Monday, Sep 21 2020 | Time 14:27 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • नियोजन नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखंड HC का फैसला, नियुक्त शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया रद्द करने आदेश
  • नियोजन नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखंड HC का फैसला, नियुक्त शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया रद्द करने आदेश
  • नियोजन नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखंड HC का फैसला, नियुक्त शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया रद्द करने आदेश
  • सहायक पुलिसकर्मियों के आंदोलन में फुट, कई सहायक पुलिसकर्मी मोराबादी मैदान से हुए रवाना
  • सहायक पुलिसकर्मियों के आंदोलन में फुट, कई सहायक पुलिसकर्मी मोराबादी मैदान से हुए रवाना
  • सहायक पुलिसकर्मियों के मामले में सीएम ने कहा- यह पूर्व की सरकार का पाप है, सहनशीलता का परिचय ना लिया जाए
  • सहायक पुलिसकर्मियों के मामले में सीएम ने कहा- यह पूर्व की सरकार का पाप है, सहनशीलता का परिचय ना लिया जाए
  • India China Border : भारतीय सेना ने 6 प्रमुख चोटियों पर किया कब्जा, ऊंचाई से चीन पर नजर रखना होगा आसान
  • संसद के मॉनसून सत्र का आज आठवां दिन, हंगामा करने वाले 8 सांसद निलंबित
  • संसद के मॉनसून सत्र का आज आठवां दिन, हंगामा करने वाले 8 सांसद निलंबित
  • कोडरमाः कार और बाइक की टक्कर में 1 की मौत, दो घायल
  • कोडरमाः कार और बाइक की टक्कर में 1 की मौत, दो घायल
  • बीजेएम नेता पर रंगदारी नहीं देने पर हुई फायरिंग, थानेदार के बेटे ने चलाई गोली
  • बीजेएम नेता पर रंगदारी नहीं देने पर हुई फायरिंग, थानेदार के बेटे ने चलाई गोली
  • IPL 2020, DC vs KXIP 2020: दिल्ली ने सुपर ओवर में पंजाब को हराया
झारखंड » रांची


#Google सर्च कर ना करें मेडिसिन का सेवन, डॉक्टरों से जरूर लें परामर्श

#Google सर्च कर ना करें मेडिसिन का सेवन, डॉक्टरों से जरूर लें परामर्श
रांची : डॉक्टर गूगल की सलाह से कई लोग महत्वपूर्ण दवाइयां खा रहे हैं. जी हां इंटरनेट के बढ़ते प्रचलन की वजह से लोग डॉक्टरों की सलाह की जगह अब गूगल की सलाह से महत्वपूर्ण दवाईयां खासकर एंटीबायोटिक मेडिसिन का सेवन कर रहे हैं. जो मरीजों की सेहत के लिए बेहद खतरनाक है. आपको ये बता दें कि ये जरूरी नहीं कि इंटरनेट पर दी गयी सभी जानकारियां सही और सच हों.

 

दवाइयों में खासकर एंटीबायोटिक एक ऐसी दवा है, जो इंफेक्शन व कई गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाती है. लेकिन एंटीबायोटिक्स का अगर सही तरीके से इस्तेमाल नहीं किया गया, तो लाभ की जगह ये नुकसान पहुंचा सकती है. अगर आप जान लें कि एंटीबायोटिक्स कब इस्तेमाल करना चाहिए और कब नहीं, तो आप ख़ुद को व अपने परिवार को इसके खतरे से बचा सकते हैं. लोगों को यह पता ही नहीं होता कि एंटीबायोटिक का क्या इस्तेमाल है और कौन-कौन सी बीमारियों पर इसे लेना चाहिए. हल्की बीमारी होने पर भी लोग डॉक्टरी परामर्श छोड़कर गुगल व इंटरनेट की मदद से एंटीबायोटिक सर्च कर इसका सेवन करते हैं. यह काफी खतरनाक है.

