Monday, May 23 2022 | Time 19:40 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है धवस्त
  • मानसून पूर्व आंधी-तुफान ने बिजली आपूर्ति व्यवस्था कर दिया है धवस्त
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • ऑरेंज अलर्ट: कल चलेगी आंधी, गर्जन के साथ होगा वज्रपात
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • खान आवंटन, शेल कंपनियों और मनरेगा घोटाले पर मंगलवार को एक साथ SC और HC में सुनवाई
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • 17 दिनों से ईडी की कार्रवाई जारी, 19 31 करोड़ रुपये तक पहुंचने की कोशिशें तेज
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
  • पंचायत चुनावः 3 55 लाख वोटर करेंगे 1589 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
NEWS11 स्पेशल


दो आदिवासी युवकों की निर्मम हत्या, कोयला खदान में शवों को रस्सी के सहारे टांगा

पूर्व विधायक योगेंद्र प्रसाद ने मौके पर पहुंचकर पुलिस को दी सूचना
दो आदिवासी युवकों की निर्मम हत्या, कोयला खदान में शवों को रस्सी के सहारे टांगा

न्यूज़ 11 भारत 


गोमिया: महुआटांड थाना क्षेत्र में दो आदिवासी युवकों की निर्मम हत्या कर अवैध कोयला खदान में रस्सी के सहारे शवों को टांगा दिया गया. कंडेर पंचायत के धावैया गाँव की है घटना, मृतक का नाम प्रदीप हांसदा और महावीर मरांडी है, दोनों मृतक की उम्र लगभग 25 वर्ष है. घटना स्थल से  बाइक भी बरामद हुआ है. आपको बता दें कि गोमिया के पूर्व विधायक योगेंद्र प्रसाद ने मौके पर पहुंचकर पुलिस को सूचना दी थी. अब तक  हत्या के कारणों का पता नहीं चल सका है. महुआटांड पुलिस मामले की पड़ताल में जुटी हुई है. 



 

अधिक खबरें
प्रदेश में बिना लाइसेंस के चल रहे है 76 अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग मौन
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:57 AM

झारखंड में तेजी से अस्पताल और नर्सिंग होम खुल रहे हैं. जिसमें से ज्यादातर अस्पताल व नर्सिंग होम स्वास्थ्य विभाग के गाइडलाइन की अनदेखी कर संचालित हो रहे है. ऐसे कई प्राइवेट हॉस्पिटल, नर्सिग होम और क्लिनिक हैं, जहां मरीजों की जिंदगी से बदस्तूर खिलवाड़ हो रहा है. ऐसे अस्पताल पर गाज गिर सकती है. राजधानी रांची में लगभग 712 हॉस्पिटल्स में से 50 प्रतिशत से ज्यादा अस्पताल ऐसे हैं, जिनका रजिस्ट्रेशन या तो फेल हो चुका है अथवा बिना लाइसेंस के ही इनका अवैध तरीके से संचालन किया जा रहा है.

उपायुक्त छवि रंजन ने हाईकोर्ट में दायर किया शपथ पत्र
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:28 AM

उपायुक्त छवि रंजन ने हाईकोर्ट में शपथ पत्र दायर किया है. अदालत के आदेश के अनुसार शपथ पत्र दायर किया है. अधिवक्ता इंद्रजीत सिन्हा के माध्यम व्यक्तिगत रूप से शपथ पत्र दायर किया. दर्ज शपथ पत्र में अपने ऊपर दर्ज मुक़दमों का डीसी छवि रंजन ने ब्योरा दिया है. शपथ पत्र में एक मुक़दमे का ब्योरा दिया है. साथ ही अपने ऊपर चल रहे विजिलेंस केस की जानकारी भी दी है.

आदिवासी धर्म कोड नहीं तो वोट नहीं का आह्वान, कल राष्ट्रपति से मिलेंगे देश भर के आदिवासी शिष्टमंडल
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:27 AM

आदिवासी धर्म कोड नहीं तो वोट नहीं के आह्वान के साथ आज अखिल भारतीय आदिवासी धर्म परिषद की बैठक आज गांधी पीस फाउंडेशन नई दिल्ली में काशी नाथ गौड़ की अध्यक्षता में बैठक संपन्न हुई. बैठक में आदिवासी धर्म कोड लागू पर चर्चा की गयी. कल इस मसले पर राष्ट्रपति से परिषद के लोग मिलेंगे.

झामुमो ने एक साथ केंद्र सरकार, इलेक्शन कमीशन और निशिकांत पर किया हमला
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 6:07 PM

झामुमो आज एक साथ केंद्र सरकार, इलेक्शन कमीशन और गोड्‌डा सांसद निशिकांत दूबे पर बड़ा हमला किया है. पार्टी वरिष्ठ नेता सुप्रियो भट्‌टाचार्य ने आज पार्टी कार्यालय में आयोजित एक प्रेस वार्ता में कहा कि जब भाजपा राजनैतिक तौर कहीं पराजित होती है तो वहां पर किसी न किसी तरह से सरकार को परेशान और अस्थिर करने का प्रयास करती है. पहले बंगाल में एक महिला को परेशान किया गया, जब वहां नहीं सके तो केंद्रीय एजेंसी के माध्यम से एक महिला सीएम को परेशान करने का प्रयास किया जाता रहा है.

जांच में खुलासा: कोल कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए गायब कर दिए वित्तीय दस्तावेज
मई 23, 2022 | 23 May 2022 | 5:34 PM

झारखंड की पहचान जल, जंगल और जमीन थी. मगर कुछ लालची अफसरों की वजह से अब इस राज्य की पहचान धूमिल हो रही है. भ्रष्टाचार, कमिशनखोरी और अवैध कारोबार से प्रदेश का नाम जुड़ रहा है. ऐसे में वन विभाग का एक बड़ा मामला सामने आया है. वन विभाग के अफसरों ने कोल कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए वित्तीय दस्तावेज गायब कर दिया.