Tuesday, Jan 31 2023 | Time 22:08 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • अडाणी समूह और एलआईसी ऑफ इंडिया के संबंध पर LIC ने जारी किया प्रेस रिलीज
  • अडाणी समूह और एलआईसी ऑफ इंडिया के संबंध पर LIC ने जारी किया प्रेस रिलीज
  • अडाणी समूह और एलआईसी ऑफ इंडिया के संबंध पर LIC ने जारी किया प्रेस रिलीज
  • अगर आप भी जिंदगी में सफल होना चाहते है तो लोगों को कहना सीखें 'NO'
  • अगर आप भी जिंदगी में सफल होना चाहते है तो लोगों को कहना सीखें 'NO'
  • अगर आप भी जिंदगी में सफल होना चाहते है तो लोगों को कहना सीखें 'NO'
  • आसाराम बापू को गांधीनगर सेशन कोर्ट ने सुनाई उम्र कैद की सजा
  • आसाराम बापू को गांधीनगर सेशन कोर्ट ने सुनाई उम्र कैद की सजा
  • और देखते ही देखते फ्लाईट में महिला हो गयी नग्न, जानिए आखिर क्यों यात्रियों के सामने उतारे अपने कपड़े
  • इलाज के नाम पर निकाले लड़की के अंग, जानिए कैसे मामूली रोग पर सौंपी लड़की की लाश
  • अगर आप पीछे की जेब में पर्स रखते है तो हो जाएं सावधान, आपका चलना-फिरना हो जाएगा मुश्किल
  • अगर आप पीछे की जेब में पर्स रखते है तो हो जाएं सावधान, आपका चलना-फिरना हो जाएगा मुश्किल
  • बजट के पहले 76 पैसे बढ़ी पेट्रोल की कीमत, रांची में काफी दिनों तक पेट्रोल की कीमतें रही 99 92 रुपये
  • पश्चिमी विक्षोभ ने गिराया तापमान, जानिए ठंडी हवा के साथ कैसा रहेगा रांची का मौसम
  • पश्चिमी विक्षोभ ने गिराया तापमान, जानिए ठंडी हवा के साथ कैसा रहेगा रांची का मौसम
NEWS11 स्पेशल


आजसू पार्टी की हुंकार, सरकार स्थानीय नीति को करे जल्द लागू

आजसू पार्टी की हुंकार, सरकार स्थानीय नीति को करे जल्द लागू
न्यूज़ 11, भारत

रांची. आजसू पार्टी  ने स्थानीय नीति को जल्द लागू करने की मांग राज्य सरकार से की है. इस मुद्दे पर आजसू सुप्रीमो सह विधायक सुदेश महतो ने कहा कि हेमंत सोरेन सरकार स्थानीयता के मुद्दे पर भ्रम न फैलाएं. राज्य सरकार खतियान आधारित स्थानीय नीति को जल्द लागू करें.पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो ने कहा है कि अगर जनभावना के अनुरूप स्थानीय नीति लागू करने पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन गंभीर हैं, तो सदन में कहे अनुसार उसे लागू करें. राज्य को भ्रम में रखने से उन्हें बचना चाहिए क्योंकि एक बार वे विधानसभा में कह चुके हैं कि 1932 के खतियान के आधार पर स्थानीय नीति लागू नहीं किया जा सकता. जबकि पांच सितंबर, 2022 को विधानसभा के विशेष सत्र में उन्होंने कहा कि स्थानीय नीति लागू करेंगे और ओबीसी को आरक्षण भी देंगे. आजसू प्रमुख ने कहा कि चुनाव में भी झामुमो ने वादा किया था कि नये सिरे से स्थानीय नीति लागू करेंगे, लेकिन सरकार के तीन साल होने को हैं. इस मुद्दे पर उनका रुख और रवैया स्पष्ट नहीं है. उन्होंने सवाल किया कि क्या झामुमो का वादा सिर्फ चुनावी वादा था.

 

विधायक सुदेश महतो ने कहा कि मुख्यमंत्री अगर सदन में कोई बात कहें, तो उसकी गंभीरता भी दिखनी चाहिए. स्थानीय नीति के साथ सरकार नियोजन नीति भी लागू करे, लेकिन स्थानीय नीति और नियोजन नीति को लेकर सत्ता की अगुवाई करने वाले झामुमो पर लोगों का विश्वास नहीं ठहरता. तब झामुमो के अतीत पर भी सवाल खड़े हो जाते हैं. अगर झामुमो चाहता, तो 1993 में झारखंड अलग राज्य बन जाता, लेकिन उसने सौदे की राजनीति चुनी.

 

उन्होंने कहा कि स्थानीय नीति लागू करने में 1932 का खतियान केंद्र में रहना चाहिए, जबकि अंतिम सर्वे को इसका आधार बनाना होगा. आजसू पार्टी इस मुद्दे पर लगातार आवाज उठाती रही है और मौजूदा परिस्थितियों में सरकार पर दबाव बनाये रखने के लिए हम तत्पर हैं. 23 सितंबर को बिनोद बिहारी की जयंती के मौके पर पार्टी कार्यक्रम शुरू करने जा रही है. इसके तहत हर विधानसभा क्षेत्र से कार्यकर्ता राजधानी रांची पहुंचेंगे. रांची में पैदल मार्च करते हुए राजभवन जाएंगे. साथ ही राज्यपाल को एक स्मार पत्र सौपेंगे, ताकि सरकार को कम से कम याद रहे कि खतियान आधारित स्थानीय नीति इस राज्य की जरूरत और भावना से जुड़ा है. लिहाजा आजसू पार्टी निर्णायक लड़ाई लड़ेगी.