 


 

कभी भी बीमार पडऩे की स्थिति में डॉक्टर से परामर्श लेना कि सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है. किसी भी बीमारी के जांच रिपोर्ट आने के बाद ही किसी तरह के दवाइयों का इस्तेमाल करना चाहिए. क्योंकि डॉक्टर भी मानते है किसी किसी भी दवाइयों का ज्यादा सेवन कुछ समय के बाद उस मानव शरीर मे काम करना बंद कर देता है और ऐसे में जरूरी नहीं की इंटरनेट पर ली गई जानकारी वास्तविक जीवन में सही तरीके के सफल हो जाए.

 

एंटीबायोटिक्स सबसे ज़्यादा प्रिस्क्राइब की जानेवाली दवा बन गई है. चूंकि इससे तुरंत आराम मिलता है, कई बार लोग खुद इसकी चाह रखते हैं. कई डॉक्टर भी जरूरी न होने पर भी एंटीबायोटिक्स लिख देते हैं. कुल मिलाकर दुनियाभर में एंटीबायोटिक्स का उपयोग की जगह दुरुपयोग हो रहा है. 

 
अधिक खबरें
नियोजन नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखंड HC का फैसला, नियुक्त शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया रद्द करने आदेश
सितम्बर 21, 2020 | 21 Sep 2020 | 2:06 PM

झारखंड सरकार द्वारा लागू नियोजन नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखंड हाइकोर्ट ने सोमवार को महत्वपूर्ण फैसला सुनाया है. कोर्ट ने राज्य सरकार के फैसले को गलत करार देते हुए अनुसूचित जिलों में नियुक्त शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया को रद्द करने का आदेश दे दिया है.

नियोजन नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखंड HC का फैसला, नियुक्त शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया रद्द करने आदेश
सितम्बर 21, 2020 | 21 Sep 2020 | 2:05 PM

झारखंड सरकार द्वारा लागू नियोजन नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखंड हाइकोर्ट ने सोमवार को महत्वपूर्ण फैसला सुनाया है. कोर्ट ने राज्य सरकार के फैसले को गलत करार देते हुए अनुसूचित जिलों में नियुक्त शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया को रद्द करने का आदेश दे दिया है.

सहायक पुलिसकर्मियों के मामले में सीएम ने कहा- यह पूर्व की सरकार का पाप है, सहनशीलता का परिचय ना लिया जाए
सितम्बर 21, 2020 | 21 Sep 2020 | 12:15 PM

मानसून सत्र के दूसरे दिन सदन में हंगामा जारी रहा. सदन की कार्यवाही शुरु होते ही विपक्ष नारेबाजी करती रही. मानसून सत्र के दूसरे दिन सहायक पुलिसकर्मियों के मुद्दे को उठाया गया. इस बीच बीजेपी विधायकों ने सहायक पुलिसकर्मियों पर हुए लाठीचार्ज के मुद्दे को लेकर कार्रवाई की मांग की है.

बीजेपी विधायकों का सदन के बाहर धरना, सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज मुद्दे को उठाया
सितम्बर 21, 2020 | 21 Sep 2020 | 11:10 AM

मानसून सत्र के दूसरे दिन बेजेपी विधायकों ने सदन के बाहर धरना पर बैठे है. इस दौरान उन्होंने भूखल खासी की कथित रूप से भूस से मौत मामले को उठाया है. इसके साथ ही सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज के मुद्दे पर बीजेपी धरना पर बैठी है

बीजेपी विधायकों का सदन के बाहर धरना, सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज मुद्दे को उठाया
सितम्बर 21, 2020 | 21 Sep 2020 | 11:10 AM

मानसून सत्र के दूसरे दिन बेजेपी विधायकों ने सदन के बाहर धरना पर बैठे है. इस दौरान उन्होंने भूखल खासी की कथित रूप से भूस से मौत मामले को उठाया है. इसके साथ ही सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज के मुद्दे पर बीजेपी धरना पर बैठी है