Friday, Feb 26 2021 | Time 15:59 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में दर्ज की शिकायत
  • ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में दर्ज की शिकायत
  • झारखंड विधानसभा के बजट सत्र की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित
  • झारखंड विधानसभा के बजट सत्र की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित
  • झारखंड विधानसभा के बजट सत्र की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित
  • झारखंड विधानसभा के बजट सत्र की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित
  • झारखंड विधानसभा के बजट सत्र की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित
  • झारखंड विधानसभा के बजट सत्र की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित
  • लालू यादव का जेल मैनुअल उल्लंघन मामला, थोड़ी देर में हाई कोर्ट में होगी सुनवाई
  • लालू यादव का जेल मैनुअल उल्लंघन मामला, थोड़ी देर में हाई कोर्ट में होगी सुनवाई
  • EC ने शाम 4 30 बजे बुलाई PC, 5 राज्यों में चुनाव की तारीखों का हो सकता ऐलान
  • झारखंड विधानसभा के बजट सत्र का आगाज
  • झारखंड विधानसभा के बजट सत्र का आगाज
  • Covid-19 ने देश में फिर पकड़ी रफ्तार, कई राज्यों में Corona के नए मामले आए सामने
  • Covid-19 ने देश में फिर पकड़ी रफ्तार, कई राज्यों में Corona के नए मामले आए सामने
देश-विदेश


सुशांत को किया गया करोड़ों का पेमेंट? प्रोड्यूसर विजान बोले- हमने नहीं दिए पैसे

सुशांत को किया गया करोड़ों का पेमेंट? प्रोड्यूसर विजान बोले- हमने नहीं दिए पैसे

सुशांत सिंह राजपूत केस में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के हाथ एक सुराग लगा था, जिसे प्रोड्यूसर दिनेश विजान और उनके प्रोडक्शन हाउस Maddock Films से जोड़ा जा रहा है. बताया जा रहा है कि सुशांत को 17 करोड़ रुपये की रकम दी गयी थी और यह फिल्म 'राब्ता' के लिए थी. अब इस मामले पर दिनेश विजान ने अपना बयान जारी किया है.


दिनेश विजान और प्रोडक्शन हाउस की तरफ से आया बयान


दिनेश विजान ने अपने प्रोडक्शन हाउस Maddock Films की तरफ से बताया है कि उन्होंने कोई पैसे सुशांत को नहीं दिये थे. स्टेटमेंट में कहा गया है, ''Maddock Films ने सुशांत सिंह राजपूत को हंगरी में कोई पेमेंट नहीं की. और Maddock ने एक्टर से फीस या किसी अन्य तरह से हंगरी में 17 करोड़ रुपये की पेमेंट ली भी नहीं थी, जैसा कि आपके आर्टिकल में बताया गया है.


हमने सुशांत को फिल्म राब्ता के लिए पूरी पेमेंट उसी तरह की थी, जिस तरह उनके अग्रीमेंट में लिखा गया था और जिसे उन्होंने साइन किया था. और यह पेमेंट उन्हें भारत में दी गयी थी. हमने डिपार्टमेंट (ईडी) के पास इस पेमेंट के पुख्ता सबूत भी जमा करवाए थे. इस बात पर भी ध्यान दें कि हंगरी में होने वाली शूटिंग के लिए सारी फंडिंग और पैसों का लेनदेन टी-सीरीज ने हैंडल किया था. इस बात की पुष्टि आप टी-सीरीज से कर भी सकते हैं. 


Maddock Films एक ज़िम्मेदार फिल्ममेकर है और हम देश के नियम और कानूनों के अनुसार काम करते हैं. इंडिया टुडे हमेशा सच के साथ खड़ा रहा है और हमें उम्मीद है कि आपके साथ सही तथ्य शेयर करने से आप सही रिपोर्टिंग करेंगे. हमें नहीं पता कि हम इस मामले के बारे में अभी बात कर सकते हैं या नहीं, लेकिन किसी भी विवाद से बचने के लिए हम साफ कर दें कि हम एजेंसी का हर तरह से साथ दे रहे है और उन्हें सभी जरूरी जानकारी दे चुके हैं. हमारी यही प्रार्थना है कि किसी भी प्रकार की गलत जानकारी फैलाने से बचें. 


आपको यह भी बता दें कि दिनेश विजान को कुछ दिन पहले ही भारत वापस आना था. उन्होंने यात्रा से पहले अपना कोविड-19 का टेस्ट करवाया था, जो पॉजिटिव आया है. इस वजह से वह यात्रा नहीं कर सके. वह जल्द ही ठीक होकर भारत वापस आयेंगे. वह और Maddock Films अधिकारियों के साथ पूरी तरह सहयोग कर रहे हैं. हम आपसे फिर आग्रह करते हैं कि अगर आप दिनेश विजान या Maddock Films के नाम पर कोई स्टोरी करते हैं तो हमारे इस बयान को मेंशन जरूर करें.''

अधिक खबरें
Covid-19 ने देश में फिर पकड़ी रफ्तार, कई राज्यों में Corona के नए मामले आए सामने
फरवरी 26, 2021 | 26 Feb 2021 | 7:30 AM

महाराष्ट्र में लगातार दूसरे दिन कोरोना वायरस के आठ हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए.

24 घंटे में हटाना होगा आपत्तिजनक कंटेंट, सोशल मीडिया और ओटीटी के लिए गाइडलाइंस जारी
फरवरी 25, 2021 | 25 Feb 2021 | 5:54 PM

भारतीय केंद्र सरकार ने गुरुवार को सोशल मीडिया और ओवर-द-टॉप (OTT) प्लेपटफॉर्म्सफ के लिए गाइडलाइंस जारी की है

रांची में सेना में बहाली का आयोजन, झारखंड के सभी 24 जिलों के लिए होगी बहाली
फरवरी 25, 2021 | 25 Feb 2021 | 8:27 AM

शहर के मोरहाबादी मैदान में 10 मार्च 2021 से सेना बहाली का आयोजन किया जा रहा है. इसमें झारखंड राज्य के 24 जिले के योग्य पुरुष उम्मीदवारों भाग ले सकते हैं.

फिर रूला रहा प्याज नासिक और गुजरात से की जा रही प्याज की पूर्ती
फरवरी 24, 2021 | 24 Feb 2021 | 2:29 PM

जरा अदब से नाम लीजिए साहब...मैं प्याज बोल रहा हूं. लौकी, भिंडी, परवल, गोभी, टमाटर से ऊपर हैसियत है हमारी. पेट्रोल-डीजल की तरह शतक तो नहीं मारा, लेकिन पहले कई बार सेंचुरी लगा चुका हूं.