Friday, Jan 21 2022 | Time 10:09 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • धनबादः झाड़ियों में इक्कठा 15 टन अवैध कोयला बरामद
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
  • बच्चों के लिए न तो मास्क और न ही एंटीवायरल की है जरूरत, क्या है नई गाइडलाइन?
राजनीति


शहीद हुए 700 किसानों के परिजनों को पर्याप्त मुआवजा दे सरकार: बंधु तिर्की

MSP पर भी कानून बनाए केंद्र सरकार
शहीद हुए 700 किसानों के परिजनों को पर्याप्त मुआवजा दे सरकार: बंधु तिर्की
न्यूज11 भारत

 

लोहरदगा के कांग्रेस कार्यालय राजेंद्र भवन में मोदी सरकार द्वारा वापस लिए गए तीन कृषि कानून के संबंध में आज झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की ने प्रेस वार्ता किया, जिसमें उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा राष्ट्र के नाम संबोधन में केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए किसान विरोधी तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया गया है, जो महज एक चुनावी जुमला है.

 

मुझे किसान पुत्र और राजनेता होने के नाते प्रधानमंत्री का यह ऐलान अच्छा लगा, लेकिन ऐलान होने में बहुत देर हो गई, सालभर के दौरान किसानों को बहुत सताया गया. अपने तीन काले कानून को लागू कराने के लिए सरकार और सत्ताधारी दल के लोगों ने किसानों पर बहुत जुल्म ढाएं हैं, इसका भी जवाब भाजपानीत केन्द्र सरकार को देनी पड़ेगी.

 

किसानों के आंदोलन को विश्व इतिहास का सबसे लंबा लोकतांत्रिक जन आंदोलन माना गया है. मोदी सरकार के तानाशाही रवैये के कारण लोकतांत्रिक और शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे 700 किसानों को अपने प्राणों की आहुति देनी पड़ी. किसानों की शहादत इतिहास में दर्ज हो चुकी है, जिसका खामियाजा भाजपा को भुगतना पड़ेगा.

 

अब भी किसानों के समक्ष कई सवाल हैं? जिसका जवाब मोदी सरकार को देना पड़ेगा. किसानों की जायज मांग MSP पर कानून बनानी पड़ेगी. जैसा कि आप सभी को मालूम है, किसानों ने मोदी के इस ऐलान पर भरोसा न करते हुए अपने आंदोलन को निरन्तर जारी रखने का फैसला किया है.

 


 

कांग्रेस पार्टी की केंद्रीय नेतृत्व हो या राज्य की ईकाई लगातार किसानों के इस आंदोलन में सड़क से लेकर सदन तक आंदोलनरत रहे हैं, जिसका परिणाम रहा कि केन्द्र की मोदी सरकार को झुकना पड़ा. हमारी पार्टी मांग करती है कि आंदोलन में शहीद हुए 700 किसानों के परिजनों को पर्याप्त मुआवजा और एम. एस.पी पर यथाशीघ्र कानून बना कर देश के किसानों के जख्मों पर राहत पहुंचाए. मौके पर वरिष्ठ कांग्रेसी नेता नेसार अहमद, जगदीप भगत, सलीम अंसारी, संदीप गुप्ता, आदि मुख्य रूप से मौजूद थे.

 
अधिक खबरें
मंत्री 'बादल' की जाएगी बारात?
जनवरी 15, 2022 | 15 Jan 2022 | 10:28 AM

देश में भले ही बेरोजगारी बहुत बड़ी समस्या है. राज्य में आदिवासियों का उत्थान समस्या है. लेकिन झारखंड के लिए एक समस्या ऐसी है जिसे हम सभी बहुत ही हलके में लेते है. लेकिन हम ऐसा कह सकते है कि ये समस्या बहुत ही ज्यादा बड़ी है. झारखंड राज्य के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख यूं तो जनता के लिए हमेशा तत्पर रहते है.

बीजेपी प्रत्याशियों की लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी आदित्यनाथ लड़ेंगे चुनाव
जनवरी 15, 2022 | 15 Jan 2022 | 1:17 PM

यूपी में विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने शनिवार को पहली लिस्ट जारी कर दी है. केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह शनिवार को से भाजपा के केंद्रीय कार्यालय में प्रेस को संबोधित कर नामों का ऐलान किय है.

JMM का रघुवर पर पलटवार : उनके घोटाले की जांच हो तो कहीं के नहीं रहेंगे
जनवरी 11, 2022 | 11 Jan 2022 | 7:14 PM

झामुमो ने पूर्व सीएम रघुवर दास पर पलटवार किया है. झामुमो के वरिष्ठ नेता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि वे नियोजन नीति की बात कर रहे हैं. आपने जो भी अनुबंध पर किया. सहायक पुलिस कर्मी या पारा शिक्षक का मसला है. खाली हेलिकॉप्टर को घुमाया गया था. रघवुर दास में राजनीतिक मर्यादा और शर्म हया तक नहीं है.

झारखंड के दो दिग्गज नेताओं का जन्मदिन आजः 78वां जन्मदिन मना रहे गुरूजी, 63 के हुए बाबूलाल
जनवरी 11, 2022 | 11 Jan 2022 | 11:50 AM

दिशुम गुरू एवं झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन और पूर्व सीएम एवं भाजपा विधायक दल नेता बाबूलाल मरांडी का जन्म आज है. शिबू सोरेन जहां आज अपना 78 वां और बाबूलाल मरांडी 63 वां जन्म है. कोरोना संक्रणम को देखते हुए कोई बड़ा कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जा रहा है.

राज्य सरकार सभी पुलिस पदाधिकारियों के लिए कराए कैप्सूल कोर्स: हाईकोर्ट
जनवरी 10, 2022 | 10 Jan 2022 | 3:42 PM

सोमवार को हाईकोर्ट ने एक बंदी प्रत्यक्षीकरण मामले की सुनवाई करते हुए अदालत ने राज्य की पुलिस पर कड़ी टिप्पणी की है. जस्टिस एस चंद्रशेखर और जस्टिस रत्नाकर भेंगरा की अदालत ने राज्य सरकार सभी पुलिस पदाधिकारियों के लिए कैप्सूल कोर्स कराएं ताकि उन्हें अभियुक्तों की गिरफ्तारी से जुड़े सभी पहलु की जानकारी मिल सके.