पहुंचकर तहकीकात शुरू की.

धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 10:06 AM

बाघमारा थाना अंतर्गत केशरगढ़ पंचायत के केशरगढ़ रेल साइडिंग के आस-पास झाड़ियों में ग्रामीणों ने कोयला छुपा कर रखा है जिसके खिलाफ पुलिस सीआईएसएफ की संयुक्त टीम ने छापेमारी किया. जानकारी के अनुसार ग्रामीणों द्वारा भारी मात्रा में रेल साइडिंग से कोयला को उतारकर झाड़ियों में छुपाकर रखा गया था

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन जैसे दिग्गजों को पछाड़ा
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 8:42 AM

अमेरिका की डाटा इंटेलिजेंस फर्म मॉर्निंग कंसल्ट ने दुनियाभर के नेताओं की ग्लोबल अप्रूवल रेटिंग को लेकर एक ताजा सर्वे कर नेताओं की लोकप्रियता का पता लगाया है. इस लिस्ट में एक बार फिर पीएम मोदी टॉप पर है. इसमें मोदी की ग्लोबल अप्रूवल रेटिंग 71% है.

बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
जनवरी 21, 2022 | 21 Jan 2022 | 7:39 AM

पांच साल तक के बच्चों के लिए मास्क पहनने की कोई जरूरत नहीं है. इसी तरह 18 साल से कम उम्र के बच्चों और किशोरों के लिए एंटीवायरल या मोनोक्लोनल एंटीबाडी का उपयोग करने की सिफारिश नहीं की जाती है, भले ही कोरोना संक्रमण की गंभीरता कुछ भी हो. यदि स्टेरायड का उपयोग किया भी जाता है, तो उन्हें 10 से 14 दिन तक डाइल्यूट (पतला) करके देना चाहिए. सरकार की ओर से गुरुवार को ये दिशा-निर्देश जारी किए गए.