Sunday, Sep 20 2020 | Time 16:29 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • मंदिर मस्जिद बंद पड़े हैं, खुली हुयी है मधुशाला
  • मंदिर मस्जिद बंद पड़े हैं, खुली हुयी है मधुशाला
  • सिर में लगी थी चोट और डॉक्टरों ने निकाल ली किडनी, सैमफोर्ड अस्पताल में परिजनों का हंगामा
  • सिर में लगी थी चोट और डॉक्टरों ने निकाल ली किडनी, सैमफोर्ड अस्पताल में परिजनों का हंगामा
  • मानवता फिर हुई शर्मसार, लावारिस हालत में मिला नवजात
  • मानवता फिर हुई शर्मसार, लावारिस हालत में मिला नवजात
  • मानवता फिर हुई शर्मसार, लावारिस हालत में मिला नवजात
  • मानवता फिर हुई शर्मसार, लावारिस हालत में मिला नवजात
  • मानवता फिर हुई शर्मसार, लावारिस हालत में मिला नवजात
  • IPL-2020 DC vs KXIP : आज दिल्ली कैपिटल्स और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच होगी कांटे की टक्कर
  • सड़क दुर्घटना के दौरान डायल करें 1033 टोल फ्री नंबर, 5-7 मिनट में घटनास्थल पहुंचेगी एंबुलेंस
  • सड़क दुर्घटना के दौरान डायल करें 1033 टोल फ्री नंबर, 5-7 मिनट में घटनास्थल पहुंचेगी एंबुलेंस
  • झारखंड में मौसम का मिजाजः कई जिलों में बारिश का अलर्ट, वज्रपात की भी संभावना
  • झारखंड में मौसम का मिजाजः कई जिलों में बारिश का अलर्ट, वज्रपात की भी संभावना
  • Jharkhand Corona Update: 24 घंटे में 1228 नए मामले, अब तब 615 लोगों की मौत
स्वास्थ्य


कोरोना काल में रखें अपने स्‍वास्‍थ्‍य का ध्यान, मुंह से सांस न लें, हो सकती हैं ये परेशानियां

कोरोना काल में रखें अपने स्‍वास्‍थ्‍य का ध्यान, मुंह से सांस न लें, हो सकती हैं ये परेशानियां
भारत समेत दुनिया के तमाम देशों के लोगों ने कोरोना के साथ जीने की आदत भी डाल ली है. कोरोना महामारी के बीच दिनभर मास्क लगाने से लोगों को नाक से सांस लेने में परेशानी होती है. ऐसे में लोग मुंह से सासं लेते है, जबकि ऐसा करना आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है.

इस बीच सांस लेने के लिए फेफड़ों(Lungs) को मजबूत करने के लिए घरेलू नुस्खों के साथ योग और प्राणायाम को अपना रहे हैं. कोरोना संक्रमण के दौरान सबसे ज्यादा मरीज को सांस लेने में दिक्कत होती है, इसलिए यदि सांस लेने के सही नियम को लोग जान लें तो फेफड़ों को स्वस्थ रख सकते हैं. 

 

नाक से ही सांस क्यों लेनी चाहिए ?

यूं तो लोग नाक से ही सांस लेते हैं, लेकिन कई लोग सोते समय मुंह से सांस लेते हैं. वहीं कुछ लोग दिन में भी कई बार मुंह से सांस लेते हैं. नाक से सांस लेने पर हवा के साथ ऑक्सीजन फेफड़ों में जाती है, इसलिए नाक से सांस लेना ज्यादा फायदेमंद होता है, जबकि मुंह से सांस लेने पर पूरी हवा पेट में जाती है. ऐसे में फेफड़ों को भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है.

 

इसका एक अन्य कारण यह भी है कि नाक से सांस लेने पर हवा में मौजूद धूल कण और रेशे श्वास नली में नहीं जा पाते हैं.नाक में मौजूद बाल कई अवांछित कणों को श्वास नली में जाने से रोक देते हैं. वहीं मुंह से सांस लेने पर धूल कण और गंदगी भी शरीर के अंदर चली जाती है, जिससे संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है.

 

नाक से सांस लेने के फायदे

जिन लोगों को हर समय नाक से सांस लेने की आदत होती है, उन्हें अस्थमा और खर्राटे लेने की समस्या कम होती है. बदलते मौसम के कारण प्रदूषित हवा नाक से सांस लेने पर सीधे शरीर में नहीं पहुंच पाती है. इसके अतिरिक्त नाक से सांस लेने से एलर्जी की समस्या भी कम होती है.जो लोग मुंह से सांस लेते हैं, उन लोगों को खर्राटे लेने की समस्या हो सकती है. मुंह से सांस लेने पर सीने में भारीपन की समस्या हो सकती है. मानसिक थकान महसूस होती है. जो लोग मुंह 

 
अधिक खबरें
डॉ उमाशंकर वर्मा ने तंबाकू के दुष्‍प्रभाव के प्रति लोगों को किया जागरूक, कहा- तम्बाकू के इस्तेमाल से बचने का लें संकल्प
मई 31, 2020 | 31 May 2020 | 10:30 PM

विश्‍व तंबाकू निषेध दिवस के मौके पर यूएस पॉली क्‍लीनिक के मुख्‍य चिकित्सा निदेशक और बिरसा कृषि विश्वविद्यालय रांची के मुख्‍य चिकित्सा पदाधिकारी उमाशंकर वर्मा ने जागरुकता अभियान चलाया.

यूएस पॉलीक्लिनिक में मनाया गया वर्ल्ड हैंड हाइजीन डे, लोगों को किया गया जागरुक
मई 05, 2020 | 05 May 2020 | 8:12 PM

रांची : 5 मई को हर वर्ष वर्ल्ड हैंड हाइजीन डे पूरे विश्व में मनाया जाता है.

Corona Big Breaking : रांची के हिंदपीढ़ी से 3 और बेड़ो से 1 कोरोना +ve मरीज की पुष्टी, झारखंड में कुल संख्‍या हुई 53
अप्रैल 23, 2020 | 23 Apr 2020 | 5:36 PM

रांची : झारखंड में कोरोना का कहर कम होने का नाम नहीं ले रहा है.