Wednesday, Aug 10 2022 | Time 05:27 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
क्राइम


दलाल के झांसे में काम पर गए 16 मजदूर आंध्र, श्रम विभाग कराया मुक्त

अच्छा काम दिलाने का किया था वादा, भेज दिया आईस आईलैंड टापू, होता था शोषण
दलाल के झांसे में काम पर गए 16 मजदूर आंध्र, श्रम विभाग कराया मुक्त
रांची: झारखंड सरकार के लाख प्रयास के बावजूद माइग्रेट मजदूरों का शोषण कम होता नही दिख रहा है. झारखंड से प्रवासी मजदूरों का दलालों के माध्यम से बाहर ले जाना और फिर वहां जाकर ठगा जाना, शोषण जारी है. नया मामला चाईबासा के 16 मजदूरों का आया है. चाईबासा से 16 मजदूरों के समुह को रमेश नामक मजदूर ठेकेदार 15  दिन पहले अच्छा काम दिलाने के नाम पर आंध्रप्रदेश लेकर गया. लेकिन, मजदूरों का कहना है कि रमेश ठेकेदार ने सभी मजदूरों को वहां पहुंचने पर इधर उधर कभी विशाखापत्तनम तो कभी कहीं लेकर घुमाता रहा और अंत में आईस आईलैंड टापू में मछली पालन के काम में लगा दिया.

आंध्र प्रदेश के स्थानीय समाजसेवी के मदद से मजदूर मुक्त कराए गए

 समाजसेवी गौरीशंकर यादव आंध्र प्रदेश में राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष हैं. उनकी ही टीम ने आंध्र प्रदेश पुलिस और श्रम विभाग के पदाधिकारियों को इसकी सूचना दी था. तब पुलिस और श्रम विभाग की टीम ने छापामारी कर झारखंड के सभी बंधक बनाए गए मजदूरों को मुक्त कराया. इधर झारखंड श्रम विभाग राज्य प्रवासी श्रमिक नियंत्रक कक्ष ने आंध्र प्रदेश के सभी संबंधित पदाधिकारियों से लगातार संपर्क बनाये रखा. इस घटना की सूचना श्रम अधीक्षक ने इस घटना की जानकारी राज्य प्रवासी श्रमिक नियंत्रण कक्ष कंट्रोल रुम को दिया था. कंट्रोल रुम ने आंध प्रदेश गौरीशंकर यादव नामक समाजसेवी से संपर्क किया और मदद के लिये आगे आया. समाजसेवी गौरीशंकर ने इस संबंध में कंट्रोल रूम से आंध्र प्रदेश राज्य के डीजीपी डीआईजी और अन्य पदाधिकारियो संग कांफ्रेस कर बात भी कराया. कंट्रोल रूम ने सारी जानकारी पुलिस अधिकारियों तथा श्रम अधीक्षक से बात की. अभी सभी मजदूर रिहा हो चुके हैं. मजदूरों को राज्य प्रवासी श्रमिक नियंत्रक  कक्ष कंट्रोल  रूम ने पन्द्रह दिनों का कुल मेहताना 48000/ रू भुगतान करा दिया है. सभी मजदूर विजयवाड़ा स्टेशन से 2 नवंबर को सुबह ट्रेन से वापस वापस आए. सभी सकुशल मजदूरों ने एक वीडियो बनाकर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और राज्य प्रवासी श्रमिक नियंत्रण कक्ष कंट्रोल  रूम के कर्मियो को धन्यवाद दिया है.

जानवरों की तरह 24 घंटे लिया जाता था काम, विरोध करने पर दी जाती थी गालियां

मजदूरों ने बताया कि वहां टापू में हम सभों से 24 घंटा काम लिया जाने लगा.रात को भी उठाया जाता था और  काम नहीं जाने पर मालिक धक्का मुक्की करता था. मां बहन की गालियां भी देता था. मजदूरों ने बताया कि उस टापू में साफ पानी भी पीने का नहीं मिलता था और सभों को गंदा पानी पीना पड़ता था.इन सभी कारणों से सभी मजदूरों ने ठेकेदार रमेश से कहा कि सभी वापस जाना चाहते हैं. इसपर मालिक ने सभी मजदूरों से गाली ग्लौज किया था और जितना काम हमने किया उसका पैसा भी नहीं दिया और बंधक बना कर रख लिया था.मजदूरों ने बताया कि मालिक ने सभी मजदूरों को कृष्णा नदी के पास बंधक बनाकर रख लिया था और दिन में एकबार ही खाना दिया जाता था.

 

अधिक खबरें
रांची के खादगढ़ा बस स्टैंड में खुलेआम फायरिंग कर दहशत फैलाने की कोशिश नाकाम
अगस्त 08, 2022 | 08 Aug 2022 | 2:10 PM

राजधानी रांची के लोअर बाजार थाना क्षेत्र स्थित खादगढ़ा बस स्टैंड में सोमवार को दिन में दहशत फैलाने के लिए फायरिंग की गई. फायरिंग के बाद अपराधी भागने की फिराक में था, लेकिन आसपास खड़े लोगों ने फायरिंग करने वाले युवक को पकड़ लिया.

अधिवक्ता राजीव कुमार मामले में ईडी के उप निदेशक को पूछताछ के लिए भेजा नोटिस
अगस्त 08, 2022 | 08 Aug 2022 | 12:36 PM

हाई कोर्ट के गिरफ्तार अधिवक्ता राजीव कुमार मामले में अब प्रवर्तन निदेशालय के पूर्व निदेशक से पूछताछ करेगी. ईडी के पूर्व उप निदेशक को बंगाल पुलिस ने इस बाबत पूछताछ के लिए नोटिस भेजा है.

रांची एयरपोर्ट को बम से उड़ाने की धमकी देने वाला बदमाश गिरफ्तार
अगस्त 08, 2022 | 08 Aug 2022 | 11:22 AM

रांची के बिरसा मुंडा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले बदमाश को पुलिस मे गिरफ्तार कर लिया है. धमकी देने वाले व्यक्ति को पुलिस ने बिहार के नालंदा जिले से गिरफ्तार किया.

ईडी ने बच्चू यादव से पूछताछ के दौरान किए कई खुलासे
अगस्त 07, 2022 | 07 Aug 2022 | 1:06 AM

मां शीतला स्टोन वर्क्स के मालिक बच्चू यादव डांस पार्टी आयोजित करने और महंगे गहनों के शौकिन व्यक्ति हैं. उसे सोने के जेवरात पहनने का शौक भी था. प्रवर्तन निदेशालय को अब तक जो जांच में पचा चला है,

10 अगस्त तक पुलिस हिरासत में भेजे गये अधिवक्ता राजीव कुमार
अगस्त 07, 2022 | 07 Aug 2022 | 11:32 AM

झारखंड हाइकोर्ट के अधिवक्ता राजीव कुमार को शनिवार को बैंकशाल कोर्ट में फिर से पेश किया गया. अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फिर से राजीव कुमार को 10 अगस्त तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है.