Thursday, Nov 26 2020 | Time 12:48 Hrs(IST)
 logo img
" "; ";
  • Twitter पर आपको भी मिल सकता है Blue Tick, जानिए क्या है प्रोसेस
  • भारत बंद : बैंकिंग समेत कई सेवाओं पर पड़ेगा असर, घर से निकलने से पहले लें जानकारी
  • दिल्ली में आज किसानों का महाधरना, हरियाणा ने किया बॉर्डर सील, नोएडा-गुरुग्राम नहीं जाएगी मेट्रो
  • दिल्ली में आज किसानों का महाधरना, हरियाणा ने किया बॉर्डर सील, नोएडा-गुरुग्राम नहीं जाएगी मेट्रो
  • दिल्ली में आज किसानों का महाधरना, हरियाणा ने किया बॉर्डर सील, नोएडा-गुरुग्राम नहीं जाएगी मेट्रो
NEWS11 स्पेशल


धोनी के रिटायरमेंट प्लान का खुलासाः कैप्टन कूल अब कड़कनाथ मुर्गे की करेंगे फॉर्मिंग, 2 हजार चूजों का दिया ऑर्डर

धोनी के रिटायरमेंट प्लान का खुलासाः कैप्टन कूल अब कड़कनाथ मुर्गे की करेंगे फॉर्मिंग, 2 हजार चूजों का दिया ऑर्डर

रांचीः अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टीम से संन्यास ले चुके महेंद्र सिंह धोनी के रिटायरमेंट प्लान का खुलासा हुआ है. भारतीय टीम के सफलतम कप्तानों में शुमार कैप्टन कूल अब कड़कनाथ मुर्गे की फॉर्मिंग करने जा रहे हैं. धोनी अपने रांची स्थित फॉर्महाउस में कड़कनाथ मुर्गे की फार्मिंग करेंगे. इसके लिए माही ने झाबुआ के कड़कनाथ फार्मर से संपर्क कर 2 हजार चूजों का ऑर्डर दिया है.


मध्य प्रदेश के एक पोल्ट्री फार्म के मालिक का दावा है कि महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें कड़कनाथ प्रजाति के 2000 चूजों का ऑर्डर दिया है. उन्होंने कहा, "धोनी ने एक मित्र जो रांची वेटरनरी कॉलेज से हैं, उनसे पता लगाकर हमें संपर्क किया. उनकी 2000 चूजों की मांग है जिसे 15 दिसंबर तक भेजना है."


बता दें कि भारत की तरफ करीब 16 साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने वाले महेंद्र सिंह धोनी ने अगस्त 2020 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी थी. धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने साल 2007 में आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप, 2011 में वनडे वर्ल्ड कप और 2013 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी जीती है.


जानें कड़कनाथ मुर्गे की खासियत


दूसरी प्रजातियों के चिकन के मुकाबले कड़कनाथ के काले रंग के मांस में चर्बी और कोलेस्ट्रॉल काफी कम होता है, जबकि इसमें प्रोटीन की मात्रा अपेक्षाकृत कहीं ज्यादा होती है. कड़कनाथ चिकन में अलग स्वाद के साथ औषधीय गुण भी होते हैं. ये एक ऐसा मुर्गा है जिसमें 1.94 प्रतिशत फैट होता है जबकि दूसरे मुर्गों में 25 प्रतिशत होता है. वहीं कोलेस्ट्रॉल लेवल इसमें 59mg होता हो तो वहीं दूसरे मुर्गों में ये मात्रा 218mg होती है.


झाबुआ मूल के कड़कनाथ मुर्गे को स्थानीय जुबान में "कालामासी" कहा जाता है. इसकी त्वचा और पंखों से लेकर मांस तक का रंग काला होता है. देश की जियोग्राफिकल इंडिकेशन्स रजिस्ट्री "मांस उत्पाद और पोल्ट्री व पोल्ट्री मीट" की श्रेणी में कड़कनाथ चिकन के नाम भौगोलिक पहचान (GI) का चिन्ह भी पंजीकृत कर चुकी है. कड़कनाथ प्रजाति के जीवित पक्षी, इसके अंडे और इसका मांस दूसरी कुक्कुट प्रजातियों के मुकाबले महंगी दरों पर बिकता है.

अधिक खबरें
दिल्ली में आज किसानों का महाधरना, हरियाणा ने किया बॉर्डर सील, नोएडा-गुरुग्राम नहीं जाएगी मेट्रो
नवम्बर 26, 2020 | 26 Nov 2020 | 7:01 AM

देश की राजधानी दिल्ली में आज और कल पंजाब और हरियाणा के किसानों का विशाल प्रदर्शन होने वाला है. ये किसान केंद्र द्वारा हाल में पास किए गए कृषि कानूनों का व्यापक विरोध कर रहे हैं.

गृह मंत्रालय ने जारी की कोरोना की नई गाइडलाइन, 1 दिसंबर से लागू होंगे ये नियम
नवम्बर 25, 2020 | 25 Nov 2020 | 6:35 AM

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को लेकर गृह मंत्रालय ने नए गाइडलाइन जारी किए है. नए दिशा-निर्देश 1 दिसंबर से 31 दिसंबर तक प्रभावी रहेंगे. मुख्य फोकस #COVID19 के संक्रमण पर पाए गए काबू को मजबूत करना है.

इस हाथी ने 7 साल की उम्र में खो दिए थे अपने पैर, प्रोस्थेटिक लेग प्राप्त करने वाला बना पहला हाथी
नवम्बर 25, 2020 | 25 Nov 2020 | 6:06 AM

यह एक ऐसा हाथी है जिसने 7 साल की उम्र में अपने पैर खो दिए. जानकारी के अनुसार यह हाथी ने बर्मी सीमा पर एक बारुदी सुरंग के लिए अपना पैर खो दिया था. जिसे प्रोस्थेटिक लेग लगाया गया

Happy Tulsi Vivah 2020: तुलसी विवाह के जानें क्या है शुभ मूहुर्त, इस विधी से करें पूजा-पाठ
नवम्बर 25, 2020 | 25 Nov 2020 | 12:50 PM

आज यानी 25 नवंबर 2020 को देव उठनी एकादशी है. देव उठनी एकादशी में तुलसी विवाह का खास महत्व होता है. हिन्दू धर्म में कार्तिक मास की एकादशी का बहुत ही महत्व है.

रिश्ता वही सोच नईः 60% शादियों के लिए लाइव टेलीकास्ट के ऑर्डर, कार्ड में छापे जा रहे लिंक
नवम्बर 25, 2020 | 25 Nov 2020 | 12:14 PM

कोरोना काल में शादियों का ट्रेंड तो बदला ही है, मेहमानों की सीमित संख्या की सरकारी गाइडलाइन के चलते नवाचार भी होने लगे हैं. 50, 100 या 200 मेहमान बुलाने की विभिन्न शहरों की बाध्यता के कारण मेजबान नए सिरे से योजना बना रहे हैं.