Friday, Feb 28 2020 | Time 11:00 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • हावड़ा-हटिया एक्सप्रेस ट्रेन से कटकर हाथी की दर्दनाक मौत
  • कृप्‍या ध्‍यान दें, आज से 50 प्रतिशत होगी बिजली कटौती, ये जिले होंगे प्रभावित
  • झारखंड विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरु, बाबूलाल सदन में नहीं होंगे नेता प्रतिपक्ष
  • झारखंड विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरु, बाबूलाल सदन में नहीं होंगे नेता प्रतिपक्ष
झारखंड


कनहर बराज प्रोजेक्ट के सभी जरूरी काम तय समय सीमा में निपटाए : मुख्य सचिव

कनहर बराज प्रोजेक्ट के सभी जरूरी काम तय समय सीमा में निपटाए : मुख्य सचिव
रांची : राज्य के गढ़वा और पलामू जिलों के खेतों की सिंचाई के लिए बन रही कनहर बराज परियोजना के कार्यों को तेज करने का निर्देश मुख्य सचिव डॉ डीके तिवारी ने दिया है. उन्होंने बराज के सभी प्राथमिक कार्यों की समय सीमा तय की और अधिकारियों को निर्देश दिया कि तय समय सीमा के भीतर अनुपालन सुनिश्चित करें. साथ ही, छत्तीसगढ़ और झारखंड के जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता को आपस में मिलकर दोनों राज्यों की सीमा पर स्थित जमीन की मालिकाना स्थिति 28 फरवरी तक स्पष्ट कर संयुक्त रिपोर्ट देने का निर्देश दिया. मुख्य सचिव झारखंड मंत्रालय में कनहर बराज प्रोजेक्ट की गतिविधियों की समीक्षा कर रहे थे. मालूम हो कि प्रोजेक्ट से जुड़ी 58.01 हेक्टेयर जमीन को झारखंड छत्तीसगढ़ की सीमा में मान रहा है, लेकिन छत्तीसगढ़ का कहना है कि यह जमीन 79.55 हेक्टेयर है. सीमा रेखा पर स्थित इस जमीन की वास्तविक स्थिति स्पष्ट नहीं होने से भी प्रोजेक्ट का काम में अपेक्षा के अनुरूप प्रगति नहीं हो पा रही है.

प्रोजेक्ट की पूरी जमीन की स्थिति स्पष्ट कर लें


कनहर बराज प्रोजेक्ट के लिए पलामू और गढ़वा जिले में कुल 1019 हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी. उसमें से 866.62 हेक्टेयर जमीन की वास्तविक स्थित ज्ञात हो चुकी है. दोनों जिला के उपायुक्तों ने समीक्षा के दौरान बताया की चिह्नित जमीन में से 90 प्लाटों की प्रकृति स्पष्ट होनी बाकी है. मुख्य सचिव ने तीन फरवरी तक पूरी जमीन की स्थिति स्पष्ट करने का निर्देश उपायुक्तों को दिया. वहीं जमीन की प्रकृति स्पष्ट कर जंगल-झाड़ से जुड़ी जमीन को फॉरेस्ट क्लीयरेंस के लिए वन विभाग को ऑनलाइन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया. जल संसाधन विभाग तथा वन विभाग को निर्देश दिया गया कि फॉरेस्ट क्लीयरेंस से संबंधित जमीन पर स्थित पेड़ों के चिह्नितीकरण का काम 30 अप्रैल तक आपस में तालमेल कर पूरा कर लें. 


प्रोजेक्ट का सर्वाधिक लाभ गढ़वा को मिलेगा


छत्तीसगढ़ से झारखंड में प्रवेश करनेवाली कनहर नदी पर बराज बनने से इसका सर्वाधिक लाभ गढ़वा जिले के किसानों को होगा. गढ़वा के भवनाथपुर, विशुनपुर, चिनिया, डंडई, धुरकी, गढ़वा, कांडी, केतार, मझिआंव, मेराल, नगर उंटारी, रमना, रंका और पलामू के चैनपुर प्रखंड के खेतों को बराज के पानी से सिंचित करने की योजना है.


बैठक में ये थे मौजूद


मुख्य सचिव डॉ डीके तिवारी की अध्यक्षता में संपन्न समीक्षा बैठक में जल संसाधन विभाग के अपर मुख्य सचिव अरूण कुमार सिंह, झारखंड और छत्तीसगढ़ के जलसंसाधन विभाग के अभियंता प्रमुख समेत अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे.

अधिक खबरें
कृप्‍या ध्‍यान दें, आज से 50 प्रतिशत होगी बिजली कटौती, ये जिले होंगे प्रभावित
फरवरी 28, 2020 | 28 Feb 2020 | 10:21 AM

बकाया को लेकर DVC बिजली कटौती करेगा. DVC के बिजली कटौती के कारण धनबाद, रांची, हजारीबाग, गिरिडीह, पूर्वी सिंहभूम, कोडरमा और पलामू होंगे प्रभावित. यहां के लोगों को बिजली कटौती की समस्‍या से जुझना पड़ेगा.

तीन मिनट देर पहुंची छात्रा, नहीं मिली परीक्षा देने की अनुमति, सीएम ने लिया संज्ञान
फरवरी 28, 2020 | 28 Feb 2020 | 8:46 AM

रांची : गुरुवार को 12वीं की परीक्षा के दौरान केंद्र पर तीन मिनट देर से पहुंचना एक छात्रा को काफी महंगा पड़ गया.

CUJ का दीक्षा समारोह आज, नए भवन का उद्घाटन करेंगे राष्ट्रपति
फरवरी 28, 2020 | 28 Feb 2020 | 7:41 AM

रांची : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद दो दिवसीय दौरे पर आज रांची आ रहे हैं.

झारखंड विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरु, बाबूलाल सदन में नहीं होंगे नेता प्रतिपक्ष
फरवरी 28, 2020 | 28 Feb 2020 | 7:18 AM

रांची : झारखंड विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरू होगा, सत्र 28 मार्च तक चलेगा.

नेफ्रोलॉजिस्‍ट डॉक्‍टर तय करेंगे लालू एम्‍स जायेंगे या रिम्‍स में ही रहेंगे
फरवरी 27, 2020 | 27 Feb 2020 | 2:18 PM

रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती चारा घोटाला के सजायाफ्ता लालू प्रसाद के स्वास्थ्य की समीक्षा गुरुवार को की गई. लालू का इलाज कर रहे डॉ उमेश प्रसाद की टीम मेडिकल बोर्ड की बैठक में लालू प्रसाद के इलाज से संबंधित पूरी फाइलों के साथ चर्चा की.