 

आजसू प्रमुख ने कहा कि राज्य स्तर पर जातीय जनगणना कराने के लिए हम लगातार मुखर रहे हैं, लेकिन सरकार ने कोई पहल नहीं की है. जातीय जनगणना के आधार पर ही राज्य में पिछड़ा वर्ग का आरक्षण तय होना चाहिए. जातीय जनगणना होने से राज्य की बड़ी आबादी की सामाजिक और आर्थिक हैसियत का भी पता चलेगा. जातीय जनगणना नहीं होने से पंचायत चुनाव में ओबीसी के हजारों पद पर चुनाव लड़ने से यह समुदाय वंचित रह गया. आगे निकाय चुनाव है.  ओबीसी आरक्षण पर राजनीति करने और मौके अनुसार बयान जारी करने के बदले जातीय जनगणना की सरकार घोषणा करे 

 

उन्होंने कहा कि जनगणना कॉलम में आदिवासियों के लिए जगह सुनिश्चित करने के लिए सरना कोड लागू करने की मांग भी आजसू की तरफ से लंबे समय से की जाती रही है. सदन से लेकर सड़क तक पार्टी के दिवंगत विधायक कमल किशोर भगत इसे उठाते रहे. पार्टी ने निर्णय लिया है कि एक प्रतिनिधिमंडल इस मुद्दे पर देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मिलकर उनका ध्यान दिलाएंगे.
अधिक खबरें
रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म और ट्रेन के बीच फंसी छात्रा, Video देखें
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 6:19 PM

इंसान अपनी जिंदगी से परेशान होकर खुद मौत के मुंह में जाने की कोशिश करता है लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है कि इंसान मौत में मुंह में जाकर भी बच निकलता है. कुछ ऐसा ही एक मामला आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम से सामने आया है जहां 7 दिसंबर को ट्रेन से उतरने के दौरान एक छात्रा ट्रेन और प्लेटफॉर्म के बीच फंस गई, गनीमत रही कि ट्रेन रेलवे ट्रैक पर रुकी हुई थी.

बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे मुकाबले के लिए भारतीय टीम में 3 बड़े बदलाव
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 5:14 AM

टीम इंडिया अभी बांग्लादेश दौरा पर है. बांग्लादेश सीरीज जीत चूका है. इसी बिच बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे मुकाबले के लिए भारतीय टीम में 3 बदलाव हुआ है. कप्तान रोहित शर्मा अंगूठे की चोट के चलते इस मुकाबले से बाहर हो गए हैं. इसके साथ ही कुलदीप सेन और दीपक चाहर भी इस आखिरी वनडे का हिस्सा नहीं होंगे.

साहिबगंज डीएसपी राजेंद्र दुबे पहुंचे ईडी दफ्तर, पूछताछ शुरू
दिसम्बर 09, 2022 | 09 Dec 2022 | 3:55 AM

साहेबगंज के पुलिस उपाधिक्षक राजेंद्र दुबे प्रवर्तन निदेशालय (इडी) के क्षेत्रीय कार्यालय में शुक्रवार को उपस्थित हुए. इन पर राजेंद्र आर्युविज्ञान संस्थान के कॉटेज में इलाजरत सजायाफ्ता पंकज मिश्रा से फोन पर बातचीत करने का आरोप लगा है. उन्हें इडी ने समन कर 8 दिसंबर को बुलाया था.

आजसू पार्टी की हुंकार, सरकार स्थानीय नीति को करे जल्द लागू
सितम्बर 13, 2022 | 13 Sep 2022 | 8:01 PM

आजसू पार्टी ने स्थानीय नीति को जल्द लागू करने की मांग राज्य सरकार से की है. इस मुद्दे पर आजसू सुप्रीमो सह विधायक सुदेश महतो ने कहा कि हेमंत सोरेन सरकार स्थानीयता के मुद्दे पर भ्रम न फैलाएं. राज्य सरकार खतियान आधारित स्थानीय नीति को जल्द लागू करें.

सामूहिक सहयोग से ही फाइलेरिया और कालाजार पर लगेगी रोक
सितम्बर 13, 2022 | 13 Sep 2022 | 7:28 PM

फाइलेरिया एक ऐसी चुनौती है, जो अर्थव्यवस्था को प्रभावित कर वैश्विक कल्याण में बाधा डालती है. इस चुनौती से निबटने के लिए सभी को मिलकर काम करना होगा. सामूहिक प्रयासों का ही नतीजा है कि राज्य में फाइलेरिया और कालाजार के मरीजों की संख्या में निरंतर कमी दर्ज की जा रही है. इसमें मीडिया की भूमिका सबसे अहम है.